1. हिन्दी समाचार
  2. मीडिया जगत
  3. यौन शोषण मामले में तहलका के पूर्व संपादक तरुण तेजपाल बरी, अपनी सहकर्मी से लिफ्ट में रेप का लगा था आरोप

यौन शोषण मामले में तहलका के पूर्व संपादक तरुण तेजपाल बरी, अपनी सहकर्मी से लिफ्ट में रेप का लगा था आरोप

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : यौन शोशण मामले में तहलका के पूर्व संपादक तरुण तेजपाल को बरी कर दिया गया है। आपको बता दें कि तरूण पर यह मामला पिछले 8 सालों से चल रहा था। उनपर अपनी ही सहकर्मी के साथ साल 2013 में गोवा के एक फाइव स्टार होटल में लिफ्ट में यौन शोषण का आरोप लगा था। जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया था। वहीं मामले की कार्रवाई करते हुए गोवा पुलिस ने फरवरी 2014 में उनके उनके खिलाफ 2,846 पन्नों की चार्जशीट दायर की थी।

कैसे हुआ घटना का खुलासा

7 नवंबर, 2013, गोवा के एक फाइव स्टार होटल में तहलका का थिंक फेस्ट चल रहा था। तहलका के एडिटर इन चीफ और जाने-माने पत्रकार तरुण तेजपाल समेत दुनिया के कई मशहूर चेहरे इस फेस्ट का हिस्सा थे। इसी कार्यक्रम में वो लड़की भी शामिल हुई। वो लड़की आई तो थी अपनी ड्यूटी करने, लेकिन अपने बॉस तरुण तेजपाल के नापाक इरादों का शिकार बन गई। लड़की के अनुसार तेजपाल ने उसके साथ एक नहीं, बल्कि दो-दो बार जबरदस्ती की और मुंह खोलने पर बुरे अंजाम की धमकी भी दी।

लड़की ने सबूत के तौर पर तेजपाल को भेजे गए मैसेजेस और मेल को कोर्ट में पेश किया। अपने बयान में लड़की ने साफ किया है कि जो भी हुआ उसकी मर्जी के खिलाफ हुआ। वहीं तेजपाल की तरफ से सहमति की बात कही गई। बयान में लड़की ने ये भी कहा कि मैनेजिंग एडिटर शोमा चौधरी ने भी उसकी कोई मदद नहीं की।

इन धाराओं में दर्ज हुआ मामला

गोवा पुलिस ने नवंबर 2013 में तेजपाल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। तेजपाल मई 2014 से जमानत पर बाहर हैं। गोवा अपराध शाखा ने तेजपाल के खिलाफ आरोप-पत्र दायर किया। उन पर भारतीय दंड संहिता की धारा 342 (गलत तरीके से रोकना), 342 (गलत मंशा से कैद करना), 354 (गरिमा भंग करने की मंशा से हमला या आपराधिक बल का प्रयोग करना), 354-ए (यौन उत्पीड़न), 376 (2) (महिला पर अधिकार की स्थिति रखने वाले व्यक्ति द्वारा बलात्कार) और 376 (2) (के) (नियंत्रण कर सकने की स्थिति वाले व्यक्ति द्वारा बलात्कार) के तहत मुकदमा चला।

बता दें कि साल 2012-13 में तरुण तेजपाल ने स्टिंग ऑपरेशन करके कई बड़े खुलासे किए थे, जिसने सत्ता के गलियारों में सनसनी मचा दी थी। खोजी पत्रकारिता में उनकी ऐसी पहचान बनी कि लोग आंख मूंदकर उन पर भरोसा करने लगे। लेकिन बरसों की कमाई, नाम और शोहरत को बस एक कदम ने बर्बाद कर दिया और उनपर एक महिला सहयोगी के साथ यौन शोषण का आरोप लगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads