1. हिन्दी समाचार
  2. लाइफस्टाइल
  3. सेक्स से पहले की ये आदत तबाह कर रही है आपकी बेडरूम लाइफ, तुरंत करें ये उपाय

सेक्स से पहले की ये आदत तबाह कर रही है आपकी बेडरूम लाइफ, तुरंत करें ये उपाय

This habit before sex is destroying your bedroom life; कैलिफोर्निया के सेक्स थेरेपिस्ट जीन पप्पलार्डो ने सीएनएन को बताया कि, 'एंग्जाइटी की वजह से सेक्स के दौरान शरीर उत्तेजित नहीं हो पाता है। सेक्स और इंटीमेसी की चिंता जब बहुत ज्यादा हो जाती है तो ये परफॉर्मेंस एंग्जाइटी बन जाती है।'

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : अक्सर आपने कई लोगों से सुना होगा की कल उनका बेड पर परफॉर्मेंस कुछ अच्छा नहीं रहा। जिससे उन दोनों को कुछ खास मजा नहीं आया। लेकिन क्या आप जानते है ये समस्या किस कारण उत्पन्न हुई। दरअसल ये समस्या एक परफॉर्मेंस एंग्जाइटी के कारण उत्पन्न हुई, जो सेक्स लाइफ को खराब करने का काम करती है।

बहुत ज्यादा मानसिक तनाव, डर और चिंता की वजह से कई लोग सेक्स को एन्जॉय नहीं कर पाते हैं। एक्सपर्ट्स बताते हैं कि परफॉर्मेंस एंग्जाइटी आखिर क्या होती है और इस समस्या से कैसे छुटकारा पाया जा सकता है। कैलिफोर्निया के सेक्स थेरेपिस्ट जीन पप्पलार्डो ने सीएनएन को बताया कि, ‘एंग्जाइटी की वजह से सेक्स के दौरान शरीर उत्तेजित नहीं हो पाता है। सेक्स और इंटीमेसी की चिंता जब बहुत ज्यादा हो जाती है तो ये परफॉर्मेंस एंग्जाइटी बन जाती है।’ हालांकि ये चिंताएं आपकी रोजमर्रा की किसी आदत से भी जुड़ी हो सकती हैं जिसका असर सेक्स लाइफ पर पड़ता है।

एक्सपर्ट्स कहते हैं कि ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से आप सेक्स के बारे में या उस दौरान परेशान हो सकते हैं लेकिन इसकी मुख्य वजह ये है कि लोग सेक्स के दौरान अपने परफॉर्मेंस के बारे में बहुत ज्यादा सोच लेते हैं। जैसे कि सेक्स से पहले बहुत लोगों के दिमाग में चलता है कि वो जैसा सोच रहे हैं, क्या बेड पर वो ऐसा ही परफार्मेंस कर पाएंगे या फिर क्या वो अपने पार्टनर को यौन रुप से संतुष्ट कर पाएंगे, या  पार्टनर के सामने मेरी बॉडी कैसी दिखेगी, जैसी बातें। इन काल्पनिक खयालों की वजह से वो उस पल का वास्तविक आनंद नहीं ले पाते हैं।

सेक्स थेरेपिस्ट डेबोरा फॉक्स का कहना है, ‘जो लोग एंग्जाइटी से गुजरते हैं, उन्हें अक्सर आराम करने में मुश्किल होती है, इसलिए उनकी यौन क्षमताओं पर पड़ता है। उन्हें इस बात का एहसास होता है और अपनी एंग्जाइटी दूर करने में वो इतनी ज्यादा कोशिश लगा देते हैं कि सेक्स लाइफ को एंजॉय नहीं कर पाते हैं।’

परफॉर्मेंस एंग्जाइटी का बॉडी पर असर- जिन लोगों पर परफॉर्मेंस एंग्जाइटी का दबाव होता है, उनमें कुछ खास तरह के लक्षण देखने को मिलते हैं जैसे कि दिल की धड़कन का तेज हो जाना, अधिक जोर से सांस लेना और पेट में दिक्कत महसूस होना। ज्यादा बढ़ जाने पर ये डिप्रेशन और यौन इच्छी की कमी में भी बदल जाता है। इसका असर सेक्स लाइफ के साथ डेली रूटीन पर भी पड़ने लगता है।

सेक्स थेरेपिस्ट का कहना है कि एंग्जाइटी की वजह से ब्लड फ्लो में रुकावट आने लगती है। वहीं, एंग्जाइटी की वजह से महिलाओं की वजाइना की मांसपेशियों में खिंचाव आने लगता है। इससे सेक्स के समय दर्द होने लगता है। ज्यादातर लोग अपने अगले अनुभव के बारे में पहले से ही सोच कर घबरा जाते हैं।

एक्सपर्ट्स के अनुसार, एंग्जाइटी की वजह से स्ट्रेस हार्मोन बनता है जिसे एड्रेनालाईन कहा जाता है। ये एड्रेनालाईन ब्लड फ्लो को जननांगों में जाने से रोकता है। इसे एंटी इरेक्टाइल केमिकल भी कहा जाता है। सेक्स में एक बार असफल होने पर पुरुष एक तरह के दबाव में आ जाते हैं। इसकी वजह से शरीर में एड्रेनालाईन बनना शुरू होता है जो धीरे-धीरे इरेक्टाइल डिसफंक्शन में बदल जाता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार, कुछ चीजों को ध्यान में रखकर परफॉर्मेंस एंग्जाइटी को दूर किया जा सकता है।

समस्या से भागे नहीं- अगर आपको परफॉर्मेंस एंग्जाइटी है तो इससे भागने की बजाए अपने पार्टनर को इस बारे में पहले से ही बता दें। इससे आपका रिश्ता खराब होने से बच सकता है। सेक्स से संबंधित कोई भी समस्या है तो अपने पार्टनर से इस पर बात करें। जब पार्टनर आपकी बात समझेगा तो इससे आपका तनाव कम होगा और आप बेड पर परफॉर्मेंस के प्रेशर से दूर रहेंगे। अगर आप पार्टनर से बात करने में झिझक रहे हैं तो आप किसी थेरेपिस्ट की भी मदद ले सकते हैं।

उन पलों को महसूस करें- परफॉर्मेंस एंग्जाइटी की सबसे बड़ी वजह जरूरत से ज्यादा सोचना है। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि सेक्स के समय परफॉर्मेंस के बारे में सोचने की बजाय अपने पार्टनर के साथ उन खास पलों को महसूस करें और उसका आनंद लें। आपका तनाव अपने आप दूर हो जाएगा।  सेक्सोलॉजिस्ट का कहना है कि परफॉर्मेंस एंग्जाइटी से बचने के लिए शारीरिक ही नहीं मानसिक तौर पर भी पूरी तरह पार्टनर के साथ रहना जरूरी है। ब्रीदिंग एक्सरसाइज से भी इस पर काफी हद तक काबू पाया जा सकता है क्योंकि ये एक्सरसाइज एकाग्रता बढ़ाती है और तनाव कम करती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...