1. हिन्दी समाचार
  2. mumbai
  3. शर्मनाक : सोती हुई बच्ची को शौचालय में उठाकर ले गया सैनिक, की रेप की कोशिश, चलती ट्रेन से फेंका

शर्मनाक : सोती हुई बच्ची को शौचालय में उठाकर ले गया सैनिक, की रेप की कोशिश, चलती ट्रेन से फेंका

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : गोवा-निजामुद्दीन एक्सप्रेस में एक बच्ची अपने परिवार के साथ दिल्ली जा रही थी। तभी ट्रेन में सवार कर रहा एक अन्य यात्री उसे सोती हुए देखकर उठाकर बाथरूम में ले जाता है, जहां वो उसके साथ रेप करने की कोशिश करता है। इस दौरान अचानक लड़की उठ जाती है और चिल्लाने लगती है। हालांकि आरोपी उसे चुप कराकर मां-पिता के पास ले जाने की बात कहता है, लेकिन बाथरूम से बाहर निकलते ही उसे चलती ट्रेन से बाहर फेंक देता है।

आपको बता दें कि ये घटना गोवा-निजामुद्दीन एक्सप्रेस में पश्चिमी महाराष्ट्र के सतारा जिले में लोनंद और सालपा रेलवे स्टेशनों के बीच हुई है।  वहीं आरोपी की पहचान एक सेना के एक जवान के रूप में हुई है।    

एजेंसियों की रिपोर्ट के मुताबिक, 33 वर्षीय जवान ने एक पूर्व सैनिक की आठ वर्षीय बेटी के साथ चलती ट्रेन के शौचालय में रेप करने की कोशिश की। लेकिन जब बच्ची मुकाबला करने लगी और चिल्लाने लगी तो पटरियों पर फेंक दिया। इसके बाद पुलिस ने बच्ची से आरोपी का विवरण लिया और उसकी तलाश में जुट गई।

राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) के पुलिस अधीक्षक (पुणे संभाग) सदानंद वायसे पाटिल ने कहा कि लड़की अपनी मां, पिता, बहन और भाई के साथ दिल्ली जा रही थी। उन्होंने कहा कि आरोपी की पहचान प्रभु मलप्पा उपहार के रूप में हुई है। जब बच्ची अपनी बर्थ पर सो रही थी, तब उसने कथित तौर पर लड़की को उठा लिया और उसे शौचालय में ले गया।

एसपी ने कहा कि जब आरोपी ने उसका यौन शोषण करने की कोशिश की, तो लड़की जाग गई और उसने चिल्लाना शुरू कर दिया। तब आरोपी ने लड़की से कहा कि वह उसे उसके माता-पिता के पास वापस ले जा रहा है, लेकिन शौचालय से बाहर आने के बाद उसने उसे चलती ट्रेन से नीचे धकेल दिया।

गनीमत यह रही कि ट्रेन धीमी गति से चल रही थी जिसके कारण लड़की को कम गंभीर चोटें आईं। मंगलवार की सुबह, कुछ स्थानीय लोगों ने उसे रेलवे ट्रैक पर पड़ा देखा और उसे अस्पताल ले गए। अस्पताल में, लड़की ने न केवल आपबीती सुनाई बल्कि पुलिस को आरोपी का विवरण भी दिया।

एसपी ने आगे बताया कि आदमी के विवरण के आधार पर हमने ट्रेन में तलाशी अभियान शुरू किया और आदेश दिया कि कोई भी ट्रेन से नीचे न उतरें। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आरोपी भाग न जाए, कम से कम 400 पुलिस और जीआरपी कांस्टेबल विभिन्न स्टेशनों पर ट्रेन में चढ़े। एसपी ने बताया कि तलाशी के दौरान, पुलिस ने कम से कम 30 यात्रियों की पहचान की, जिनका विवरण संदिग्ध से मेल खाता था। हमने चार संदिग्धों को शॉर्टलिस्ट किया। 30 में से और अंत में आरोपी की पहचान की। उसे हमने तब पकड़ा जब ट्रेन उत्तरी महाराष्ट्र में भुसावल के पास थी बाद में लड़की को उसके परिवार से मिला दिया गया। उपहार नाइक रैंक का जवान है और झांसी में तैनात है। जबकि लड़की के पिता एक रिटायर जवान है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads