1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्‍तराखंड: पुलिस कर्मियों को 4600 ग्रेड पे का तौहफा, सीएम धामी ने पुलिस स्मृति दिवस पर की घोषणा

उत्‍तराखंड: पुलिस कर्मियों को 4600 ग्रेड पे का तौहफा, सीएम धामी ने पुलिस स्मृति दिवस पर की घोषणा

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार को पुलिस स्मृति दिवस पर दून में रेसकोर्स स्थित रिजर्व पुलिस लाइन में आयोजित कार्यक्रम में 20 वर्ष की सेवा पूर्ण कर चुके उत्तराखंड पुलिस के सिपाहियों को 4600 ग्रेड पे का तौहफा दिया। साथ ही अपराधियों पर घोषित की जाने वाली इनामी राशि को बढ़ाया।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिर्पोट: अनुष्का सिंह

 

नई दिल्ली : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार को पुलिस स्मृति दिवस पर दून में रेसकोर्स स्थित रिजर्व पुलिस लाइन में आयोजित कार्यक्रम में 20 वर्ष की सेवा पूर्ण कर चुके उत्तराखंड पुलिस के सिपाहियों को 4600 ग्रेड पे का तौहफा दिया। साथ ही अपराधियों पर घोषित की जाने वाली इनामी राशि को बढ़ाया।

मुख्यमंत्री धामी ने सभा को संमेबोधित करते हुऐ कहा कि वर्ष 2001 बैच के सिपाहियों की सेवा के 20 साल अक्टूबर में पूरे हो गए हैं। ऐसे में इन पुलिसकर्मियों का ग्रेड पे अक्टूबर से ही 4600 कर दिया जाएगा। साथ ही उन्होने बताया कि 2001 के बाद के बैच के सिपाहियों के ग्रेड पे पर निर्णय के लिए अलग से समिति बनाई गई है। और शहीद पुलिसकर्मियों के नाम पर स्कूल व सड़कों का नामकरण करने की भी घोषणा की। उन्होने आगे कहा कि कि कोरोना संक्रमण के नियंत्रण में पुलिस कार्मिक जान की परवाह न करते हुए सराहनीय कार्य कर रहे हैं। इस दौरान बड़ी संख्या में अधिकारी व कर्मचारी कोरोना संक्रमित हुए, जबकि 13 पुलिसकर्मियों की मृत्यु हुई।

पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने कहा कि 21 अक्टूबर 1959 को लद्दाख के 16 हजार फीट ऊंचे बर्फीले एवं दुर्गम क्षेत्र हाटस्प्रिंग में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की एक गश्ती टुकड़ी के 10 जवानों ने एसआइ करन सिंह के नेतृत्व में चीनी अतिक्रमणकारियों से लोहा लिया और बहादुरी से लड़ते हुए अपनी मातृभूमि की रक्षा में अपने प्राणों की आहुति दी थी। इन्हीं वीर सपूतों के बलिदान की स्मृति में प्रत्येक वर्ष 21 अक्टूबर के दिन को पुलिस स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस साल तीन आरक्षी मनोज कुमार जिला चमोली, बलवीर गड़िया चमोली और जितेंद्र सिंह जिला पौड़ी गढ़वाल ने ड्यूटी के दौरान अपने प्राणों की आहुति दी है।

गौरतलब है कि इस मौके पर कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत, गणोश जोशी, महापौर सुनील उनियाल गामा, राज्यसभा सदस्य नरेश बंसल, विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन, खजानदास, विनोद चमोली, मुख्य सचिव डा. एसएस संधु, अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी, रिटायर्ड डीजीपी सुभाष जोशी, अनिल के रतूड़ी और एसएसपी जन्मेजय खंडूडी भी मौजूद रहे।

आपको बता दे कि ग्रेड पे की मांग को लेकर 2001 बैच के सिपाहियों के निकट सम्बन्धी दो बार सड़क पर उतर चुके है। जिसके चलते अब सरकार ने यह फैसला लिया है। इस फैसले का लाभ वर्ष 2001 बैच के 1500 सिपाहियों को मिलेगा। ग्रेड पे में बढ़ोत्तरी से सरकार के खजाने पर इस साल 4.6 करोड़ रुपये और अगले साल से 15 करोड़ रुपये का वित्तीय बोझ पड़ेगा।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...