Home क्राइम सचिन वाझे ही नहीं इन एनकाउंटर स्पेशलिस्ट्स पर भी लग चुके है हत्या से फिरौती तक के आरोप, जानिए क्या हैं वो नाम…

सचिन वाझे ही नहीं इन एनकाउंटर स्पेशलिस्ट्स पर भी लग चुके है हत्या से फिरौती तक के आरोप, जानिए क्या हैं वो नाम…

1 second read
0
70

नई दिल्ली : रिलायंस प्रमुख मुकेश अंबानी के घर एंटिलिया के बाहर मिले विस्फोटक से भरी गाड़ी मामले में सचिन वाझे को हिरासत में ले लिया गया है। जिन्होंने अब सुप्रीम कोर्ट की ओर रूख किया है। साथ ही इस मामले में उन्होंने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर भी बड़ा आरोप लगाया है। जिसे लेकर उन्होंने कोर्ट से घर में लगे सीसीटीवी फुटेज को जब्त कराने की मांग की है। आपको बता दें कि सचिन वाझे किसी जमाने में मुंबई पुलिस के टॉप एनकाउंटर स्पेशलिस्ट माने जाते थे। उन्होंने 60 से ज्यादा एनकाउंटर किये हैं। हालांकि विवादों से भी उनका पुराना नाता रहा है।

बता दें कि सचिन वाझे के अलावा मुंबई के कुछ और एनकाउंटर स्पेशलिस्ट रहे हैं जो किसी जमाने में अपराधियों के लिए दहशत का पर्याय होते थे। हालांकि इन सबका नाम विवादों में भी खूब रहा है। आइये जानते हैं वो नाम…

दया नायक: दया नायक के नाम 83 एनकाउंटर दर्ज हैं। उनके जीवन पर कई फिल्में भी बन चुकी हैं। दया पर आय से अधिक संपत्ति और अंडरवर्ल्ड से सांठगांठ के भी आरोप लग चुके हैं।

प्रदीप शर्मा: मुंबई पुलिस के एनकाउंटर स्पेशलिस्ट्स में प्रदीप शर्मा सबसे बड़े नाम रहे हैं। उन्होंने 100 से ज्यादा अपराधियों के एनकाउंटर किये हैं। हालांकि उनपर ये आरोप भी लगे कि वह दाऊद के कहने पर भी उसके विरोधियों का एनकाउंटर करते थे। साल 2006 में लखन भइया नाम के अपराधी के एनकाउंटर को लेकर उनपर केस भी दर्ज हुआ था।

विजय सालस्कर: विजय सालस्कर ने अपने करियर में करीब 80 एनकाउंटर किये। इनमें मुंबई के डॉन अरुण गवली के कई शूटरों के एनकाउंटर भी शामिल हैं। साल 2008 में मुंबई हमले के दौरान कसाब से लोहा लेते हुए उनका निधन हो गया था। उनपर भी गुटखा इंडस्ट्री और बड़े-बड़े बिजनेसमैन से सांठ-गांठ के आरोप लगे थे जिसके बाद उनसे उनकी सरकारी पिस्टल वापस ले ली गई थी। कहा जाता है कि अगर 26/11 के दिन उनके पास उनकी पिस्टल होती तो वह शहीद ना होते।

रवींद्रनाथ आंग्रे: आंग्रे का नाम भी अपराध की दुनिया में दहशत का पर्याय था। लेकिन बाकी के एनकाउंटर स्पेशलिस्ट्स की तरह उनपर भी आपराधिक मामले दर्ज हुए जिनके चलते उन्हें जेल भी जाना पड़ा। साल 2008 में गणेश वाग नाम के एक बिल्डर ने उनपर धमकाने और फिरौती वसूलने के आरोप लगाए, जिसके बाद वह जेल गए। जेल से छूटने के बाद उनपर गणेश वाग के भाई के मर्डर का भी आरोप लगा और मामला दर्ज हुआ था।

Load More In क्राइम
Comments are closed.