Home mumbai मनसुख मर्डर केसः ATS की जॉच पर पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उठाया सवाल, अब NIA करेगी जॉच

मनसुख मर्डर केसः ATS की जॉच पर पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उठाया सवाल, अब NIA करेगी जॉच

12 second read
0
33

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

मुंबई: देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में उस वक्त हड़कंप मच गया जब, एशिया के सबसे बड़े धनपति और देश के सबसे बड़े उद्योगपति अनिल अंबानी के घर एंटीलिया के सामने बीते 25 फरवरी को एक अज्ञात कार खड़ी मिली। पुलिस ने जब सूचना पाकर कार की ज़ॉच की तो उस कार से एक धमकी भरा पत्र मिला। जिसके बाद मामले को गंभीरता से लेते हुए केंद्रीय जॉच एंजेंसी को जॉच सौंपी गई।

NIA ने जब अपने तरीके से जॉच शुरु की तो इसमें महाराष्ट्र पुलिस अधिकारी सचिन वाजे का नाम सामने आया, जिससे सभी होश उड़ गये। केंद्रीय जॉच एजेंसी NIA ने पुलिस अधिकारी सचिन वाजे को गिरफ्तार कर लिया है। NIA ने सचिन वाजे के खिलाफ 120 (बी), 286, 465, 473, 506(2) के तहत मामला दर्ज किया है।

इस मामले में सियासत भी दिन पर दिन तेज होती जा रही है। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र एटीएस की लचर जांच प्रक्रिया पर सवाल उठा दिया, जिसके बाद एटीएस भी पूरे ऐक्शन के मोड में आ गई। आपको बता दें कि एटीएस ने शनिवार देर रात दो लोगों से पूछताछ के बाद रविवार को उन्हे गिरफ्तार कर लिया।

इस केस की पहली गिरफ्तारी है, खास बात यह है कि ATS की गिरफ्त में आए दोनों आरोपियों में से एक आरोपी पुलिसकर्मी है। जिसका नाम विनायक शिंदे है। जबकि दूसरा आरोपी एक बुकी है। इसकी पहचान नरेश गोरे के रुप में हुई है। ATS के अधिकारियों ने कयास लगाया है कि मनसुख मर्डर केस में शिंदे ऐसे कई राज उगल सकता है। विनायक शिंदे का लिंक वाजे या इस केस से जुड़े अन्य लोगों से भी है। आपको बता दें कि मनसुख मर्डर केस की जांच अभी ATS ही कर रही है।

मामले की गंभीरता को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस मामले की भी जांच NIA को सौंप दी है। ATS ने इस केस से जुड़ी फाइल NIA को अभी तक नहीं दी है। जिसके कारण अभी भी यह केस ATS के पास ही है। अब तक ATS ने 30 लोगों से इस सिलसिले में पूछताछ के चुकी है।

आपको बता दें कि अभी तक दो बार ATS सचिन वाजे से  पूछताछ कर चुकी है। वाजे NIA की कस्टडी में है। NIA के अधिकारी रोज इस केस से जुड़े राज सचिन वाजे से उगलवाने में सफलता हांसिल कर रहें हैं। वाजे पर  पर मनसुख की हत्या करने का भी आरोप लगा है। NIA के जॉच की अगली कड़ी वाजे और पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह के बीच इस मामले में लिंक निकालने की कोशिश में जुट गई है। NIA इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की टेक्निकल जांच कर लिंक निकालने में जुटी हुई है। कयास लगाए जा रहे हैं कि NIA जल्दी ही परमबीर से पूछताछ कर सकती है।

मिली जानकारी के मुताबिक, 5 मार्च को मनसुख हिरेन की संदिग्ध मौत हुई थी। इस घटना से एक दिन पहले ही ATS की गिरफ्त में आए वाजे के करीबी और लखन भैया एनकाउंटर कांड में सजा काट रहे सिपाही विनायक शिंदे ने ठाणे के किसी कार शो रूम से एक नई वैगनआर कार खरीदी थी। जिसकी तस्वीर उन्होने फेसबुक पेज पर पोस्ट की थी। सूत्रों की मानें तो जैसे ही 5 मार्च को मनसुख मर्डर मिस्ट्री सामने आई, शिंदे ने फोटो समेत मेसेज फेसबुक से डिलीट कर दिया, ATS इसकी भी जांच कर रही है।

Load More In mumbai
Comments are closed.