1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. तीन कृषि कानूनों की वापसी पर बोले ओवैसी, कहा- अब जल्द ही ये कानून भी वापस लेगी मोदी सरकार

तीन कृषि कानूनों की वापसी पर बोले ओवैसी, कहा- अब जल्द ही ये कानून भी वापस लेगी मोदी सरकार

Owaisi said on the withdrawal of three agricultural laws; पीएम मोदी ने शुक्रवार सुबह आंदोलन कर रहे किसानों को बड़ा तोहफा दिया है। आपको बता दें कि पीएम मोदी ने तीनों कृषि कानून को वापस लेने का ऐलान किया है। इसके साथ ही उन्होंने किसानों से घर वापसी की भी अपील की।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुक्रवार को तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के ऐलान के बाद विपक्षी दलों ने एक बार फिर तीखी प्रतिक्रिया देने शुरू कर दी है। एक तरफ जहां समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव से लेकर बीएसपी मुखिया मायावती, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने केंद्र सरकार पर हमला बोला है। वहीं अब AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है। ओवैसी ने कहा है कि मोदी सरकार अब जल्द ही कृषि कानून के बाद ये भी कानून वापस लेगी।

पढ़े ओवैसी का पूरा बयान

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि, ‘सरकार ने कृषि क़ानूनों को रद्द करने का फैसला देरी से लिया है। यह किसान आंदोलन और किसानों की सफलता है। चुनाव में जाना था इसलिए केंद्र सरकार ने यह फैसला लिया है। वह दिन भी दूर नहीं है, जब मोदी सरकार CAA का कानून भी वापस लेगी।’

इसके अलावा ओवैसी ने कश्मीर में 370 धारा हटाने और किसानों को मुआवजा देने पर भी अपनी प्रतिक्रिया दी। ओवैसी ने कहा कि, ‘370 हटाने के बाद कहां से कश्मीर स्थिर हो गया। कश्मीर में कोई हालात नहीं बदलें। आप अपने वैचारिक विचार साधने के लिए ये सब कर रहे हैं। हर मोर्चे पर मोदी सरकार नाकाम है। हालत-ए-मजबूरी में इस कानून को वापस लेना पड़ा। यकीनन सरकार को जिन किसानों की मौत हुई है, उन 700 किसानों की मदद (मुआवजा) देना चाहिए। मोदी सरकार उनको मुआवजा दे। मोदी सरकार ने अपनी इगो को सैटिस्फाई करने के लिए ये कानून लाया। ये देखना रोचक होगा कि पश्चिम उत्तर प्रदेश में इस फ़ैसले का क्या असर होता है। आंदोलन जारी रखना है या नहीं, ये किसानों को तय करना है।’

सरकार के फैसले पर विपक्षी दलों की तीखी प्रतिक्रिया

समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा कि अमीरों की बीजेपी ने भूमि अधिग्रहण व काले कानूनों से गरीबों-किसानों को ठगना चाहा। कील लगाई, बाल खींचते कार्टून बनाए, जीप चढ़ाई लेकिन सपा की पूर्वांचल की विजय यात्रा के जन समर्थन से डरकर काले-कानून वापस ले ही लिए। भाजपा बताए सैंकड़ों किसानों की मौत के दोषियों को सजा कब मिलेगी?

बीएसपी मुखिया मायावती ने कहा कि किसानों का संघर्ष और बलिदान रंग लया है। तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने का निर्णय बहुत पहले हो जाना चाहिए था। फिर भी किसानों की एमएसपी पर कानून की मांग लंबित है। बीएसपी की मांग है कि संसद के आगामी सत्र में केंद्र इस संबंध में (एमएसपी) पर कानून लाए। प्रियंका गांधी वाड्रा ने सिलसिलेवार तीन ट्वीट किए। प्रियंका ने कहा कि आपकी नियत और आपके बदलते हुए रुख पर विष्वास करना मुश्किल है। किसान की सदैव जय होगी. जय जवान, जय किसान, जय भारत।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...