1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. कृषि कानून वापस लेने के ऐलान पर बोले कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, कहा- मुझे दुख है कि हम देश के कुछ किसानों को…

कृषि कानून वापस लेने के ऐलान पर बोले कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, कहा- मुझे दुख है कि हम देश के कुछ किसानों को…

Agriculture Minister Narendra Singh Tomar said on the announcement of withdrawing the Agriculture Act; कृषि कानून वापस लेने के ऐलान पर बोले कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर। कहा मुझे दुख है कि हम देश के कुछ किसानों को इस नए कानून का लाभ बताने में विफल रहे।'

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तीनों कृषि कानून वापस लेने के बाद एक तरफ जहां कई लोगों ने पीएम मोदी के इस कदम की सराहना की। वहीं कई लोगों ने इसपर तीखी प्रतिक्रिया भी दी। इसी बीच केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर का बड़ा बयान सामने आया है। कृषि मंत्री ने कहा कि, “पीएम संसद से पास हुए 3 बिल लाए थे। इनसे किसानों को फायदा होता, इस कानून को लाने के पीछे किसानों के जीवन में क्रांतिकारी बदलाव लाने की पीएम की स्पष्ट मंशा थी, लेकिन मुझे दुख है कि हम देश के कुछ किसानों को इस नए कानून का लाभ बताने में विफल रहे।’

 

कृषि मंत्री ने आगे कहा कि, “देश इस बात का गवाह है कि जब से पीएम मोदी ने 2014 में सरकार की बागडोर अपने हाथों में ली है, उनकी सरकार की प्रतिबद्धता किसानों और कृषि के लिए रही है। परिणामस्वरूप आपने देखा होगा कि पिछले 7 सालों में कृषि को लाभ पहुंचाने वाली कई नई योजनाएं शुरू की गईं।

केंद्र सरकार ने हमेशा किसानों के कल्याण के लिए किया है कार्य

केन्द्रीय कृषि मंत्री ने आगे कहा कि केंद्र सरकार ने हमेशा किसानों के कल्याण के लिए कार्य किया है। कई जगह इसका फायदा भी देखने को मिला है। उन्होंने कहा कि कई किसानों को इसका फायदा भी मिल रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी चाहते थें कि हमारे देश में किसानों के लिए जो बंदिशे हैं उनको खोला जाए। इसलिए हम कृषि कानून लेकर आए। लेकिन हम इन कानूनों को कुछ किसानों को समझाने में सफल नही हो पाए और इन्हे रद्द करना पड़ा।

प्रदर्शन कर रहे किसानों को मिली बड़ी जीत

दरअसल पिछले साल लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों को आज बड़ी जीत मिली है। केंद्र सरकार ने एक बड़ा कदम उठाते हुए तीनों कृषि कानूनों को वापस ले लिया है। इन कानूनों के विरोध में किसान पिछले एक साल से प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम संबोधन में कृषि कानूनों (Farm Laws) को वापस लेने का ऐलान किया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...