Home देश निर्भया गैंगरेप मामला: दोषियों के क्यूरेटिव पिटिशन पर 14 जनवरी को SC में सुनवाई।

निर्भया गैंगरेप मामला: दोषियों के क्यूरेटिव पिटिशन पर 14 जनवरी को SC में सुनवाई।

2 second read
0
73

निर्भया गैंगरेप मामले में दोषियों को कोर्ट ने 22 जनवरी को फांसी पर लटकाने का डेथ वारंट जारी किया है। इस बीच फांसी की सजा पा चुके दो दोषियों विनय शर्मा औऱ मुकेश सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटिशन दाखिल की है। कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई की तारीख 14 जनवरी को तय की है।

इस पूरे मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की बेंच विनय और मुकेश की क्यूरेटिव पिटिशन पर सुनवाई करेगी। इस बेंच में जस्टिस एनवी रमन्ना, जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस आरएस नरीमन, जस्टिस आ भानुमती और जस्टिस अशोक भूषण का नाम शामिल है। विनय कुमार ने अपने क्यूरेटिव पिटिशन में अपनी युवावस्था का हवाला देते हुए कहा है कि कोर्ट ने इस पहलू को त्रुटिवश अस्वीकार कर दिया है।

याचिका में कहा गया है कि याचिकाकर्ता की सामाजिक- आर्थिक परिस्थितियों औऱ उसके बीमार माता-पिता समेत परिवार के आश्रितों और जेल में उसके अच्छे आचरण और उसमें सुधार की गुंजाइश की बिंदुओं पर प्रयाप्त विचार नहीं किया गया है औऱ इसकी वजह से उसके साथ न्याय नहीं हुआ है।

याचिता में यह भी कहा गया है कि इस मामले में शीर्ष अदालत के 2017 के फैसले के बाद इसके 3 जजों की बेंच ने रेप औऱ मर्डर से जुड़े कम से कम 17 मामलों में दोषियों की मौत की सजा उम्र कैद में तब्दील की है। याचिका में इस फैसले को कानून की नजर में गलत बताते हुए कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने बाद से फैसलों में निश्चित ही कानून में बदलाव करके उसके जैसे स्थिति के अनेक दोषियों की मौत की सजा को उम्र कैद में तब्दील किया है।

आपको बता दें कि दिल्ली की एक अदालत ने मंगलवार को इस मामले के चारों दोषियों मुकेश, विनय शर्मा, पवन गुप्ता और अक्षय ठाकुर को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे तिहाड़ जेल में फांसी पर लटकाए जाने का वारंट जारी किया है।

Share Now
Load More In देश
Comments are closed.