1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. महामारी के दूसरे लहर में 600 से ज्यादा डॉक्टरों ने गंवाई जान, सबसे ज्यादा दिल्ली में हुईं मौतें

महामारी के दूसरे लहर में 600 से ज्यादा डॉक्टरों ने गंवाई जान, सबसे ज्यादा दिल्ली में हुईं मौतें

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

नई दिल्ली: कोरोना के दूसरे लहर का कहर इतना भयानक था कि सोचने मात्र से रुंह कांप जा रही है। अस्पतालों के बाहर शवों का लगा अंबार, गंगा में तैरते शव, घाटों पर दफनाए गये शवों से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि दूसरे लहर की तबाही कितनी भयानक थी। महामारी के दूसरे लहर में अपनी जान की परवाह न करते हुए लोगो की जिंदगी बचानें में 646 डॉक्टरों ने भी अपनी जान गंवाई है। इस बात की जानकारी शनिवार को इंडियन मेडिकल असोसिएशन ने दी।

इंडियन मेडिकल असोसिएशन की मानें तो, देश में  सबसे ज्यादा दिल्ली में 109 डॉक्टरों की मृत्यु हुई। इसके बाद बिहार में 97 , उत्तर प्रदेश में 79, राजस्थान में 43, झारखंड में 39, गुजरात में 37, आंध्र प्रदेश में 35, तेलंगाना में 34, प0 बंगाल में 30 डॉक्टरों ने अपनी जान गंवाई। IMA का यह ऑकड़ा 5 जून तक जारी किया गया है।

महामारी के पहली लहर में संक्रमित होकर 748 डॉक्टरों ने अपनी जान गंवाई थी। जबकि महाराष्ट्र में 23 डॉक्टर्स कोरोना की दूसरी लहर में जान गंवा चुके हैं।

बात करें दूसरी लहर की तो देश कोरोना की दूसरी लहर का सामना कर रहा है। मौजूदा वक्त में  केसों में कमी हुई है, लेकिन रोज मौत का ऑकड़ाल अभी भी 3000 से ज्यादा है। देश में पिछले 24 घंटे में 1.20 लाख केस सामने आए हैं। यह पिछले 2 महीने में सबसे कम हैं। अब तक देश में 2.86 करोड़ लोग संक्रमित हो चुके हैं।  3.44 लाख लोगों की मौत अब तक हो चुकी है। पिछले 24 घंटे में 3380 लोगों ने कोरोना से अपनी जान गंवाई है। हालांकि, में रिकवरी रेट अब बढ़कर 93.08% हो गया है।

देश की राजधानी दिल्ली में पिछले 24 घंटे में शुक्रवार को कोविड-19 के मामलों में मामूली उछाल आया। कोरोना के नए केस 487 से बढ़कर 523 दर्ज किए गए। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आंकड़ों को देखें तो दिल्ली में कोरोना संक्रमण दर 0.68 प्रतिशत रही। वहीं, दिल्ली में 50 और मरीजों की मौत के बाद कोरोना महामारी से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 24,497 हो गई है है। बता दें कि दिल्ली में गुरुवार को कोविड-19 के 487 नए मामले आए थे और करीब ढाई महीने में सबसे कम 45 लोगों की मौत दर्ज की गई थी।

महामारी को हराने के लिए देश में वैक्सीन उत्पादन पर तेजी से काम चल रहा है। इस बीच सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से भारत में रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-वी बनाने के लिए परीक्षण लाइसेंस की अनुमति मांगी। जिस पर डीसीजीआई ने स्पुतनिक-वी के निर्माण के लिए सीरम को मंजूरी दे दी है। डीसीजीआई ने स्पुतनिक-वी के एग्जामिनेशन, टेस्ट और एनालिसिस के साथ निर्माण की इजाजत दी है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads