Home उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक आयोग ने की फतवा देने वालों पर FIR दर्ज करने की मांग

अल्पसंख्यक आयोग ने की फतवा देने वालों पर FIR दर्ज करने की मांग

0 second read
0
44

लखनऊ।राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने निदा खान के खिलाफ फतवा जारी करने का मामले पर संज्ञान लिया है। आयोग ने फतवे को गलत बताते हुए जिला प्रशासन को पत्र लिखकर इसे जारी करने वालों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने का निर्देश दिया है।मिल रही धमकियों के मद्देनजर आयोग के अध्यक्ष हसन रिजवी ने पीडि़ता को सुरक्षा मुहैया कराने को भी कहा है। साथ ही इस मामले में कार्रवाई की रिपोर्ट भी तलब की है। उधर, राज्य अल्पसंख्यक आयोग पहले ही पूरे मामले में संज्ञान ले चुका है। साथ ही आयोग की दो सदस्यीय टीम बरेली पहुंचकर पूरे प्रकरण की जांच में जुटी है।

तत्काल तीन तलाक और हलाला के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाली निदा खान के खिलाफ दरगाह आला हजरत से फतवा जारी हुआ था। उन्हें इस्लाम से खारिज कर दिया गया था। उन्हें काफिर भी करार दिया गया था। शहर काजी मौलाना असजद रजा खां कादरी ने एलानिया तौबा मांगने के लिए कहा था। ऐसा न करने पर मुसलमानों का आह्वïान किया था कि वे निदा से तमाम तरह के ताल्लुकात खत्म कर लें। यहां तक कि मरने के बाद जनाजे में नहीं जाएं। कब्रिस्तान में दफनाने भी न दिया जाए।

बता दें कि पिछले सप्ताह निदा खान ने पीडि़त महिला के साथ हलाला की आड़ में हुई ज्यादती के खिलाफ आवाज उठाई थी। पीडि़ता ने आरोप लगाया था कि तलाक के बाद पहले ससुर से हलाला कराया गया। दोबारा निकाह के बाद शौहर ने एक बार फिर तलाक दे दिया और इस बार देवर से हलाला का दबाव बनाया जा रहा है। प्रेस कांफ्रेंस में निदा खान ने हलाला, फतवा और बहु-विवाह पर रोक लगाने की मांग उठाई थी। इस पर निदा के खिलाफ फतवा जारी कर दिया गया। इस पर बवाल मच गया तो हलाला मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.