1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. ये है कोरोना का बिल्कुल नया लक्षण, डॉक्टरों के लिए भी बनी पहेली

ये है कोरोना का बिल्कुल नया लक्षण, डॉक्टरों के लिए भी बनी पहेली

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के लक्षण आम सर्दी-जुकाम से इतने मिलते-जुलते हैं कि इनमें फर्क समझना भी मुश्किल है. हालांकि एक नई रिपोर्ट में कोरोना वायरस के बिल्कुल नए लक्षण बताए गए हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना संक्रमण होने पर मरीज की प्लेटलेट्स अचानक से गिर जाती हैं और उसे बहुत ज्यादा थकावट महसूस होने लगती है. जबकि बुखार और सांस में तकलीफ जैसे लक्षण बाद में उभरते हैं. इन शुरुआती लक्षणों को इग्नोर करना घातक साबित हो सकता है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, आजाद नगर पारा रोड के अलीम शेख (60) ने 18 अप्रैल को बहुत ज्यादा थकावट महसूस होने के बाद एक ब्लड टेस्ट करवाया. उन्होंने ये ब्लड टेस्ट डॉक्टर की सलाह पर करवाया था जिसमें पता चला कि उनके शरीर की प्लेटलेट्स अचानक गिरकर 85,000 रह गई हैं. एक इंसान के शरीर में सामान्यत: डेढ़ लाख से साढ़े चार लाख के बीच प्लेटलेट्स होनी चाहिए.

अलीम शेख ने डॉक्टर के कहने पर दवाइयां लेना शुरू कर दिया, लेकिन 23 अप्रैल को उन्हें अचानक सांस की भयंकर तकलीफ होने लगी. इसके बाद उनका एक और ब्लड टेस्ट हुआ जिसमें पता लगा कि उनके शरीर की प्लेटलेट्स अब घटकर सिर्फ 20,000 ही रह गई हैं.

मरीज की हालत बिगड़ती देख परिवार के सदस्यों ने उन्हें भर्ती कराने के लिए कई अस्पतालों के चक्कर काटे, लेकिन सभी ने ये कहकर इनकार कर दिया कि उनके पास ऑक्सीज सपोर्टेड बेड नहीं हैं. अलीम की भतीजी सना ने बताया कि इलाज मिलने के इंतजार में ही उन्होंने दम तोड़ दिया.

कुछ ऐसा ही बालागंज निवासी राजकुमार रस्तोगी (59) के साथ हुआ. ज्यादा थकावट महसूस होने के बाद जब उन्होंने ब्लड टेस्ट करवाया तो पता लगा कि उनके शरीर में केवल 21,000 प्लेटलेट्स ही बची हैं. लेकिन 16 अप्रैल को उन्हें अचानक सांस में तकलीफ होने लगी. उनके बेटे स्वप्निल ने कहा, ‘एक प्राइवेट अस्पताल में सीटी स्कैन कराने पर पता चला कि उन्हें कोविड निमोनिया की शिकायत है.’

स्वप्निल ने बताया कि शुरुआती स्टेज पर उनके पिता को कभी सूखी खांसी, बुखार या सांस में तकलीफ की शिकायत नहीं हुई, जिन्हें कोविड-19 का सामान्य लक्षण समझा जाता है. उन्होंने बताया कि कोविड-19 की पुष्टि होने के बाद 17 अप्रैल को उन्हें एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन 20 को उनकी मौत हो गई. फेफड़ों में इंफेक्शन के चलते उनकी हालत बहुत बिगड़ गई थी और अस्पताल में वेंटिलेटर की सुविधा तक नहीं थी.

सरोजनी नगर के निवासी अनूप कुमार (78) के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ. उनका प्लेटलेट काउंट भी अचानक से गिर गया था. उन्होंने भी थकावट और कमजोरी महसूस होने के बाद डॉक्टर की सलाह पर टेस्ट करवाया था. अच्छी बात ये थी कि डॉक्टर ने उन्हें कोविड-19 के लिए RT-PCR टेस्ट कराने को कहा था और उनकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई.

अनूप फिलहाल आइसोलेशन में हैं और वो कहते हैं, ‘मुझे कभी बुखार नहीं हुआ और न ही बीमारी का कोई लक्षण कभी सामने आया, लेकिन फिर भी मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. समय पर बीमारी के बारे में पता चलने पर मुझे रिकवर होने में मदद मिली.’

रेस्पिरेटरी मेडिसिन डिपार्टमेंट KGMU के प्रोफेसर संतोष कुमार कहते हैं, ‘हर एक वायरल इंफेक्शन में प्लेटलेट काउंट गिरता है. इसलिए थकान को इग्नोर किए बिना कोविड-19 का टेस्ट कराना चाहिए. कोविड-19 के लक्षण इन्फ्लूएंजा जैसे ही होते हैं, लेकिन अब डायरिया, आंखों में लालपन, चकत्ते और थकावट जैसे कई नए लक्षण भी सामने आए हैं. शरीर में ये लक्षण दिखते ही लोगों को कोविड-19 की जांच करानी चाहिए.’

RML इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस के डॉ. विक्रम सिंह कहते हैं, ‘थकान या अस्वस्थता वायरल बुखार के लक्षण हैं. कोविड भी एक तरह का वायरल है जिसमें लोगों को बुखार के साथ ये दोनों महसूस होते हैं. सामान्य तौर पर एक इंसान का प्लेटलेट काउंट 1.5 से 4.5 लाख ब्लड प्रतिलीटर होता है. लेकिन कई मामलों में ये 75,000 से 85,000 प्रति लीटर तक चला जाता है. कई बार डेंगू या किसी अन्य बीमारी में मरीज की गलती से भी प्लेटलेट काउंट गिर जाता है. हमारी सलाह है कि यदि कोई व्यक्ति थकावट या अस्वस्थ महसूस करे तो वो तुरंत कोविड-19 का टेस्ट कराए.’

डॉक्टर्स अब उन लोगों को भी आगाह करने लगे हैं जिनकी रिपोर्ट लक्षण दिखने के बावजूद नेगेटिव आ रही है. ऐसे लोगों को भी सेल्फ आइसोलेट में रहने की सलाह दी जा रही है.

आइए जानते हैं कि शरीर में दिख रहे किन लक्षणों को मॉनिटर करने की जरूरत है.

  • कोविड के अधिकतर मरीजों की गंध लेने और स्वाद की क्षमता खत्म हो जा रही है. ये लक्षण शरीर में बुखार होने से पहले दिख सकते हैं. यहां तक कि रिकवरी के बाद भी मरीज लंबे समय तक इन्हें महसूस कर सकता है.
  • बुखार कोविड-19 का एक बेहद सामान्य लक्षण है. जब दर्द में राहत देने वाली दवाओं से भी बुखार में आराम न पड़े और हालत गंभीर होने के साथ-साथ ठंड लगे तो ये कोरोना का संकेत हो सकता है.
  • सूखी खांसी और बुखार के अलावा, कोविड-19 के मरीजों को अक्सर बहुत ज्यादा थकान और कमजोरी भी महसूस हो रही है. अन्य वायरल इन्फेक्शन में होने वाली थकान के मुकाबले कोविड-19 की थकावट सहन कर पाना जरा मुश्किल हो जाता है.
  • कोविड-19 और कोल्ड या फ्लू से होने वाली खराश के बीच अंतर को समझ पाना अक्सर लोगों के लिए मुश्किल हो जाता है. ध्यान रखें कि अगर आपको बुखार या खांसी के साथ गले में खराश की शिकायत है तो ये कोविड-19 का ही लक्षण है.
  • कोविड-19 के कई मरीजों ने डायरिया और जी मिचलाने जैसे लक्षणों को भी महसूस किया है. इससे मरीजों को पेट में गंभीर ऐंठन और उल्टी की शिकायत हो सकती है.
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...