Home उत्तर प्रदेश रामशंकर कठेरिया का अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को अल्टीमेटम

रामशंकर कठेरिया का अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को अल्टीमेटम

0 second read
0
84

अलीगढ़। बीजेपी सांसद व राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष प्रोफेसर राम शंकर कठेरिया ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में प्रवेश के लिए में आरक्षण देने की मांग आज बैठक के बाद कठेरिया ने कहा कि एक महीने में आरक्षण पर निर्णय कर लें, नहीं तो मानव संसाधन मंत्रालय को पत्र लिखकर एएमयू की ग्रांट रोकने को कहा जाएगा। अलीगढ़ के सर्किट हाउस में राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष प्रो. राम शंकर कठेरिया ने कहा कि एएमयू ने किस आधार पर आरक्षण व्यवस्था पर रोक लगा रखी है। बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) व दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) की तरह आरक्षण व्यवस्था क्यों लागू नहीं की जा रही है। उन्होंने कहा कि अब एयमयू प्रशासन को इसके लिए एक महीने का समय दिया गया है। अगर जवाब नहीं मिला तो इसकी ग्रांट रोकने के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) को एक पत्र लिखा जाएगा। इसके साथ ही अनुसूचित आयोग खुद सुप्रीम कोर्ट में पार्टी बनेगा।

आपको बता दें कि बीजेपी सांसद सतीश गौतम के पत्र बाद ही यूनिवर्सिटी में दलितों को आरक्षण का मुद्दा उठा है। उनके इस पत्र के बाद राम शंकर कठेरिया भी अलीगढ़ पहुंचे। बीजेपी नेताओं ने एएमयू के प्रो वीसी, रजिस्ट्रार व स्थानीय प्रशासन के साथ आरक्षण पर हकीकत जानी। तकरीबन एक घंटे चली इस बैठक में एएमयू की प्रवेश नीति, नियुक्ति, अल्पसंख्यक स्वरूप पर भी कठेरिया ने सवाल किए।

इस बैठक के बाद राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी सरकार और यूजीसी से ग्रांट लेने के बावजूद दलित और ओबीसी छात्रों को आरक्षण नहीं दे रही है। उन्होंने कहा कि आरक्षण का अनुपालन न करने, पर उन्हें बस एक ही जबाव दिया गया है कि मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। कठेरिया ने कहा कि फिलहाल वो एएमयू को अपना पक्ष रखने, साक्ष्य पेश करने के लिए एक माह का समय दे रहे है। अगर इस दौरान कोई जबाव नहीं मिला तो आयोग आगे की कार्रवाई करेगा।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.