Home विचार पेज भारत : पढ़िये साल 2019 की 5 बड़ी घटनायें

भारत : पढ़िये साल 2019 की 5 बड़ी घटनायें

13 second read
0
18
know about 5 big incident in india in 2019

घटनाओं के लिहाज से 2019 भारत के लिए बेहद ही खास रहा और इस साल देश में सत्ता से लेकर सियासत और जनता से लेकर सरकार तक, कई ऐसी घटनाएं घटी जिसे कभी भी भुलाया नहीं जा सकता तो आइये जानते है ऐसी की 5 बड़ी घटनाओं के बारे में –

1 –जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो केंद्र शासित प्रदेश :

Image result for जम्मू-कश्मीर और लद्दाख

केंद्र की मोदी सरकार ने न सिर्फ जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35 का निस्तारण किया बल्कि राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने का भी बड़ा फैसला लिया, सरकार के इस फैसले ने जहां जम्मू-कश्मीर का काया-कल्प करने के साथ ही विपक्ष को भी दो फाड़ में बांट दिया, सरकार के इस फैसले पर दो भाग में बंटे विपक्ष का एक धड़ा सरकार की सराहना करता है जबकि दूसरा धड़ा इसे बीजेपी की सियासी चाल बताता है, जबकि इन दोनों से अलग बीजेपी की माने तो इस फैसले से प्रदेश की विकास यात्रा को नई रफ्तार मिलेगी..

केंद्र की मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा दिलाने वाली धारा का प्रवाह न सिर्फ मोड़ा बल्कि इस ऐतिहासिक भूल को अतीत में बदल दिया, 5 अगस्त 2019 से पहले तक किसी ने ऐसी कल्पना भी नहीं की थी की 70 सालों से जंजीर में जकड़े जम्मू-कश्मीर को इस तरह से भी आजादी दिलाई जा सकती है लेकिन कुशल राजनीति में माहिर गृह मंत्री अमित शाह ने वहीं तरीकाअपनाया जिसके तहत जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा दिलाया गया था और सरकार के इस फैसले के बाद अब जम्मू-कश्मीर में भी भारतीय संसद के सभी नये पुराने कानून बिना किसी शर्त के लागू होते हैं।

2 –असम में NRC, पूरे देश में लागू करने की तैयारी :

Image result for असम में NRC

असम में लागू हुआ राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर यानी NRC मोदी सरकार के सबसे बड़े फैसलों में से एक है जिसके तहत असम में रह रहे घुसपैठियों को भारत से बेदखल किए जाने की कवायद चल रही है वहीं गृह मंत्रालय ने पूरे देश में NRC लागू करने की भी योजना बना रही है ताकि असम से ही नहीं पूरे देश से घुसपैठियों को बाहर किया जा सकता है.

आपको बता दें कि असम और बंगाल में बंग्लादेश से आए घुसपैठियों की संख्या काफी अधिक है जिसके पीछ तर्क दिया जाता है कि ये अवैध लोग भारत के असली नागरिकों का अधिकार छीन रहे हैं, असम में NRC की पूरी प्रक्रिया सुप्रीम कोर्ट के देख-रेख में हुई है।

3 – करतारपुर कॉरिडोर समझौता :

Image result for करतारपुर कॉरिडोर समझौता

भारत पाकिस्तान के बीच करतारपुर कॉरिडोर समझौता न सिर्फ भारत और पाकिस्तान के लिए बल्कि हर देश के सिख समुदाय के लिए बड़ी खबर है, इस कॉरिडोर को गुरुनाक देव के 550वें जन्मदिवस पर खोला गया है.

सालों से जारी करतारपुर कॉरिडोर की मांग पूरी होने के बाद अब भारतीय सिख श्रद्धालु काफी कम समय में करतारपुर जा सकते हैं, पाकिस्तान में मौजूद करतारपुर गुरुद्वारा सिखों के लिए काफी महत्व रखता है और ऐसी मान्यता है कि सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव ने जीवन के अंतिम 18 साल यहीं बिताए थे.

वैसे आपको यह भी बता दे की इस योजना के पीछे पाकिस्तान का नापाक चैहरा भी हो सकता है, क्यूंकि पंजाब के CM ने भी इस बात की आशंका जताई है की इस कॉरिडोर के बहाने पाकिस्तान आतंक को पंजाब में दोबारा पैदा करने की कोशिश कर सकता है।

4 –संसद में अमित शाह, अमेठी में राहुल की हार :

Image result for संसद में अमित शाह

2019 का लोकसभा चुनाव कई मायनों में खास रहा और इस चुनाव में गुजरात के गांधीनगर सीट से चुनाव जीतकर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पहली बार न सिर्फ संसद पहुंचे, बल्कि मोदी सरकार पार्ट 2 में गृह मंत्री भी बने जबकि इसी चुनाव में तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने , स्मृति इरानी के सामने पार्टी की पुश्तैनी अमेठी सीट भी गंवा दी हालांकि वह केरल के वायनाड से चुनाव जीतक संसद पहुंचे लेकिन अमेठी में हार कांग्रेस के बुरे दिन की वकालत करती है जिसके लिए कांग्रेस की काफी किरकिरी भी हुई।

एक ओर अमेठी में राहुल गांधी की हार ने इस ओर इशारा किया कि सियासत किसी की जागीर नहीं वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस का ‘प्रियंका प्रयोग’ भी असफल साबित हुआ , चुनाव से ठीक पहले जब कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में उतारने का न सिर्फ फैसला किया बल्कि एका-एक पार्टी महासचिव का पद देकर पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभार भी दिया लेकिन जनता ने प्रियांका प्रयोग को सिरे से खारिज कर दिया।

5 – जेल में पूर्व वित्त मंत्री :

Image result for जेल में पूर्व वित्त मंत्री

भ्रष्टाचार के खेल के खिलाड़ियों की पहचान के बाद सलाखों की पीछे डालने के संकल्प के साथ सत्ता में लौटी मोदी सरकार ने कई सियासी सूरमाओं को जेल की हवा खिलाई जिनमें से एक बड़ा नाम पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम का भी है।

यूपीए सरकार में वित्त मंत्री रहे चिदंबरम INX मीडिया मामले में आरोपों के घेरे में है जिनके खिलाफ CBI और ED जांच कर रही है, पूर्व वित्त मंत्री पर सत्ता का दुरुपयोग कर परिवार को फायदा पहुंचाने का आरोप है।

हालांकि 4 दिसम्बर को उन्हें जमानत भी मिल गयी है लेकिन उन्हें इस शर्त पर जमानत मिली है की वो किसी मीडिया से इस केस के बारे में ना ही कोई बात करेंगे ना ही वो विदेश जा सकते है और ना की किसी सबूत या गवाह के साथ छेद छाड़ कर सकते है।

Share Now
Load More In विचार पेज
Comments are closed.