1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. सुप्रीम कोर्ट ने बिगाड़ा बीजेपी का गणित, क्या सत्ता रहेगी बरकरार

सुप्रीम कोर्ट ने बिगाड़ा बीजेपी का गणित, क्या सत्ता रहेगी बरकरार

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

कर्नाटक में 2019 में जुलाई के महीने में हुए सियासी भूचाल में कुमार स्वामी को अपने सीएम पद से हाथ धोना पड़ा था, क्योंकि 17 बागी विधायकों ने कुमार स्वामी को समर्थन नहीं दिया जिस वजह से उन्हें सीएम पद छोड़ना पड़ा।

वहीं बीजेपी ने अपनी जगह बना ली और उनकी पार्टी के नेता बी एस येदियुरप्पा को सीएम पद मिल गया। पूर्व विधान सभा स्पीकर केआर रमेश कुमार ने उन 17 बागी विधायकों को अयोग्य बताते हुए फैसला सुनाया था की वह 17 बागी विधायक किसी भी चुनाव का हिस्सा नहीं बन सकते हैं।

वहीं 17 बागी विधायकों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और चुनाव लड़ने के लिए अपील की वहीं आज सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई की और कहा कि पूर्व विधानसभा स्पीकर केआर रमेश कुमार के विधायकों को अयोग्य ठहराने के फैसले को सही बताया।

आपको बता दें कि 29 जुलाई को रमेश कुमार ने तत्कालीन मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के फ्लोर टेस्‍ट के दौरान 17 बागी विधायकों को अयोग्य करार दिया था। ये सभी विधायक विश्वासमत के दौरान मौजूद न हुए , जिससे कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार गिर गई थी। इसके बाद राज्य में भाजपा की सरकार बनी।

5 दिसंबर को रिक्त सीटों पर उपचुनाव
अयोग्य करार दिए गए 17 विधायकों में से 15 सीटों पर 5 दिसंबर को चुनाव होना है। पहले इन 15 सीटों पर 21 अक्टूबर को चुनाव होना था, लेकिन विधायकों को अयोग्य करार देने से जुड़ा मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित था। इसके चलते चुनाव आयोग ने मतदान की तारीखों को 5 दिसंबर तक टाल दिया था। 

कर्नाटक में सीटों का गणित
कर्नाटक में कुल 224 सीटें हैं। 17 विधायकों को अयोग्य ठहराने के बाद विधानसभा सीटें 207 रह गईं। इस लिहाज से बहुमत के लिए 104 सीटों की जरूरत थी। भाजपा (105) ने एक निर्दलीय के समर्थन से सरकार बना ली।

15 सीटों पर चुनाव होने के बाद विधानसभा में 222 सीटें हो जाएंगी। उस स्थिति में बहुमत का आंकड़ा 111 हो जाएगा। भाजपा को सत्ता में बने रहने के लिए कम से कम 6 सीटों की जरूरत होगी।

कुल सीटें : 224 सीटें 
17 विधायकों को अयोग्य करार देने के बाद सीटें : 207
इसके बाद सरकार बनाने के लिए जरूरी : 104
भाजपा+ : 106
कांग्रेस : 66
जेडीएस : 34
बसपा : 1

उपचुनाव के बाद
15 सीटों पर चुनाव के बाद विधानसभा में सीटें : 222
तब बहुमत का आंकड़ा : 111
भाजपा को सत्ता में बने रहने के लिए जरूरी : 6 सीटें

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...