1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड में भारी बारिश के बाद पीएम मोदी ने की मुख्यमंत्री से बात, लिया राज्य की स्थिति का जायजा

उत्तराखंड में भारी बारिश के बाद पीएम मोदी ने की मुख्यमंत्री से बात, लिया राज्य की स्थिति का जायजा

उत्तराखंड में भारी बारिश और भूस्खलन को लेकर पीएम मोदी ने की सीएम धामी से बात। मुख्यमंत्री से लिया राज्य की स्थिति का जायजा। पीएम मोदी ने दिया हर संभव मदद करने का आश्वासन।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिर्पोट: अनुष्का सिंह 

 

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के साथ लगातार बारिश से प्रभावित राज्य की स्थिति का जायजा लेने के लिए बात की। मुख्यमंत्री ने पीएम मोदी को स्थिति से अवगत कराया और कहा कि प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है। पीएम मोदी ने धामी को स्थिति से निपटने के लिए हर संभव मदद का आश्वासन दिया। साथ ही आधिकारिक सूत्रों ने समाचार एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया को बताया कि पीएम मोदी ने राज्य केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट से भी बात की है।

आपको बता दें कि भगवान शिव की नगरी उत्तराखण्ड फिलहाल प्रकृती का कहर झेल रही है। दक्षिण पूर्व क्षेत्रो से आती हवाओं ने उत्तराखण्ड के मिजाज़ को काफी बदल कर रख दिया है। भारी बारिश और बर्फबारी के कारण तापमान मे काफी गिरावट देखने को मिली है। राज्य के सभी इलाकों में रुक-रुक कर लगातार बारिश हो रही है। जिसके चलते जान और माल का भी काफी नुकसान हुआ है। साथ ही मसूरी में रविवार से मसूरी का भी यही मिजाज बना हुआ है। बारिश के साथ यहां घना कोहरा भी छाया है हुआ है।

साथ ही गंगोत्री और यमुनोत्री हाईवे पर कई जगह मलबा आने से मार्ग बाधित हो गयें हैं। बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग कलियासौड़ और सिरोबगड़ में बंद हो गया है। इस वजह से वाहनों को पौड़ी चुंगी और श्रीकोट में रोका जा रहा है। टनकपुर-पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग में आठ जगह मलबा आने से यातायात बंद पड़ा हुआ है।

आपको बता दें कि बारिश के कारण हुई भूस्खलन ने कई लोगों की जान ले ली। स्टेट इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर के अनुसार, सोमवार को बारिश के कारण उत्पन्न हुई भूस्खलन से एक निर्माणाधीन होटल चपेट में आ गई, जिसमें तीन लोगों की मौत हो गई। साथ ही रुद्रप्रयाग जिले में एक अन्य घटना में कानपुर के एक 27 वर्षीय व्यक्ति सुधीर अवस्थी की रुद्रप्रयाग में संगम बाजार के पास एक बोल्डर की चपेट में आने से मौत हो गई। वहीं चंपावत जिले में भी दो लोगों की मौत हो गई है। साथ ही भूस्खलन के कारण सोमवार को गढ़वाल और कुमाऊं भी बंद रहे। सभी ट्रेकिंग गतिविधियां और चार धाम यात्रा स्थगित कर दी गईं। वहीं अगले 48 घंटों में भारी से बहुत भारी बारिश की भविष्यवाणी के कारण, राज्य सरकार ने रविवार से चार धाम यात्रा मार्ग पर तीर्थयात्रियों को रोक दिया था और लोगों से अपील की थी कि वे जहां हैं वहीं रहें और भूस्खलन की संभावना को देखते हुए यात्रा न करें।

मौसम कार्यालय के अनुसार, उत्तराखंड में पिछले 24 घंटों में 140% की वृद्धि दर्ज करते हुए, औसत 2.4 मिमी की तुलना में 36.7 मिमी बारिश हुई है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...