1. हिन्दी समाचार
  2. Breaking News
  3. किसान आंदोलन और एमसीडी को लेकर आप पार्टी और बीजेपी आई आमने सामने, पढ़े

किसान आंदोलन और एमसीडी को लेकर आप पार्टी और बीजेपी आई आमने सामने, पढ़े

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

दिल्ली में आम आदमी पार्टी और बीजेपी के बीच आरोप लगाने का सिलसिला जारी रहा। रविवार को गृह मंत्री अमित शाह के घर पर प्रदर्शन से पहले आप पार्टी नेता और विधायक राघव चड्डा और आतिशी को गिरफ्तार किया गया। इसके बाद शाम को दोनों नेताओं ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बीजेपी पर जमकर आरोप लगाए है।

चड्ढा ने अपने आरोप में कहा, ‘‘ हम बीजेपी नीति नगर निगमों में ‘सबसे बड़े घोटाले’ के खिलाफ प्रदर्शन करने जा रहे हैं लेकिन हमें हमारे घरों से गिरफ्तार कर लिया गया। क्या दिल्ली पुलिस का इस्तेमाल करते हुए अमित शाह इस भ्रष्टाचार को दबाना चाहते हैं।‘‘

पुलिस ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि चड्ढा के अलावा बुराड़ी के विधायक संजीव झा, किराड़ी के विधायक ऋतुराज झा और कोंडली के विधायक कुलदीप कुमार को हिरासत में लिया गया।

राघव चड्डा ने आगे कहा कि आज आम आदमी पार्टी के विधायकों पर की गई कारवाई से ये स्पष्ट होता है कि अमित शाह खुद MCD में हुए 2500 करोड़ रुपये के घोटाले में शामिल लोगों को बचाने में लगे हुए हैं। चड्डा ने कहा कि एक कहावत है, सांच को आंच नहीं, भाजपा ने उसे बदलकर कर दिया है, घोटाले की जांच नहीं।

उन्होंने कहा कि आज दिल्ली पुलिस ने हमें प्रदर्शन करने से रोका। पुलिस ने कहा महामारी की धाराएं लगी हुई हैं। भाजपा के मेयर पिछले कुछ दिनों से मुख्यमंत्री के घर के सामने बैठे हैं, क्या उनके लिए ये धाराएं नहीं हैं? क्या भाजपा और अन्य के लिए कानून अलग-अलग है?

AAP नेता आतिशी ने कहा कि MCD में 2,500 करोड़ का घोटाला हुआ है। ये 2,500 करोड़ उन डॉक्टर्स, नर्सेज, टीचर और सफाई कर्मचारियों की तनख्वाह का पैसा है जो कोरोना जैसे कठिन समय में देश की सेवा कर रहे थे।

आतिशी ने कहा कि आम आदमी पार्टी के विधायक, पार्षद इस घोटले की सीबीआई जांच की मांग को लेकर एलजी और गृह मंत्री से मिलने जा रहे थे, लेकिन उससे पहले हमें हिरासत में लिया गया।

आप को बता दे कि किसान आंदोलन के समर्थन में अब आम आदमी पार्टी खुलकर आ गई है। पार्टी के सभी नेता आज किसानों के आंदोलन का समर्थन करने के लिए उपवास रखेंगे। इस तरह अरविंद केजरीवाल की पार्टी ने केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को भाजपा नीत केंद्र सरकार से ‘‘अहंकार’’ छोड़कर और आंदोलनकारी किसानों की मांग के मुताबिक तीन कृषि कानूनों को रद्द करने को कहा। साथ ही उन्होंने कहा कि कृषि उत्पादों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी की खातिर एक विधेयक लाया जाए।

केजरीवाल ने कहा कि आंदोलनकारी किसानों की अपील के मुताबिक सोमवार को वह एकदिवसीय अनशन करेंगे और आम आदमी पार्टी (आप) के कार्यकर्ताओं और देश के लोगों से इसमें शामिल होने की अपील की।

आप को बता दे कि मुख्यमंत्री ने डिजिटल संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र को जल्द से जल्द किसानों की सभी मांगों को स्वीकार करना चाहिए, जो पिछले दो हफ्ते से दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं।

केंद्र सरकार जहां तीनों कृषि कानूनों को कृषि क्षेत्र में बड़े सुधार के तौर पर पेश कर रही है, वहीं प्रदर्शनकारी किसानों ने आशंका जताई है कि नये कानूनों से एमएसपी और मंडी व्यवस्था खत्म हो जाएगी और और वे बड़े कॉरपोरेट की दया पर निर्भर हो जाएंगे।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि केंद्र सरकार के कई मंत्री और भाजपा नेता किसानों को एंटी नेशनल बोल रहे हैं। जिन सैनिक, डॉक्टर्स, खिलाडी, सिंगर ने देश का नाम रोशन किया क्या वो एंटी नेशनल है? मैं भाजपा नेताओं से कहना चाहता हूँ इस देश के किसानों को एंटी-नेशनल कहने की हिम्मत मत करना।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...