1. हिन्दी समाचार
  2. कृषि मंत्र
  3. किसानों को मुफ्त बोरिंग सुविधा (Free boring facility) दे रही सरकार: ऑनलाइन आवेदन कीजिए

किसानों को मुफ्त बोरिंग सुविधा (Free boring facility) दे रही सरकार: ऑनलाइन आवेदन कीजिए

भारत के किसान को अधिक आत्मनिर्भर और समृद्ध बनाने के लिए विभिन्न योजनाएं लागू की जा रही हैं। फ्री बोरिंग स्कीम (Free boring facility) के तहत किसानों को खेतों में मुफ्त बोरिंग की सुविधा (Free boring facility) दी जा रही है।

By Prity Singh 
Updated Date

मोदी सरकार ने 2022 तक किसान की आय को दोगुना करने का लक्ष्य रखा था। भारत के किसान को अधिक आत्मनिर्भर और समृद्ध बनाने के लिए विभिन्न योजनाएं लागू की जा रही हैं। हाल ही में उत्तर प्रदेश सरकार भी राज्य के किसानों की आय बढ़ाने के लिए एक योजना लेकर आई है।

यह एक फ्री बोरिंग स्कीम (Free boring facility) है। इस योजना के तहत किसानों को खेतों में मुफ्त बोरिंग की सुविधा दी जा रही है। तो आइए आपको बताते हैं कि उत्तर प्रदेश सरकार की मुफ्त बोरिंग योजना (Free boring facility) क्या है और किसान इस योजना का लाभ कैसे उठा सकते हैं

फ्री बोरिंग योजना (Free boring facility) क्या है

उत्तर प्रदेश में सिंचाई विभाग द्वारा नि:शुल्क बोरिंग योजना (Free boring facility) लागू की गई है। कृषि और ग्रामीण विकास के लिए नेशनल बैंक इस योजना के तहत विभिन्न हॉर्स पावर की पंप सेट खरीदने के लिए ऋण सीमा तय किया है।

किसानों को पंप खरीदने पर सब्सिडी दी जाती है। इस योजना का लाभ उठाकर किसान अपने खेतों में सिंचाई की सुविधा प्राप्त कर सकते हैं। इससे अधिक से अधिक सब्जियां और फसलें तैयार की जा सकती हैं।

सब्सिडी:

छोटे किसानों के लिए बोरिंग पर अधिकतम सब्सिडी 5,000 रुपये निर्धारित की गई है ।

वहीं सीमांत किसानों के लिए बोरिंग पर सब्सिडी की अधिकतम सीमा 7,000 रुपये निर्धारित की गई है .

इसी तरह छोटे किसानों को पंप सेट खरीदकर बोरिंग लगाने पर अधिकतम 4500 रुपये की सब्सिडी दी जाती है।

सीमान्त कृषकों द्वारा बोरिंग पर क्रय एवं स्थापित पम्प सेटों पर अधिकतम 6,000 की अनुदान राशि दी जायेगी।

अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के छोटे और सीमांत किसानों के लिए बोरिंग पर अधिकतम 10,000 रुपये तक की सब्सिडी तय की गई है।

जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि इस योजना में बोरिंग से शेष राशि 10,000 रुपये की सीमा के अधीन है । साथ ही रिफ्लेक्स वॉल्व, डिलीवरी पाइप, बेंड आदि सामग्री उपलब्ध कराने की अतिरिक्त सुविधा भी उपलब्ध है। इसके अलावा बोरिंग पर पंप सेट लगाने पर अधिकतम 9,000 रुपये तक की सब्सिडी दी जाएगी।

फ्री बोरिंग योजना (Free boring facility) में आवेदन प्रक्रिया

लघु सिंचाई विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर लॉग ऑन करें।

उत्तर प्रदेश फ्री बोरिंग योजना आवेदन पत्र डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें।

इस फॉर्म को ऑनलाइन डाउनलोड करने के बाद एक प्रिंटआउट निकालना होगा।

इस फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारी भरकर अपने जिले के प्रखंड विकास अधिकारी सहायक अभियंता, लघु सिंचाई विभाग कार्यालय में जमा कर दें।

इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से पाइप की खरीद पर भी सब्सिडी दी जा रही है. न्यूनतम 30 मीटर से अधिकतम 60 मीटर तक 90 मिमी आकार के एचडीपीई पाइप की लागत पर किसानों को 50 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा ।

जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि एचडीपीई पाइप की लागत का 50 प्रतिशत या अधिकतम 3000 रुपये सब्सिडी के रूप में दिया जाएगा। इस तरह उत्तर प्रदेश की यह योजना किसानों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...