1. हिन्दी समाचार
  2. जरूर पढ़े
  3. रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी, रेलमंत्रालय करने जा रही है ऐसा उपाय जिससे बचेगें कई घंटे का समय; जानिए कैसे

रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी, रेलमंत्रालय करने जा रही है ऐसा उपाय जिससे बचेगें कई घंटे का समय; जानिए कैसे

Good news for railway passengers, the Railway Ministry is going to take such a measure that will save many hours of time; भारतीय रेलवे ने नई दिल्ली-चेन्नई के 2164 किलोमीटर के रूट को अब हाई स्पीड कॉरिडोर बनाने का फैसला किया।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

नई दिल्ली: दिल्ली से चेन्नई जाने वाले रेल यात्रियों के लिए एक खुशखबरी है। दरअसल भारतीय रेलवे ने नई दिल्ली-चेन्नई के 2164 किलोमीटर के रूट को अब हाई स्पीड कॉरिडोर बनाने का फैसला किया है। इंडियन रेलवे ने इसके लिए डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। दिल्ली-चेन्नई रूट पर रेलवे अब 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेन दौड़ाने की योजना बना रही है। इसके साथ ही रेलवे की योजना मुंबई-हावड़ा के 1965 किलोमीटर सेक्शन, मुंबई-चेन्नई, चेन्नई-हावड़ा, चेन्नई-बेंगलुरु, बेंगलुरु-हैदराबाद, चेन्नई-हैदराबाद और हावड़ा-पुरी रूट पर ट्रेन की स्पीड बढ़ाने की है।

इस समय दिल्ली चेन्नई सेक्शन पर रेलवे की अधिकतम स्पीड 130 किलोमीटर प्रति घंटे है। इस हिसाब से यह रूट करीब 20 घंटे का है। 160 किलोमीटर प्रति घंटे की अधिकतम स्पीड होने के बाद इस रूट पर ट्रेन को 16 घंटे का समय लगेगा। इस हिसाब से दिल्ली से चेन्नई की यात्रा करने वाले पैसेंजर का 4 घंटे समय बच सकेगा। रेलवे की योजना के मुताबिक मुंबई हावड़ा रूट पर ट्रेन की स्पीड बढ़ने के बाद यात्रियों का 3 घंटे का समय बचेगा, जबकि मुंबई चेन्नई रूट पर 2 घंटे कम लगेंगे। चेन्नई हावड़ा रूट पर यात्रियों का 3 घंटे का समय बचेगा। इसी तरह चेन्नई से हैदराबाद जाने वाले यात्रियों को रेल यात्रा में 2 घंटे का समय कम लगेगा।

दिल्ली-कोलकाता सेक्शन की भी बढ़ेगी स्पीड
इस साल जून में ही खबर आई थी कि दिल्ली से कोलकाता को जोड़ने वाली ग्रैंडकार्ड रेलखंड पर 160 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से ट्रेन दौड़ने लगेगी। अबतक इस रेल मार्ग पर ट्रेन की अधिकतम स्पीड लिमिट 130 किमी प्रति घंटा है। रेलवे के मुताबिक देश की प्रगति में ट्रेनों को रफ्तार देनी है, रेल यात्रा को सुगम और सुलभ बनाया जा रहा है। ट्रेन की अधिकतम स्पीड बढ़ने से दिल्ली-चेन्नई सेक्शन पर यात्रियों के समय में चार-पांच घंटे की बचत हो सकती है।

रेलवे का मिशन रफ्तार
मिशन रफ्तार के तहत दिल्ली-हावड़ा रेलमार्ग पर 160 किलोमीटर प्रतिघंटा से ट्रेनों के परिचालन के लिए ढांचागत सुधार के सभी कार्य तेजी से किए जा रहे हैं। दिल्ली-हावड़ा रेलमार्ग दिल्ली से यूपी, बिहार और झारखंड राज्य होते हुए पश्चिम बंगाल के हावड़ा तक जाती है। पूर्व मध्य रेल के धनबाद और पंडित दीन दयाल उपाध्याय मंडल में ग्रैंडकार्ड रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन की रफ्तार 130 से बढ़ाकर 160 किलोमीटर प्रतिघंटा करने के लिए इस रेल सेक्शन की पटरियों के साथ अन्य इन्फ्रास्ट्रक्चर को दुरुस्त किया जा रहा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...