Home देश निर्भया गैंगरेप मामला: सुप्रीम कोर्ट पर टिकी नज़रें

निर्भया गैंगरेप मामला: सुप्रीम कोर्ट पर टिकी नज़रें

2 second read
0
63

साल 2012 में हुए निर्भया के साथ हुए सामूहिक बलात्कार मामले के चारों दोषियों के लिए 7 जनवरी का दिन बेहद खास होने वाला है। क्योंकि इस दिन पटियाला हाउस कोर्ट दोषी अक्षय ठाकुर, विनय कुमार गुप्ता और मुकेश को फांसी की सजा के लिए डेथ वारंट जारी कर सकती है। क्योंकि कोर्ट ने सभी याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए 7 जनवरी को इसकी अंतिम सुनवाई की तारीख मुकर्रर की थी। सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन के लिए दिया गया समय भी समाप्त हो चुका है

बता दें कि दोषियों को अपनी सजा के खिलाफ अपील या राष्ट्रपति के पास दया याचिका दायर करने का पर्याप्त समय दिया जा चुका है। लेकिन अब यह समय सीमा समाप्त हो चुकी है, जिसके कारण अदालत बिना किसी अड़चन के चारों दोषियों के नाम पर डेथ वॉरंट जारी कर सकती है। फांसी की सजा के खिलाफ दोषियों की कोई अपील कहीं भी पेंडिंग नहीं है। उन्हें हर कानूनी विकल्प के इस्तेमाल के लिए वाजिब समय दिया जा चुका है।

2012 में दिल्ली हुए निर्भया गैंगरेप ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था। इस घटना के बाद देशभर में विरोध प्रदर्शन किया गया। 16 दिसबंर 2012 को बस में निर्भया के साथ बलात्कार की घटना को अजांम दिया गया था। जिसके बाद पूरे देश में निर्भया के समर्थन में कैंडिल मार्च निकाला गया था औऱ देशभर के लोगों ने निर्भया को श्रद्धांजलि दी थी और जगह-जगह शोक सभा आयोजित की गई थी।

Share Now
Load More In देश
Comments are closed.