Home ताजा खबर केरल सीएम पर भड़के रविशंकर प्रसाद, कहा- सिर्फ संसद को नागरिकता कानून पारित करने का अधिकार

केरल सीएम पर भड़के रविशंकर प्रसाद, कहा- सिर्फ संसद को नागरिकता कानून पारित करने का अधिकार

1 second read
0
65

केरल विधानसभा में मंगलवार को नागरिकता कूनन के खिलाफ प्रस्ताव पास किए जाने पर केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने एतराज जताते हुए कहा है कि, नागरिकता केंद्र का अधिकार क्षेत्र है और ये बहुत स्पष्ट तौर पर लिखा हुआ है। ऐसे में राज्य विधानसभा में कैसे इस पर प्रस्ताव लाया जा सकता है।

इसके साथ ही केरल सरकार पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि, केरल के सीएम को किसी अच्छे कानून के जानकार से सलाह लेनी चाहिए। इसके आगे उन्होंने कहा कि, सीएए किसी भारतीय नागरिक से संबध्द नहीं है। यह किसी भारतीय को न तो नागरिकता देता है, न ही इसे छीनता है। निहित स्वार्थी तत्व बहुत दुष्प्रचार कर रहे हैं। सीएए बिल्कुल संवैधानिक और कानूनी है।

केरला के सीएम विजयन ने प्रस्ताव को पेश करते हुए कहा था कि, धर्मनिरपेक्ष नजरिए और देश के ताने बाने के खिलाफ है और इसमें नागरिकता देने में धर्म के आधार पर भेदभाव होगा। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि, यह कानून संविधान के आधारभूत मूल्यों और सिंद्धांतों के विरोधाभासी है।’ इसके आगे उन्होंन कहा कि, देश के लोगों के बीच चिंता को देखते हुए केंद्र को सीएए को वापस लेने के कदम उठाने चाहिए और संविधान के धर्मनिर्पेक्ष नजरिए को बरकरार रखना चाहिए।

रविशंकर प्रसाद ने कहा, नागरिकता यूनियन लिस्ट में शामिल है। ये यूनियन लिस्ट में 17 वें स्थान पर है। इस पर किसी भी कानून को पारित करने का अधिकार सिर्फ संसद के पास है। किसी राज्य विधानसभा को इस पर कानून बनाने या संशोधन का अधिकार नहीं। केरल की विधानसभा को भी नहीं।

Share Now
Load More In ताजा खबर
Comments are closed.