1. हिन्दी समाचार
  2. क्राइम
  3. लेडी सिंघम ने खुद को मारी गोली, वजह जानकर पैरों तले जमीन खिसक जाएगी

लेडी सिंघम ने खुद को मारी गोली, वजह जानकर पैरों तले जमीन खिसक जाएगी

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट- पल्लवी त्रिपाठी

महाराष्ट्र : महाराष्ट्र के अमरावती जिले से मानवता को शर्मसार करने वाली घटना सामने आयी है । जहां एक महिला रेंज वन अधिकारी ने सुसाइड कर लिया । आत्महत्या करने से पहले उन्होंने अपनी दर्दभरी दास्तां सुसाइड नोट में लिखी है । जिसमें उनके इस कदम उठाने की वजह साफ होती नज़र आ रही है ।

मामला अमरावती के मेलघाट टाइगर रिजर्व का है । जहां वन रेंज में तैनात अधिकारी दीपाली चव्हाण ने शुक्रवार देर रात सर्विस रिवाल्वर से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली । 28 वर्षीय RFO दीपाली चव्हाण का शव टाइगर रिजर्व के पास हरिसल गांव में बने सरकारी क्वार्टर में बरामद किया गया । उन्होंने अपने सुसाइड नोट में सीनियर अधिकारी (DCF) विनोद शिवकुमार द्वारा सेक्सुअल हैरेसमेंट और टॉचर्र को अपनी मौत की वजह बतायी है ।

लेडी सिंघम ने यह कदम उस दौरान उठाया, जब उनके पति राजेश मोहिते ड्यूटी पर थे। उनके पति चिखलधारा में एक ट्रेजरी ऑफिसर हैं । वहीं, उनकी मां भी आत्महत्या के दौरान घऱ पर नहीं थी । वह अपने रिश्तेदार के यहां सतारा गई हुई थीं । बताया जा रहा है कि रिश्तेदार के घऱ पहुंचने पर मां ने जब दीपाली को फोन किया, तो कई बार नंबर मिलाने के बावजूद दीपाली ने फोन नहीं उठाया । जिसके बाद उन्होंने गार्ड को घर भेजा । जहां पता चला कि उनकी मौत हो चुकी है।

पुलिस की शुरूआती जांच में दीपाली का सुसाइड नोट सामने आया है । जिसके मुताबिक, उन्होंने अपने सीनियर अफसर विनोद शिवकुमार पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है । उन्होंने अपने सुसाइड नोट में लिखा- ‘विनोद उनके साथ अभद्र व्यवहार करता था और फीजिकल होने के इशारे करता था । इस बारे में मैंने कई बार अपने वरिष्ठ, MTR फील्ड डायरेक्टर, एम.एस. रेड्डी (RFS) को शिकायत किया । लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। विनोद की हरकतें इतनी बढ़ चुकी थीं कि वह सार्वजनिक और निजी तौर पर मुझे सेक्सुअल हैरेसमेंट और टॉचर्र करता था ।’ दीपाली का कहना है कि उन्होंने उसे फटकार भी लगायी थी, लेकिन वो काम के जरिए परेशान करने लगा था । एक महीने की सैलरी भी रोक दी थी।

दीपाली ने लिखा कि ‘शिवकुमार मुझे छुट्टी नहीं देता था । प्रेग्नेंट होने के बावजूद मुझे जान बूझकर कच्चे रस्ते पर घुमाया, जिसके चलते मेरा अबॉर्शन हुआ । उसके बावजूद मुझे अवकाश नहीं दिया गया । इतना ही नहीं शिवकुमार मुझे, जूनियर्स, गांव वालों, मजदूरों के सामने गालियां दिया करते थे । मुझे देर रात मिलने के लिए बुलाता था । वह अश्लील बातें करते थे।’ साथ ही दीपाली ने इस मामले में अफसर पर बड़ी कार्रवाई की मांग की है ।

इसके अलावा दीपाली ने सुसाइड नोट के जरिए परिवारवालों से कहा- ‘जब तक आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जाए, वह ना तो शव लेंगे और ना ही अंतिम संस्कार करेंगे।’ जिसके बाद पुलिस एक्शन में आ गई । हालांकि, तब तक आरोपी फरार हो होने की तैयारी में था और बेंगलुरु जाने के लिए रेलवे स्टेशन पहुंच गया था । लेकिन पुलिस ने जांच- पड़ताल कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया ।

बता दें कि दीपाली चव्हाण को उनकी निडरता के लिए जाना जाता था । वो अक्सर आधी रात को भी जंगल की सुरक्षा में निकल पड़ती थीं । इसलिए इलाके के लोग उनको लेडी सिंघम के नाम से बुलाते थे । उन्होंने इतने कम समय में हरिसाल के दो गांवों का कायाकल्प कर उसे पर्यटन के रूप में विकसित कर दिया था । जिसके लिए उनको सम्मानित भी किया गया था ।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...