1. हिन्दी समाचार
  2. एजुकेशन
  3. जानिए कब हुई भारतीय किसान संघ की स्थापना, जिसने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को किया था झुकने को मजबूर

जानिए कब हुई भारतीय किसान संघ की स्थापना, जिसने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को किया था झुकने को मजबूर

किसान आंदोलन को लेकर सुर्खियों में रही भारतीय किसान संघ लगातार सुर्खियों में है, जिसका प्रमुख कारण सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानून बिल है, जिसे सरकार ने किसानों के हीत में पास किया था। लेकिन भारतीय किसान संघ के नेता राकेश टिकैत और अन्य नेता लगातार इस बिल का विरोध कर रहे है। लेकिन आज हम इन नेताओं का जिक्र नहीं करेंगे, हम जिक्र करेंगे भारतीय किसान संघ की।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिर्पोट: अनुष्का सिंह

नई दिल्ली : किसान आंदोलन को लेकर सुर्खियों में रही भारतीय किसान संघ लगातार सुर्खियों में है, जिसका प्रमुख कारण सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानून बिल है, जिसे सरकार ने किसानों के हीत में पास किया था। लेकिन भारतीय किसान संघ के नेता राकेश टिकैत और अन्य नेता लगातार इस बिल का विरोध कर रहे है। लेकिन आज हम इन नेताओं का जिक्र नहीं करेंगे, हम जिक्र करेंगे भारतीय किसान संघ की।

आपको बता दें कि इस संघ की स्थापना 1987 में महेन्द्र सिंह टिकैत ने की है। बता दें कि 1987 में महेंद्र सिंह टिकैत ने शामली, मुजफ्फरनगर, यूपी में किसानों के बिजली बिल माफ करने की मांग को लेकर एक अभियान चलाया और एक महत्वपूर्ण व्यक्ति बन गए। औरवहीं उन्होंने भारतीय किसान संघ की स्थापना की।

भारतीय किसान यूनियन रैली और कुछ महत्वपूर्ण अभियान

1988 मेंभारतीय किसान यूनियन रैली का आयोजन दिल्ली के बोट क्लब लॉन में महेंद्र सिंह टिकैत नेकिया था, जिसमें पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लगभग पांच लाख किसानों ने विजय चौक से इंडिया गेट तक एक सप्ताह से अधिक समय तक राजीव गांधी सरकार को उनके 35 शर्तो को स्वीकार करने के लिए मजबूर किया थी। जिसमे गन्ने के दाम बढ़ाने और किसानों के बिजली बिल माफ करने सहित और कई मांगें मैजूद थी।

जुलाई 1990 में, श्री महेंद्र सिंह टिकैत ने उत्तर प्रदेश की जनता दल सरकार को गन्ने की उच्च कीमतों और बिजली के बकाया में भारी छूट की मांग के साथ लखनऊ में दो लाख से अधिक किसानों के साथ भारतीय किसान संघ रैली का आयोजन किया और सफल रहे।

1992 में, श्री महेंद्र सिंह टिकैत ने लखनऊ में किसानों के 10,000 रुपये तक के ऋण को माफ करने की मांग के साथ धरना दिया और किसानों की अधिग्रहित भूमि के लिए अधिक मुआवजे की मांग करते हुए गाजियाबाद में धरने की व्यवस्था की।

 

महेंद्र सिंह टिकैत

श्री महेंद्र सिंह टिकैत उत्तर प्रदेश राज्य, भारत के पश्चिमी क्षेत्र में एक प्रसिद्ध किसान नेता थे। उनका जन्म 6 अक्टूबर 1935 को उत्तर प्रदेश के मुजफ्फर नगर जिले के सिसौली गांव में हुआ था। वह भारतीय किसान संघ, एक किसान आंदोलन के संस्थापक अध्यक्ष थे, और प्रधान मंत्री चौधरी चरण सिंह के बाद किसानों के “दूसरे मसीहा” के रूप में प्रतिष्ठित थे। श्री महेंद्र सिंह टिकैत का देहांत 15 मई 2011 को 75 वर्ष की आयु में मुजफ्फर नगर में हुआ।

सातवीं शताब्दी के सम्राट हर्षवर्धन ने उनके परिवार को टिकैत की वंशानुगत उपाधि स्पष्ट रूप से प्रदान की थी। वंशानुक्रम के अनुसार परिवार का ज्येष्ठ पुत्र बलियान खाप का चौधरी बनता है। तदनुसार अपने पिता की मृत्यु के बाद श्री महेंद्र सिंह टिकैत आठ वर्ष की आयु में बलियां खाप के चौधरी बन गए थे।

टिकैत को अपने हजारों साल पुराने क्षेत्रीय और जाति की परंपराओं और संस्कृति में दृढ़ विश्वास था। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का विरोध किया कि एक ही गोत्र के लोगों के बीच विवाह वैध थे। “हम एक नैतिक संहिता द्वारा जीते हैं जहां सम्मान की किसी भी कीमत पर रक्षा की जानी चाहिए। समान गोत्र विवाह अनाचार हैं, कोई भी समाज इसे स्वीकार नहीं करेगा। आप हमसे ऐसा करने की उम्मीद क्यों करते हैं? अनाचार मर्यादा (सम्मान) का उल्लंघन करता है और ग्रामीण मारे जाएंगे या होंगे उनकी मर्यादा की रक्षा के लिए मारे गए,” उन्होंने एक टीवी साक्षात्कार में कहा था।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...