1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. देश-दुनिया के इतिहास में आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ, पढ़ें

देश-दुनिया के इतिहास में आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ, पढ़ें

इतिहास से अच्छा शिक्षक कोई दूसरा हो ही नहीं सकता. इतिहास सिर्फ अपने में घटनाओं को नहीं समेटे होता है बल्कि इन घटनाओं से भी आप बहुत कुछ सीख सकते हैं।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

इतिहास से अच्छा शिक्षक कोई दूसरा हो ही नहीं सकता. इतिहास सिर्फ अपने में घटनाओं को नहीं समेटे होता है बल्कि इन घटनाओं से भी आप बहुत कुछ सीख सकते हैं। हर गुजरता दिन इतिहास में कुछ घटनाओं को जोड़कर जाता है। कोल्ड ड्रिंक्स कंपनी कोकाकोला ने 99 साल बाजार में रहने के बाद 23 अप्रैल 1985 में एक नए फार्मूले के साथ नया कोक मार्केट में लाया था।

वेस्टइंडीज के विस्फोटक बल्लेबाज क्रिस गेल ने 23 अप्रैल 2013 में क्रिकेट इतिहास का सबसे तेज शतक मात्र 30 गेंदों में जड़ा था- क्रिस गेल ने आईपीएल  2013 में पुणे के खिलाफ सबसे तेज शतक लगातार नया कारनामा किया था। गेल ने 30 गेंदों में सेंचुरी जड़ी थी। इस मुकाबले में गेल ने 66 गेंदों में 175 रन की पारी खेली थी। 23 अप्रैल को जन्मे व्यक्ति । प्रख्यात भारतीय विदुषी महिला और समाज सुधारक पंडिता रमाबाई का 23 अप्रैल 1858 को जन्म हुआ था ।

पंडिता रमाबाई  को देश की पहली फेमिनिस्ट कहा जाता है। उनके पिता अनंत शास्त्री डोंगरे संस्कृत के विद्वान थे. उन्होंने ही रमा बाई को भी संस्कृत की पढ़ाई कराई। आखिर क्या बात हुई जिस रमा बाई को भारतीय विद्वानों ने सरस्वती  कहा, उसे वो जल्दी ही विद्रोहिणी क्यों कहने लगे। आखिर क्या बात हुई कि वो धर्म बदलकर ईसाई हो गईं।

रमा बाई ने बचपन में ही अपने मां-बाप को खो दिया था. इसके बाद वो पूरे देश में घूमती और व्याख्यान देती रहीं। 22 की उम्र तक रमाबाई संस्कृत की प्रकांड विद्वान बन चुकी थीं. उन्हें कन्नड़, मराठी, बांग्ला और हिब्रू जैसी सात भाषाएं आती थीं। वो अपने समय की एक असाधारण महिला थी. वह एक शिक्षक, विद्वान ,नारीवादी एवं समाज सुधारक थीं। पंडिता रमाबाई 1870 के नागरिक समाज में एक बड़े विस्फोट की तरह मौजूद थीं. वह खासी पढ़ी लिखीं थीं. विद्रोही थीं।

पितृ सत्तात्मकता की कठोर आलोचक थीं. पहले तो पंडितों ने उन्हें सरस्वती कहा लेकिन जैसे ही वो ब्राह्मणवादी पितृसत्ता के खिलाफ बोलने लगीं और ईसाई धर्म को अपनाया, वैसे ही विद्रोहिणी बन गईं। 23 अप्रैल को हुए निधन। अंग्रेजी साहित्य के महान कवि और नाटककार विलियम शेक्सपियर की मृत्यु 23 अप्रैल 1616 को हो गई थी।

विलियम शेक्सपियर, 16 वीं शताब्दी के एक जाने माने अंग्रेजी कवि, नाटककार और अभिनेता थे. दोस्तों आपने इतिहास में इनके बारे में जरुर सुना होगा. ये अंग्रेजी भाषा के सबसे महान लेखक और विश्व के पूर्व – प्रख्यात नाटककार के रूप में व्यापक हैं. इन्हें इंग्लैंड का राष्ट्रीय कवि भी कहा जाता था एवं इनका उपनाम बार्ड ऑफ़ एवन था– इनके नाटकों को हर एक भाषा में अनुवाद किया गया है, एवं किसी अन्य नाटककार की तुलना में इनके नाटक अधिक बार प्रदर्शित किये गए हैं और आज भी किये जा रहे हैं. इनके काम को लोगों ने बहुत सराहा है। विलियम शेक्सपियर के बिना साहित्य, मछली के बिना एक्वेरियम की तरह है। प्रसिद्ध भारतीय फिल्म निर्माता-निर्देशक भारत रत्न से सम्मानित सत्यजीत राय का 23 अप्रैल  1992 को निधन हुआ था। 23 अप्रैल के महत्वपूर्ण दिवस

 

23 अप्रैल की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

1990 – नामीबिया सं.रा. संघ का 160वां सदस्य बना।

1996 – चेचेन्या के अलगाववादी नेता दुदायेव का एक हवाई हमले में निधन।

1999 – उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) की स्थापना के लिए 50 वर्ष पूरे होने पर वांशिगटन में तीन दिवसीय शिखर सम्मेलन का शुभारम्भ।

2002 – पेइचिंग में भारत तथा चीन के बीच सीमापार आतंकवाद पर वार्ता।

2003 – कुर्द और अरब विवादों को निपटाने के लिए आयोग गठित करने का निर्णय।

2007 – रूस के पूर्व राष्ट्रपति बोरिस निकोलाइएविच ऐल्तसिन का निधन।

2008 – क्षेत्रीय अनुसंधान और विश्लेषण केन्द्र, लखनऊ को केन्द्र सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने मान्यता दी। इंडियन फरमर्स फर्टिलाइजर (इफ्को) और मिस्र की सेन्ट्रल एग्रीकल्चर व कोआपरेटिव यूनियन (कांकू) ने सहकारिता के क्षेत्र में नई परियोजनाओं के लिए एक समझौता किया। अमेरिकी कांग्रेस ने म्यांमार की लोकतंत्र समर्थक नेता आंग सांग सूकी को शीर्ष नागरिक सम्मान अमेरिकी कांग्रेस स्वर्णपदक से सम्मानित करने की घोषणा की।

23 अप्रैल को जन्मे व्यक्ति

1954 – राजेन्द्र आर्लेकर – हिमाचल प्रदेश के नवनियुक्त राज्यपाल हैं।

1893 – ज्ञानेन्द्रनाथ मुखर्जी – भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिकों में से एक थे।

1858 – पंडिता रमाबाई – प्रख्यात भारतीय विदुषी महिला और समाज सुधारक।

1873 – विट्ठल रामजी शिंदे – महाराष्ट्र के प्रसिद्ध और बड़े समाज सुधारकों में से एक थे।

1889 – जी.पी. श्रीवास्तव – हिन्दी साहित्यकार थे।

1913 – धनंजय कीर – बाबा साहब डॉ. भीमराव आम्बेडकर की जीवनी लिखने वाले साहित्यकार थे।

1915 – जगन्नाथ कौशल – भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस के राजनेता थे।

1927 – अन्नपूर्णा देवी – सुरबहार वाद्ययंत्र बजाने वाली एकमात्र महिला उस्ताद हैं।

1927 – विल्फ़्रेड डिसूजा – भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ, जो गोवा के भूतपूर्व मुख्यमंत्री थे।

23 अप्रैल को हुए निधन

1857 – बाबू कुंवर सिंह भारतीय स्वतंत्रता के प्रथम संग्राम के सिपाही।

1926 – माधवराव सप्रे – राष्ट्रभाषा हिन्दी के उन्नायक, प्रखर चिंतक, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और सार्वजनिक कार्यों के लिये समर्पित कार्यकर्ता थे।

1973 – धीरेन्द्र वर्मा – हिन्दी और ब्रजभाषा के प्रसिद्ध कवि और लेखक।

1992 – सत्यजित राय निर्देशक, कहानीकार, साहित्यकार।

2013 – शमशाद बेगम – हिन्दी फ़िल्मों की प्रसिद्ध पार्श्वगायिका।

2020 – उषा गांगुली – प्रसिद्ध भारतीय रंगमंच की अभिनेत्री और निर्देशक थीं।

23 अप्रैल के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...