1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. देश-दुनिया के इतिहास में आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ, पढ़ें

देश-दुनिया के इतिहास में आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ, पढ़ें

इतिहास  से अच्छा शिक्षक कोई दूसरा हो ही नहीं सकता। इतिहास सिर्फ अपने में घटनाओं को नहीं समेटे होता है बल्कि इन घटनाओं से भी आप बहुत कुछ सीख सकते हैं।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

इतिहास  से अच्छा शिक्षक कोई दूसरा हो ही नहीं सकता। इतिहास सिर्फ अपने में घटनाओं को नहीं समेटे होता है बल्कि इन घटनाओं से भी आप बहुत कुछ सीख सकते हैं। हर गुजरता दिन इतिहास में कुछ घटनाओं को जोड़कर जाता है। खुदीराम बोस और प्रफुल्ल चाकी ने मुजफ्फरपुर में किंग्सफोर्ड के मजिस्ट्रेट की हत्या करने के लिए 30 अप्रैल 1908 में बम फेंका था । एक बार उन्होंने कहा था कि ‘क्या गुलामी से बड़ी और भद्दी कोई दूसरी बीमारी हो सकती है?’ खुदीराम बोस 18 साल की उम्र में इसलिए शहीद हो गए क्योंकि उन्होंने एक स्वतंत्र और समग्र भारत का सपना देखा था।

सोचिए, 18 साल की उम्र के ज्यादातर बच्चे कॉलेज में दाखिला लेने के बारे में सोच रहे होते हैं। दोस्तों के साथ पार्टी और गेट टुगेदर प्लान कर रहे होते हैं और आज कल तो सोशल मीडिया का जमाना है। यानी कौन कहां घूम रहा है, किसने किसके साथ सेल्फी अपलोड की है और किसकी तस्वीर पर कितने कमेंट्स आए हैं।

जब आजकल के युवा ये सब कर रहे होते हैं, तब इसी उम्र में खुदीराम बोस ने देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया था। हिन्दी चलचित्रों के सदाबहार अभिनेता देव आनंद को 2010 को मुंबई में दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से तथा प्राणको फाल्के आइकॉन से सम्मानित किया गया। 30 अप्रॅल को जन्मे व्यक्ति 30 अप्रॅल  1870 में भारत के प्रसिद्ध फ़िल्म निर्माता-निर्देशक एवं पटकथा लेखक दादासाहब फालके का जन्म हुआ था।

दादा साहेब एक ब्राह्मण मराठी परिवार से थे जिनका वास्तविक नाम धुंडीराज गोविंद फालके था धुंडीराज गोविंद फालके के पिता नासिक के जाने माने विद्वान थे जिनकी कारण धुंडीराज गोविंद फालके को बचपन से ही कला में रूचि थी। उन्हें भारतीय फिल्म उद्योग का पितामह कहा जाता है दादा साहेब फाल्के के नाम पर परुस्कार भी दिया जाता है।

भारतीय सिनेमा और उसके विकास में उत्कृष्ट योगदान देने वालों को मिलने वाले इस पुरस्कार को भारतीय सिने जगत के सर्वोच्च सम्मान होने का गौरव प्राप्त है–दादा साहेब फाल्के अक्सर कहा करते थे कि फिल्में मनोरंजन का सबसे उत्तम माध्यम हैं। साथ ही ज्ञानवर्धन के लिए भी वे एक उत्कृष्ट साधन हैं। उनका मानना था कि मनोरंजन और ज्ञानवर्धन पर ही कोई भी फिल्म टिकी होती है।

उनकी इसी सोच ने उन्हें एक अव्वल दर्जे के फिल्मकार के रूप में स्थापित किया। उनकी फिल्में निर्माण व तकनीकी दृष्टि से बेहतरीन हुआ करती थीं। इसकी वजह यही थी कि फिल्मों की पटकथा, लेखन, चित्रंकन, कला निर्देशन, संपादन, प्रोसेसिंग, डेवलपिंग, प्रिंटिंग इत्यादि सभी काम वह स्वयं देखते थे और कलाकारों के परिधानों का चयन भी अपने हिसाब से ही करते थे।

30 अप्रॅल को निधन व्यक्ति—जाने-माने अभिनेता ऋषि कपूर 30 अप्रैल  2020 में निधन है। फिल्मी परिवार से होने के कारण ऋषि कपूर को हमेशा से ही एक्टिंग में रूचि थी। ऋषि कपूर ने साल 1970 में अपने पिता की फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ से बॉलीवुड डेब्यू किया था। फिल्म में ऋषि ने अपने पिता के बचपन का रोल अदा किया था. हालांकि बतौर अभिनेता उन्होंने साल 1973 में रिलीज हुई फिल्म बॉबी से बॉलीवुड में एंट्री मारी थी

 

30 अप्रैल की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

2010 – हिन्दी फिल्मों के सदाबहार अभिनेता देव आनंद को शुक्रवार को मुंबई में दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से तथा प्राण को “फाल्के आइकॉन” से सम्मानित किया गया।

2008 – चालक रहित विमान लक्ष्य का उड़ीसा के बालासोर ज़िले के चाँदीपुर समुद्र तट से सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया।

2007 – नेत्रहीन पायलट माइल्स हिल्टन ने विमान से आधी दुनिया का चक्कर लगाकर रिकॉर्ड बनाया।

2006 – 2011 क्रिकेट विश्वकप की मेजबानी भारतीय उपमहाद्वीप को मिली।

2005 – नरेश के असाधारण अधिकार बरकरार रखते हुए नेपाल में इमरजेंसी समाप्त।

2004 – फजुला (ईराक) में हिंसा में 10 अमेरिकी सैनिक मारे गये।

2002 – पाकिस्तान में राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ़ के अगले 5 वर्षों के कार्यकाल में वृद्धि के लिए जनमत संग्रह सम्पन्न।

2001 – फिलीपींस में एरुत्रादा समर्थकों द्वारा तख्ता पलट का प्रयास।

2000 – आतंकवाद से निपटने के लिए सहयोग के आहवान के साथ जी -77 शिखर सम्मेलन हवाना में सम्पन्न।

1999 – लेविंस्की-क्लिंटन मामले को दुनिया के सामने लाने वाले पत्रकार माइकल इशिकॉफ़ को अंग्रेज़ी साप्ताहिक पत्रिका न्यूज वीक का ‘नेशनल मैंगनीज अवार्ड’ प्रदान किया गया, हिन्द महासागर के द्वीप कोमोरोस में सेना द्वारा सत्ता पर कब्ज़ा।

1985 – अमेरिकी पर्वतारोही रिचर्ड डिक बास (55 वर्ष) माउंट एवरेस्ट पर सर्वाधिक उम्र में चढ़ने वाले व्यक्ति बने।

1945 – जर्मन तानाशाह हिटलर एवं उसकी पत्नी इवा ब्राउन द्वारा आत्महत्या।

2017 – नेपाल के उच्चतम न्यायालय की पहली महिला मुख्य न्यायाधीश सुशीला कार्की पर महाभियोग का प्रस्ताव।

30 अप्रैल को जन्मे व्यक्ति

1967 – मीनाक्षी लेखी – भारतीय जनता पार्टी की राजनीतिज्ञ और सक्रिय राजनेता हैं।

1949 – एंटोनियो गुटेरेस – संयुक्त राष्ट्र संघ के नौवें महासचिव हैं।

1927 – फातिमा बीबी – सर्वोच्च न्यायालय की पूर्व न्यायाधीश

1909 – आर. शंकर – भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ तथा केरल के भूतपूर्व मुख्यमंत्री थे।

1870 – दादा साहब फाल्के – भारत के प्रसिद्ध फ़िल्म निर्माता-निर्देशक एवं पटकथा लेखक।

30 अप्रैल को हुए निधन

2021 – रोहित सरदाना – भारतीय समाचार वक्ता थे।

2020 – चुनी गोस्वामी – प्रसिद्ध भारतीय फ़ुटबॉलर थे।

2020 – ऋषि कपूर – भारतीय फ़िल्म अभिनेता, फ़िल्म निर्माता और निर्देशक थे।

2011 – दोरजी खांडू – अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे थे।

1837 – हरि सिंह नलवा – महाराजा रणजीत सिंह के सेनाध्यक्ष।

 

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...