1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. बेरोजगारी के कारण अनाथ हुए बच्चे, पेट पालने के लिए लगा रहे मदद की गुहार, की भावुक अपील…

बेरोजगारी के कारण अनाथ हुए बच्चे, पेट पालने के लिए लगा रहे मदद की गुहार, की भावुक अपील…

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट- पल्लवी त्रिपाठी

उत्तराखंड : जिसका कोई नहीं उसका खुदा होता है, लेकिन यहां खुदा भी जुदा-जुदा हो गया। क्योंकि इस खुदा ने उन बच्चों की जान तो बचा ली, लेकिन उन लोगों के पिता की जान चली गई। जिससे ये बच्चे अनाथ हो गये। और इनके सामने सारी समस्या उत्पन्न हो गई कि ये अपना पेट कौैसे पाले। क्योंकि जो इनका पालनहार था वो तो दुनिया छोड़कर चला गया।

आपको बता दें कि ये पूरा मामला उत्तराखंड के अल्मोड़ा का है, जहां एक पिता ने बेरोजगारी से परेशान होकर सुसाइड कर ली। हालांकि इससे पहले उसने अपने तीन बच्चों और बैलों की भी जान लेनी चाही। लेकिन डॉक्टरों के अथक प्रयास से बच्चे तो बच गये। किंतु उनके पिता नहीं बच सकें।

मामला उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के स्याल्दे ब्लॅाक स्थित बजवाड़ गांव का है । जहां एक पिता ने बेरोजगारी होने के चलते आर्थिक तंगी से तंग आकर अपने तीन बच्चों औऱ दो बैलों को ज़हर दे दिया । साथ ही खुद भी ज़हर खा लिया । सूचना मिलने पर सभी को हल्द्वानी अस्पताल ले जाया गया । हालांकि, पिता की जान नहीं बचायी गयी । वहीं तीनों बच्चे सुरक्षित हैं । लेकिन उन अनाथ बच्चों के सामने इस वक्त परेशानी ये खड़ी हो गयी है कि वे अब कहां जाएं ? क्या करें ? और अपना पेट कैसे पालें । जिसके बाद बच्चों ने अपना बैंक से जुड़ी जानकारियां साझा कर मदद के लिए गुहार लगाई है । जिससे उन्हें आर्थिक मदद मिल सके ।

उन बच्चों ने निम्न जानकारियां साझा कर मदद करने की अपील की है ।

नाम : yashpal singh
खाता संख्या : 76024543253
आई एफ एस सी कोड : SBINORRUTGB
उत्तराखंड ग्रामीण बैंक
ब्रांच का कोड व नाम -सराईखेत 620
एमआईसीआर कोड : 244544453
जानकारी के लिए बच्चों से 9870742584 पर संपर्क किया जा सकता है ।
इसके अलावा इस नम्बर 9873412726 ( राकेश डंडरियाल ) पर भी संपर्क किया जा सकता हैं ।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...