Home mumbai महाराष्ट्र की स्थिति बद से बदतर नहीं थम रही कोरोना की दूसरी लहर, देश में 53 हजार से ज्यादा केस

महाराष्ट्र की स्थिति बद से बदतर नहीं थम रही कोरोना की दूसरी लहर, देश में 53 हजार से ज्यादा केस

44 second read
0
82

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

मुंबई: कोरोना महामारी देश को दिन पर दिन अपनी चपेट में लेता ही जा रहा है। इस महामारी की चपेट में सबसे ज्यादा महाराष्ट्र है। महामारी दम तोड़ने से साथ ही एक बार फिर वापसी करता हुआ दिखाई दे रहा है। देश में बढ़ रहे कोरोना के मामलों में 84 फीसदी ऑक़ड़े अकेले महाराष्ट्र से सामने आये हैं। इसके बाद पंजाब समेंत देश के 6 राज्य महामारी की भयंकर चपेट में हैं। महाराष्ट्र में लॉकडाउन के साथ-साथ रैपिड एंटीजेन टेस्ट सख्ती शुरू हो गई है।

पिछले 24 घंटे की बात करें तो देश में 53,476 नये मामले सामने आये हैं। जबकि 26,490 लोग रिकवर हुए हैं। दुख की बात यह है कि 251 लोगों ने कोरोना महामारी से अपनी जान गंवाई है। कुल संक्रमितों के ऑकड़े को देखें तो अबतक देश में 1,17,87,534 लोग महामारी की चपेट में आयें हैं। वहीं 1,12,31,650 लोगों ने महामारी को मात दी है। मौजूदा वक्त में 3,95,192 लोग संक्रमित हैं। जबकि कोरोना महामारी से 1,60,692 की मौत हुई है।

देश में मंगलवार तक 23,75,03,882 लोगों के सैंपल की कोरोना जॉच की जा चुकी है। जिसमें बुधवार को ही 10,65,021लोगो के सैंपल की जॉच की गई है। आपको बता दें कि ये ऑकड़े इंडियन काउंसिग ऑफ मेडिकल रिसर्च द्वारा जारी किये गये हैं।

महाराष्ट्र की बात करें तो नए कोरोना के मामलों में महाराष्ट्र की स्थिति सबसे भयावह है। महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 31,855 नए केस सामने आए हैं। महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के हर दिन हज़ारो नए केस सामने आने के बाद बीड, परभणी और नांदेड़ में लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है। केंद्र सरकार ने भी महाराष्ट्र के लिए कोरोना की नई गाइडलाइंस जारी की है।

खास बात यह है कि बुधवार के दिन राज्य में 15,098 संक्रमित ठीक होकर अपने घरों को लौट गए। लेकिन 95 लोगों का संक्रमण से मौत हो गई है। जबकि गुजरात की बात करें तो बुधवार को गुजरात में 1,790 मामलों के साथ अपनी सबसे ज्यादा मामला दर्ज किया गया। महाराष्ट्र और गुजरात के अलावा, देश के 19 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने अपने उच्चतम मामलों को जनवरी या उससे पहले दर्ज किया था।

 

 

 

Load More In mumbai
Comments are closed.