1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. कोरोना से लड़ने के लिए अब दिया जाएगा ‘कोवैक्सीन’ बूस्टर शॉट, जानिए कब और कहां!

कोरोना से लड़ने के लिए अब दिया जाएगा ‘कोवैक्सीन’ बूस्टर शॉट, जानिए कब और कहां!

Booster shot will now be given to fight Corona; कोरोना से लड़ने के लिए अब दिया जाएगा बूस्टर शॉट। दूसरे डोज के छह महीने बाद दिये जाएंगे खुराक। भारत बायोटेक के चीफ ने सराहा पाीएम मोदी का कदम।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : कोरोना महामारी का रफ्तार लगाता कम होता जा रहा है, लेकिन अभी भी इस महामारी से लोगों को निजात नहीं मिला है। इसे लेकर अब जल्द ही देश में वैक्सीन का बूस्टर शॉट दिया जाएगा। जिससे इस महामारी से छुटकारा मिल सकें। हालांकि यह बूस्टर शॉट बाजू या कहीं और नहीं बल्कि नाक में दिया जाएगा।

दरअसल, ‘भारत बायोटेक’ के चीफ और भारत का पहला कोरोना रोधी टीका ‘कोवैक्सीन’ विकसित करने वाले कृष्णा एल्ला ने बुधवार को कहा कि कोविड-19 रोधी टीके की दूसरी खुराक के छह महीने बाद ही तीसरी खुराक दी जानी चाहिए, यही सबसे सही समय है। साथ ही, उन्होंने नाक से दिए जाने वाले टीके (नेज़ल वैक्सीन) के महत्व पर भी जोर दिया।

एल्ला ने एक कार्यक्रम में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ‘कोवैक्सीन’ टीका लगवाना उनका भारतीय विज्ञान में भरोसा दिखाता है। उन्होंने कहा कि, ” दूसरी खुराक के छह महीने बाद ही तीसरी खुराक दी जानी चाहिए। तीसरी खुराक के लिए यही सबसे उचित समय है। भारत बायोटेकनाक से दिए जाने वाली टीके को ‘बूस्टर’ खुराक के तौर पर लाने का भी विचार कर रहा है। ‘नेज़ल वैक्सीन’ के महत्व के बारे में उन्होंने कहा कि पूरा विश्व ऐसे टीके चाहता है।’

उन्होंने कहा कि, ‘संक्रमण रोकने का यही एकमात्र तरीका है। हर कोई ‘इम्यूनोलॉजी’ (प्रतिरक्षा विज्ञान) का पता लगाने की कोशिश कर रहा है और सौभाग्य से, भारत बायोटेक ने इसका पता लगा लिया है।” एल्ला ने कहा कि, ”हम नाक से देने वाला टीका ला रहे हैं… हम इस बात पर विचार कर रहे हैं कि क्या कोवैक्सिन की दूसरी खुराक को नाक से दिया जा सकता है, यह रणनीतिक रूप से, वैज्ञानिक रूप से भी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि दूसरी खुराक को अगर आप नाक से देते हैं तो आप संक्रमण को फैलने से रोकते हैं।”

‘जीका’ रोधी टीके के बारे में एल्ला ने कहा कि भारत बायोटेक ने जीका वायरस रोधी टीका बना लिया है। प्रथम चरण पूरा हो गया है। सरकार को और अधिक परीक्षण (ट्रायल) करने होंगे क्योंकि मामले अधिक हैं। उन्होंने कहा, ”हम 2014 में जीका रोधी टीका बनाने वाली विश्व की पहली कम्पनी थे। सबसे पहले हमने ही जीका रोधी टीके के वैश्विक पेटेंट के लिए आवेदन दिया था।”

कब और कहां हो सकता है शुरू

आपको बता दें कि इसे लेकर अभी भारत बायोटेक की ओर से किसी तरह का बयान सामने नहीं आया है। वहीं सरकार भी इस मामले में खामोश है। अब देखना यह है कि सरकार इसे लेकर कौन सा कदम उठाती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...