1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. महाराष्ट्र संकट: विप पर अब असली खेल शुरू, स्पीकर लेंगे फैसला

महाराष्ट्र संकट: विप पर अब असली खेल शुरू, स्पीकर लेंगे फैसला

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

महाराष्ट्र में कुर्सी को लेकर कसरत जारी है। इस बीच विप जारी करने को लेकर भी कवायदें शुरू हो गई है कि विप जारी करने का वास्तविक अधिकार किसे है। एक तरफ बीजेपी का कहना है कि उसे समर्थन करने वाले एनसीपी के नेता अजित पवार को ही सिर्फ विप जारी करने का अधिकार है।

दूसरी तरफ एनसीपी कह रही है कि अब विप जारी करने का अधिकार सिर्फ जयंत पाटिल को है क्योंकि जयंत को विधायक दल का नेता बनाया गया है। क्योंकि सोमवार को खुद शरद पवार ने कहा था कि, अजित पवार के पास विप जारी करने का कोई अधिकार नहीं है। जबकि बीजेपी नेता औऱ केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे पाटिल का कहना है कि अजित पवार को ही नेता माना जाएगा और वही विप जारी करेंगे।

महाराष्ट्र सचिवालय के सचिव राजेंद्र भागवत का कहना है कि, सचिवालय को एक पत्र मिला है जिसमें जयंत पाटिल को एनसीपी विधायक दल का नेता बनाये जाने की बात कही गई है। हलांकि अबतक स्पीकर की तरफ से फैसला नहीं लिया गया है।

अगर तकनीकी पहलू के बारे में बात करें तो विप की न्युक्ति के बाद राजनीतिक दल को विधानसभा स्पीकर या फिर सचिवालय को इसके बारे में जानकारी देनी होती है। ऐसे में बीजेपी और अजित पवार को मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

अगर जयंत पाटिल को एनसीपी का विप माना गया तो फिर एनसीपी के विधायकों का बीजेपी के लिए वोट करना मुश्किल होगा। अगर ऐसा हुआ तो फिर देवेंद्र फडणवीस के लिए सरकार बनाना मुश्किल होगा।

इस पूरी प्रकिया पर सचिवालय के अधिकारी की अगर मानें तो, अजित पवार को 30 अक्टूबर को एनसीपी का विप नियुक्त किया गया था, लेकिन इस संबंध में विधनसभा सचिवालय को कोई जानकारी नहीं दी गई है।

लेकिन सोमवार को एसपीसी ने यह जानकारी दी कि, अजित पवार को हटा दिया गया है औऱ जयंत पाटिल को विधायक दल का नेता बनाया गया है और उसके पास ही विप जारी करने का हक है। अगर ऐसी स्थिति रही तो सचिवालय के लिए पाटिल ही एनसीपी के विप होंगे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...