1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. पीएम मोदी का हिमाचल के स्वास्थ्य कर्मियों और कोविड टीकाकरण के लाभर्थियों से सीधा संवाद, कहा- चैंपियन बनकर आया सामने…

पीएम मोदी का हिमाचल के स्वास्थ्य कर्मियों और कोविड टीकाकरण के लाभर्थियों से सीधा संवाद, कहा- चैंपियन बनकर आया सामने…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज हिमाचल प्रदेश के स्वास्थ्य कर्मियों और कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के लाभार्थियों से संवाद किया। यह बातचीत वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग(VC) के जरिये हुई। इस दौरान हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी मौजूद रहे। स्वास्थ्य कर्मियों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, भारत आज एक दिन में सवा करोड़ टीके लगाकर रिकॉर्ड बना रहा है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज हिमाचल प्रदेश के स्वास्थ्य कर्मियों और कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के लाभार्थियों से सीधा संवाद किया। यह बातचीत वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग(VC) के जरिये हुई। इस दौरान हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी मौजूद रहे। स्वास्थ्य कर्मियों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, भारत आज एक दिन में सवा करोड़ टीके लगाकर रिकॉर्ड बना रहा है। जितने टीके भारत आज एक दिन में लगा रहा है, वो कई देशों की पूरी आबादी से भी ज्यादा है।

उन्होंने कहा कि, “100 साल की सबसे बड़ी महामारी के विरुद्ध लड़ाई में हिमाचल प्रदेश चैंपियन बनकर सामने आया है। हिमाचल भारत का पहला राज्य बना है, जिसने अपनी पूरी योग्य आबादी को कोरोना टीके की कम से कम एक डोज लगा ली है और एक तिहाई आबादी को दूसरी डोज लगाई गई है।”

 

पीएम मोदी ने कहा कि, “जिस ‘सबका प्रयास’ की बात मैंने 75वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से कही थी, ये उसी का प्रतिबिंब है। हिमाचल के बाद सिक्किम और दादरा नगर हवेली ने शत प्रतिशत पहली डोज का पड़ाव पार कर लिया है और अनेक राज्य इसके बहुत निकट पहुंच गए हैं। हिमाचल में हर प्रकार की मुश्किलें थी, जो टीकाकरण में बाधक सिद्ध हुईं। पहाड़ी प्रदेश होने के नाते लॉजिस्टिक की दिक्कत रहती है, कोरोना टीके की स्टोरेज और ट्रांसपोर्टेशन की और भी दिक्कत होती है।”

पीएम मोदी ने थुनाग-मंडी के एक लाभार्थी दयाल सिंह के साथ बातचीत करते हुए कहा कि मैंने देखा है कि डॉक्टरों, नर्सों और अन्य सहित सभी स्टाफ सदस्यों ने टीकाकरण अभियान को अंजाम देने के लिए एक टीम में काम किया है। टीकाकरण अभियान को पूरा करने के लिए हमें किसी भी प्रकार की नरमी नहीं दिखानी चाहिए।

बातचीत में PM को बताया गया

डोडरा क्वार-शिमला के सिविल अस्पताल डॉ. राहुल ने मोदी के बताया कि वायरस और टीकाकरण के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए हर घर का दौरा करने के लिए टीमों को तैनात किया गया था।

अफवाहों पर ध्यान न दें

मोद ने कहा कि हिमाचलवासियों ने किसी भी अफवाह को, किसी भी अपप्रचार को टिकने नहीं दिया। हिमाचल इस बात का प्रमाण है कि देश का ग्रामीण समाज किस प्रकार दुनिया के सबसे बड़े और सबसे तेज़ टीकाकरण अभियान को सशक्त कर रहा है। मुझे खुशी है कि लाहौल स्पीति जैसा दुर्गम जिला हिमाचल में भी शत-प्रतिशत पहली डोज़ देने में अग्रणी रहा है।ये वो क्षेत्र है जो अटल टनल बनने से पहले, महीनों-महीनों तक देश के बाकी हिस्से से कटा रहता था। लेकिन सरकार ने जिस प्रकार की व्यवस्थाएं विकसित की, स्थितियों को संभाला वो प्रशंसनीय है।

ड्रोन नियमों के सरल होने से बदलेगी तस्वीर

मोदी ने कहा कि हाल में देश ने एक और फैसला लिया है, जिसे मैं विशेषतौर पर हिमाचल के लोगों को बताना चाहता हूं। ये है ड्रोन टेक्नोलॉजी से जुड़े नियमों में हुआ बदलाव। अब इसके नियम बहुत आसान बना दिए गए हैं। इससे हिमाचल में हेल्थ से लेकर कृषि जैसे अनेक सेक्टर में नई संभावनाएं बनने वाली हैं। सशक्त होती कनेक्टिविटी का सीधा लाभ पर्यटन को भी मिल रहा है, फल-सब्ज़ी का उत्पादन करने वाले किसान-बागबानों को भी मिल रहा है। गांव-गांव इंटरनेट पहुंचने से हिमाचल की युवा प्रतिभाएं, वहां की संस्कृति को, पर्यटन की नई संभावनाओं को देश-विदेश तक पहुंचा पा रहे हैं।

स्वयं सहायता समूहों के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म

मोदी ने बताया कि केंद्र सरकार अब बहनों के स्वयं सहायता समूहों के लिए विशेष ऑनलाइन प्लेटफॉर्म बनाने वाली है। इस माध्यम से हमारी बहनें, देश और दुनिया में अपने उत्पादों को बेच पाएंगी। सेब, संतरा, किन्नु, मशरूम, टमाटर ऐसे अनेक उत्पादों की हिमाचल की बहनें देश के कोने-कोने में पहुंचा पाएंगी।

सभी पात्र लोगों को लग चुका है पहला डोज

हिमाचल प्रदेश में कोविड टीकाकरण की पहली खुराक सभी पात्र लोगों को सफलतापूर्वक दे दी गई है। राज्य का कठिन इलाकों पर ध्यान केंद्रित करने के प्रयास के अंतर्गत भौगोलिक प्राथमिकता, जन जागरूकता सुनिश्चित करने के लिए पहल, और आशा कार्यकर्ताओं द्वारा घर-घर का दौरा शामिल है। राज्य सरकार ने महिलाओं, बुजुर्गों, दिव्यांगजनों, औद्योगिक श्रमिकों, दिहाड़ी मजदूरों आदि पर विशेष ध्यान दिया और इस मील के पत्थर को प्राप्त करने के लिए “सुरक्षा की युक्ति – कोरोना से मुक्ति” जैसे विशेष अभियान चलाए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...