Home Breaking News नॉर्थ ईस्ट में कांग्रेस कर रही आग लगाने की कोशिश: पीएम मोदी

नॉर्थ ईस्ट में कांग्रेस कर रही आग लगाने की कोशिश: पीएम मोदी

22 second read
0
37

नाकरिता संशोधन बिल पर जहां एक तरफ कई पार्टियों में इसका कोहराम मचा हुआ है तो वहीं देश के कई राज्यों में इस बिल के विरोध में प्रदर्शन हो रहा है। नागरिकता बिल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड की चुनावी रोली में विपक्षीयों पर जोरदार हमला बोला है।

कांग्रेस नॉर्थ ईस्ट में आग लगाने की कोशिश कर रही है

पीएम ने कहा कि, कांग्रेस और उसके साथी नॉर्थ ईस्ट में भी आग लगाने की कोशिश कर रहे हैं। वहां भ्रम फैलाया जा रहा है कि बांग्लादेश से बड़ी संख्या में लोग आ जाएंगे। जबकि ये कानून पहले से ही भारत आ चुके शरणार्थियों की नागरिकता के लिए है। 31 दिसंबर 2014 तक जो भारत आए उन शरणार्थियों के लिए ही ये व्यवस्था है। इतना ही नहीं नॉर्थ ईस्ट के करीब-करीब सभी राज्य इस कानून के दायरे से बाहर हैं।

नॉर्थ ईस्ट के लोगों से पीएम मोदी ने की अपील

मैं नॉर्थ ईस्ट और पूर्वी भारत के हर राज्य, हर जनजातीय समाज को आश्वस्त करना चाहता हूं कि असम सहित नॉर्थ ईस्ट के अलग-अलग क्षेत्रों की परंपराओं, वहां की संस्कृति, उन्हें संरक्षण देना और समृद्ध करना, भाजपा की प्राथमिकता है। मैं आज इस मंच से नॉर्थ ईस्ट के और विशेषकर असम के भाइयों-बहनों और वहां के युवा साथियों को अपील करता हूं कि आप अपने इस सेवक मोदी पर विश्वास रखिए। मैं नॉर्थ ईस्ट के भाइयों बहनों की किसी परंपरा-भाषा-रहन सहन, संस्कृति पर आंच नहीं आने दूंगा।

कांग्रेस की डिक्शनरी में कभी जनहित नहीं रहा

कांग्रेस और उसके साथियों की डिक्शनरी में कभी जनहित नहीं रहा, उन्होंने हमेशा स्वहित के लिए, परिवार हित के लिए काम किया। यही कारण है कि काले सोने पर बैठा ये धनबाद और ये पूरा इलाका संपदा से जितना समृद्ध है, उतनी ही अधिक गरीबी यहां बनी रही।

99वें फेरे में फंस गए षड्यंत्रकारी

षड्यंत्रकारी मानसिकता लेकर चलने वाले लोग 99वें के फेरे में फंस गए हैं। यहां से निले कोयले पर कांग्रेस-JMM के नेताओं ने, इनके रिश्तेदारों और दोस्तों ने अपने लिए महल खड़े कर दिए, लेकिन यहां की जनता को झोपड़ियों में रहने के लिए मजबूर कर दिया।

कांग्रेस के पास सोच और संकल्प दोनों की कमी

कांग्रेस और उसके साथियों के पास सोच और संकल्प दोनों की कमी है। इन्होंने यहां नक्सलवाद को हवा दी, यहां के इंफ्रास्ट्रक्चर पर ध्यान नहीं दिया। यही कारण है कि उनके शासन काल में यहां नए उद्योग तो आए नहीं, बल्कि पुराने भी बंद हो गए।

Share Now
Load More In Breaking News
Comments are closed.