1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. देश-दुनिया के इतिहास में आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ, पढ़ें

देश-दुनिया के इतिहास में आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ, पढ़ें

इतिहास  से अच्छा शिक्षक कोई दूसरा हो ही नहीं सकता। इतिहास सिर्फ अपने में घटनाओं को नहीं समेटे होता है बल्कि इन घटनाओं से भी आप बहुत कुछ सीख सकते हैं। हर गुजरता दिन इतिहास में कुछ घटनाओं को जोड़कर जाता है।  आज के ही दिन यानी 9 मार्च  1776 में अर्थशास्त्र पर एडम स्मिथ की मशहूर पुस्तक द वेल्थ ऑफ नेशन्स का  प्रकाशन हुआ था।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

इतिहास  से अच्छा शिक्षक कोई दूसरा हो ही नहीं सकता। इतिहास सिर्फ अपने में घटनाओं को नहीं समेटे होता है बल्कि इन घटनाओं से भी आप बहुत कुछ सीख सकते हैं। हर गुजरता दिन इतिहास में कुछ घटनाओं को जोड़कर जाता है।  आज के ही दिन यानी 9 मार्च  1776 में अर्थशास्त्र पर एडम स्मिथ की मशहूर पुस्तक द वेल्थ ऑफ नेशन्स का  प्रकाशन हुआ था।

वेल्थ ऑफ नेशंस में एडम स्मिथ ने इस बात की व्याख्या की है कि किसी भी देश के धनी कैसे बनाया जाए। किन चीजों का क्यों और कैसे उत्पादन किया जाए कि वह देश को आर्थिक रूप से समृद्ध बना सके। इस पुस्तक में श्रम को अत्यधिक महत्व दिया गया है। भारतीय मूल के, ब्रिटिश आधारित दिग्गज उद्योगपति स्वराज पॉल को 9 मार्च 1999 में सेंट्रल बर्मिघम विश्वविद्यालय द्वारा डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान की गयी थी ।

ब्रिटेन में भारतीय डॉक्टरों को भेदभाव वाले प्रवासी नियमों पर 9 मार्च 2007 में क़ानूनी कामयाबी मिली थी रूसी बोल्शेविक पार्टी ने 9 मार्च 1918 में कम्युनिट पार्टी बनाई थी। दुनिया में सबसे ज्‍यादा पसंद की जाने वाली बार्बी डॉल ने 9 मार्च 1959 में न्‍यूयार्क के अमेरिकन टॉय फेयर में अपनी जिंदगी शुरू की थी।

9 मार्च को जन्मे व्यक्ति मशहूर तबला वादक उस्ताद ज़ाकिर हुसैन का 9 मार्च 1951 में जन्म हुआ था। ज़ाकिर हुसैन को 1992 और 2009 में संगीत का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार ग्रैमी अवार्ड भी मिला है। आज भी जाकिर हुसैन के तबले का जादू बरकरार है और वक्त के साथ उम्मीद है आगे भी जारी रहेगा। जाकिर हुसैन ने अपनी कला से लाखों दिलों को तबले का दीवाना बनाया है। मशहूर तबला वादक जाकिर हुसैन जब तबले पर थाप देते हैं, तो हर कोई बस यही कह उठता है, वाह उस्ताद वाह. तबला वादक उस्ताद अल्ला रक्खा खां के बेटे जाकिर ने अपने पिता की परंपरा को सफलता के साथ आगे बढ़ाया है। उस्ताद जी इस वक्त सेन फ्रांसिस्को और मुंबई में देश-विदेश के शागिर्दों को तबला सिखाते हैं।

भारत के प्रसिद्ध हिन्दी साहित्यकार डॉ. नगेन्द्र का 9 मार्च1915 में जन्म हुआ था। भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी पार्थिव पटेल का 9 मार्च 1985 में जन्म हुआ था । 9 मार्च को हुए निधन 9 मार्च को कई  दिग्गजों ने इस दुनिया को अलविदा भी कहा था। प्रसिद्ध फ़िल्म निर्माता-निर्देशक के. आसिफ़ का 9 मार्च  1971 में निधन हुआ था के. आसिफ़. उन्होंने अपने जीवन में सिर्फ़ 3 फ़िल्मों का निर्देशन किया था, जिनमें से दो रिलीज़ हो पाईं थीं. मुग़ल-ए-आज़म बनाकर के. आसिफ़ हमेशा-हमेशा के लिए बॉलीवुड में अमर हो गए। मुग़ल-ए-आज़म हिंदी सिनेमा की ऐतिहासिक फ़िल्म थी. इसे बनाने में तकरीबन 14 साल लगे थे। इस फिल्म का आइडिया आसिफ को आर्देशिर ईरानी की फिल्म ‘अनारकली’ को देखकर आया था. इस फिल्म को देखने के बाद उन्होंने अपने अपने दोस्त शिराज़ अली हाकिम के साथ एक फिल्म बनाने का फैसला किया।

शिराज़ उनकी फिल्म प्रोड्यूस कर रहे थे। फिल्म में चंद्रबाबू, डी.के सप्रू और नरगिस को साइन किया गया. 1946 में फिल्म की शूटिंग बॉम्बे टाकीज स्टूडियो में शुरू हुई. अभी शूटिंग शुरू ही हुई थी कि पार्टीशन की प्रक्रिया शुरू हो गयी जिसके कारण फिल्म के प्रोड्यूसर शिराज़ को हिंदुस्तान छोड़कर जाना पड़ा। 1952 में फिल्म को दोबारा नए सिरे से नए प्रोड्यूसर और कास्टिंग के साथ शुरू किया गया।

भारतीय अभिनेत्री देविका रानी का 9 मार्च 1994 में निधन हो गया था। देविका रानी एक ऐसी एक्ट्रेस रह चुकी हैं, जिन्होंने अपने 4 मिनट के एक किसिंग सीन से इंडस्ट्री में तहलका मचा दिया था। यही नहीं, 60 दशक पहले जब आत्मनिर्भर महिलाएं केवल इक्का-दुक्का ही देखने को मिलती थीं। उस दौरान देविका ने भारत के पहले फिल्म स्टूडियो ‘बॉम्बे टॉकीज’ की को-फाउंडर बनकर महिलाओं के लिए एक नया ट्रेडमार्क सेट किया। हालांकि, उस जमाने में आजाद ख्यालों वाली देविका रानी ने भले ही अपनी प्रोफेशनल लाइफ में परचम हासिल किये हों, लेकिन निजी जिंदगी में उन्हें अपने पति से मानसिक से लेकर शारीरिक प्रताड़ना तक झेलनी पड़ी।

हिन्दी फ़िल्मों के मशहूर अभिनेता और निर्माता निर्देशक जॉय मुखर्जी का 9 मार्च 2012 में निधन हुआ था। जॉय मुखर्जी ने 1960 में आई फिल्म लव इन शिमला से बॉलीवुड में कदम रखा। इसके बाद शागिर्द, लव इन टोकियोजिद्दी फिर वही दिल लाया हूं  और एक मुसाफिर एक हसीना जैसी फिल्मों में काम कर मशहूर होते चले गए।  उस दौर के वो पॉपुलर हीरो बन गए थे लेकिन बाद के दिनों में जितेंद्र और राजेश खन्ना जैसे अभिनेताओं के आने के बाद जॉय का कॅरियर धीमा पड़ने लगा और वह निर्देशन में चले गए।

 9 मार्च की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

1999 – ब्रिटिश उद्योगपति स्वराज पाल को सेंट्रल बर्मिघम विश्वविद्यालय द्वारा डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान की गयी, फ़्रांसिस्को फ़्लोरेस अल सल्वाडोर (द. अमेरिका) के राष्ट्रपति चुने गये।

2003 – पेरू के पूर्व राष्ट्रपति अलवर्टो फूजीमोरी के ख़िलाफ़ इंटरपोल ने गिरफ़्तारी का वारंट जारी किया।

2004 – पाकिस्तान ने 2000 किमी. की मारक क्षमता वाले सतह तक मार करने वाले ‘शाहीन-2’ (हत्फ-6) प्रक्षेपास्त्र का सफल परीक्षण किया।

2005 – थाक्सिन शिनवात्रा दूसरे कार्यकाल के लिए थाइलैंड के प्रधानमंत्री चुने गये।

2007 – ब्रिटेन में भारतीय डॉक्टरों को भेदभाव वाले प्रवासी नियमों पर क़ानूनी कामयाबी मिली।

2008 – गोवा के राज्यपाल एस.सी.जमीर ने महाराष्ट्र के राज्यपाल का अतिरिक्त कार्यभार ग्रहण किया। मलेशिया में हुए संसदीय चुनाव में पूर्व प्रधानमंत्री अब्दुल्ला अहमद बदावी पराजित हुए।

2009 – तमिलनाडु ने पश्चिम बंगाल को 66 रनों से पराजित कर विजय हरारे ट्रॉफी जीती।

2018 – बिप्लब कुमार देब ने भारतीय राज्य त्रिपुरा के दसवें मुख्यमन्त्री के रूप में शपथ ली।

9 मार्च को जन्मे व्यक्ति

1915 – डॉ. नगेन्द्र, भारत के प्रसिद्ध हिन्दी साहित्यकार।

1930 – सोली जहांगीर सोराबजी, रख्यात भारतीय विधिवेत्ता और भारत के पूर्व महान्यायवादी हैं।

1931 – कर्ण सिंह, भारतीय राजनेता और लेखक

1938 – हरिकृष्ण देवसरे, प्रसिद्ध बाल साहित्यकार एवं संपादक

1951 – उस्ताद ज़ाकिर हुसैन, मशहूर तबला वादक

1956 – शशि थरूर, भारतीय लेखक और राजनीतिज्ञ।

1985 – पार्थिव पटेल, भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी।

1996 – दरशील सफ़ारी, भारतीय बाल कलाकार।

1934 – यूरी गागरीन, भूतपूर्व सोवियत संघ के विमान चालक और अंतरिक्षयात्री।

9 मार्च को हुए निधन

1941 – जॉर्ज अब्राहम ग्रियर्सन – प्रसिद्ध इतिहासकार, अंग्रेज़ी साहित्यकार तथा अन्वेषक।

1968 – हरिशंकर शर्मा – भारत के प्रसिद्ध साहित्यकार, कवि, लेखक, व्यंग्यकार और पत्रकार।

1969 – हारमसजी पेरोशा मोदी, टाटा समूह और भारत के एक प्रशासक के साथ जुड़े एक प्रख्यात पारसी व्यापारी थे।

1971 – के. आसिफ़, प्रसिद्ध फ़िल्म निर्माता-निर्देशक

1994 – देविका रानी, भारतीय अभिनेत्री।

1996 – अख़्तरुल ईमान – उर्दू नज़्म के नए मानक स्थापित करने वाले अद्वितीय शायर थे।

1997 – बी. जी. रेड्डी, मद्रास विधान सभा के सदस्य थे।

2012 – जॉय मुखर्जी – हिन्दी फ़िल्मों के मशहूर अभिनेता और निर्माता निर्देशक।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...