Home देश प्रदूषण पर SC की तल्ख टिप्पणी, कहा- दम घोंटने से अच्छा है सबको बारूद से उड़ा दो।

प्रदूषण पर SC की तल्ख टिप्पणी, कहा- दम घोंटने से अच्छा है सबको बारूद से उड़ा दो।

2 min read
0
8
supreme-court-rejects-all-review-petition-on-ayodhya-case

राजधानी दिल्ली में प्रदूषण को लेकर सत्तापक्ष औऱ विपक्ष एक दूसरे पर आरोप- प्रत्यारोप में उलझी हुई है। लेकिन प्रदूषण से कैसे निपटा जाय इसे लेकर किसी भी राजनीतिक पार्टी को शायद फिक्र नहीं है। यही वजह है कि सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण को लेकर केंद्र औऱ दिल्ली दोनों ही सरकार को फटकार लगाई है।

कोर्ट ने मामले को खुद ही संज्ञान में लेते हुए कहा कि, राजधानी दिल्ली की हालत नरक से भी खराब है। कोर्ट ने कहा कि दिल्ली की जनता को ऐसे ही मरने के लिए नहीं छोड़ा जा सकता है। कोर्ट ने तो यहां तक कह दिया कि दम घोटकर मारने से अच्छा है सबको एक साथ ही बारूद से उड़ा दिया जाए।

आपको बता दें कि बीएसआई ने कहा था कि देश में सबसे ज्यादा प्रदूषित पानी राजधानी दिल्ली का है औऱ यह पीने योग्य नहीं है। इसके बाद केंद्र और राज्य सरकार के बीच भी आरोप- प्रत्यारोप का सिलसिला शुरू हो गया।

सुप्रीम कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी करते हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा कि, लोगों को गैस चेंबर में रहने के लिए क्यों मजबूर किया जा रहा है?

इससे तो अच्छा है कि लोगों को एक साथ ही मार दिया जाए। 15 बोरों में बारूद ले आइए औऱ सबको उड़ा दीजिए। लोगों को इस तरह क्यों घुटना पड़े? जिस तरह का ब्लेम गेम चल रहा है, इसे लेकर मुझे आश्चर्य हो रहा है।

पलूशन को लेकर SC ने सेंट्रल पलूशन कंट्रोल बोर्ड़ से दिल्ली में चल रही फैक्ट्रियों पर रिपोर्ट फाइल करने को कहा है जिसमें इसके दुष्प्रभाव का ब्यौरा दिया जाएगा। जस्टिस अरूण मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने सीपीसीबी से दिल्ली की तमाम फैक्ट्रियों पर रिपोर्ट देने को कहा है।

वहीं सुप्रीम कोर्रट ने पंजाब के चीफ सेक्रेटरी से कहा कि, हम लोगों के साथ ऐसे व्यवहार कैसे कर सकते हैं औऱ लोगों को मरने के लिए कैसे छोड़ा जा सकता है। उन्होंने कहा कि बताइए कि हमारे आदेश के बाद भी पराली जलाने में क्यों वृद्धि हुई है। क्या यह आपकी विफलता नहीं है?

कोर्ट ने सख्ती से कहा कि, पंजाब के सेक्रेटरी महोदय, हम राज्य में प्रदूषण के लिए उत्तरदायी सारे क्रियाकलाप रूकवा देंगे। आप लोगों को ऐसे मरने नहीं दे सकते हैं दिल्ली की सांस फूल रही है। लेकिन आप नियमों को लागू करने में सक्षम नहीं है। इसका मतलब यह नहीं है कि दिल्ली के लोग कैंसर से मर जाएं।

सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा सरकार से भी कहा कि पराली जलाने के मामले कैसे बढ़ गए हैं। एससी ने कहा कि, आपने पराली जलाने से रोकने के लिए अच्छा काम किया है तो ये मामले बढ़ कैसे गए? पंजाब औऱ हरियाणा दोनों ही कुछ नहीं कर रहे हैं।

Share Now
Load More In देश
Comments are closed.