1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. ईद पर छूट देने की सजा भुगत रहा केरल, कोरोना विस्फोट से मची तबाही, योगी सरकार की नीतियों से ही कोरोना संकट होगा दूर

ईद पर छूट देने की सजा भुगत रहा केरल, कोरोना विस्फोट से मची तबाही, योगी सरकार की नीतियों से ही कोरोना संकट होगा दूर

कोरोना महामारी का नया हब केरल बना गया है। देश में सबसे ज्यादा मामले यही से आ रहें हैं। महामारी के दूसरे लहर में भी केरल राज्य ने मामलों को बढ़ाने में मुख्य भूमिका निभाई थी।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

नई दिल्ली: कोरोना महामारी का नया हब केरल बना गया है। देश में सबसे ज्यादा मामले यही से आ रहें हैं। महामारी के दूसरे लहर में भी केरल राज्य ने मामलों को बढ़ाने में मुख्य भूमिका निभाई थी। लेकिन अब लुटियंस मीडिया केरल में मच रही कोरोना की तबाही को नहीं दिखा रही है। खास बात यह भी है कि अभी वहां चुनाव होने में काफी वक्त बाकी है। वहीं बात करें जनसंख्या के हिसाब से सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की तो यहां योगी सरकार की नीतियों के कारण कोरोना महामारी दम तोड़ता हुआ नजर आ रहा है।

आपको बता दें गुरुवार को देश में 44 हजार नये मामले सामने आये थे, इसमें 22 हजार मामले अकेले केरल राज्य से थे। वहीं दूसरे नंबर पर महाराष्ट है, यहां 7200 से अधिक मामले सामने आए। देश में 549 मौतें हुईं। इनमें से आधी से ज्यादा,  केरल में 128, जबकि महाराष्ट्र में 190 मौतें हुईं।

सबसे अधिक एक्टिव मामले भी केरल में ही है, यहां 1.54 लाख एक्टिव मामले हैं। वहीं इस मामले में दूसरे नंबर पर महाराष्ट्र है, यहां 78000 ऐक्टिव केस हैं। रिकवरी के मामले में केरल सबसे खराब स्थिति में है। यहां बीते दिन सिर्फ 16000 रिकवर हुए, जबकि महाराष्ट्र में 11 हजार के करीब। देश में 90 प्रतिशत एक्टिव केस 10 राज्यों-केरल, महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, ओडिशा, असम, पश्चिम बंगाल, मिजोरम और मणिपुर से हैं।

लगातार बढ़ रहे मामलो को लेकर केरल और महाराष्ट्र की कोरोना प्रबंधन की नीतियों पर सोशल मीडिया पर काफी आलोचना हो रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने बताया कि सरकार राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र के निदेशक की अध्यक्षता में 6 सदस्यीय टीम केरल भेजी गई है। चूंकि केरल में अभी भी बड़ी संख्या में COVID मामले सामने आ रहे हैं, इसलिए टीम COVID प्रबंधन में राज्य के चल रहे प्रयासों में सहायता करेगी। बता दें कि यह टीम आज से केरल में जांच करेगी।

केरल सरकार तुष्टीकरण के चलते ईद पर लॉकडाउन में छूट दी गई थी। जिसके बाद से ही यहां संक्रमण बढ़ने लगा। इस मामले में सर्वोंच्च न्यायालय ने भी नाराजगी व्यक्त की थी। बवजूद इसके केरल सरकार ने ईद पर कोरोना के नियमों में छूट दी। जिसका खामियाजा अब केरल खुद भुगत रहा है।

कोविड प्रबंधन की बात करें तो देश में सबसे सफल सरकारों में से एक यूपी की योगी सरकार रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कुशल नीति और रणनीति का ही परिणाम है कि जहां देश में तीसरी लहर की आशंका है, वहीं उत्तर प्रदेश कोरोना महामारी को हराने के कगार पर खड़ा है। यहां यूपी की बात इसलिए महत्वपूर्ण हो जाती है, क्योंकि आबादी के हिसाब से सबसे ज्यादा जनसंख्या यूपी की है।

यूपी में बीते 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 60 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 44 संक्रमित मरीज ठीक होकर डिस्चार्ज हुए हैं। अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि 24 घंटों में 4 संक्रमित मरीजों की मौत हुई है। 30 अप्रैल, 2021 के बाद से कोरोना संक्रमण लगातार कमजोर हुआ है। वर्तमान में सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 787 रह गई है। बीते 24 घंटों में 2,51,287 सैंपल की जांच की गई है।

उत्तर प्रदेश में 6,700 से अधिक PICU बेड्स की व्यवस्था की जा चुकी है। इसके अलावा सभी अस्पतालों में मेडिकल ऑक्सीजन की भी व्यवस्था की जा रही है।

एक तरफ जहां केरल और महाराष्ट्र जैसे राज्य अपनी गलत नीतियों के कारण कोरोना महामारी से जूझ रहें हैं, तो वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कुशल नीतियों से महामारी को मात देने कगार पर खड़ा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...