1. हिन्दी समाचार
  2. विदेश
  3. Peanut Butter से इस मॉडल को हुई ऐसी एलर्जी कि ब्रेन हुआ डैमेज, ऐसी हो गई है स्थिति

Peanut Butter से इस मॉडल को हुई ऐसी एलर्जी कि ब्रेन हुआ डैमेज, ऐसी हो गई है स्थिति

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

नई दिल्ली: अमेरिका की मॉडल और अभिनेत्री शांटेल ग्याकेलोन को एक ऐसे घटना का सामना करना पड़ा जिसे जानकर आप भी दंग रह जायेंगे। अभिनेत्री को पीनेट बटर बिस्किट खाना इतना भारी पड़ गया कि उनको इसकी कीमत ब्रेन डैमेज करके चुकानी पड़ी। इसी मामले में सुनवाई कर रही लास वेगास की अदालत ने उनके मेडिकल खर्चे के लिए उनके परिवार को 29.5 मिलियन डॉलर्स यानी लगभग 222 करोड़ रुपये देने का आदेश दिया है।

अभिनेत्री शांटेल साल 2013 में लास वेगास में मैजिक फैशन ट्रेड शो में मॉडलिंग कर रही थीं। यहीं उनकी दोस्त तारा ने उन्हें दही के जैसा टेस्ट करने वाला योगर्ट और प्रेट्जेल दिया था। प्रेट्जेल एक प्रकार का बिस्किट होता है और इस बिस्किट में पीनेट बटर भी था।

अभिनेत्री शांटेल को पीनट बटर से एलर्जी थी लेकिन उन्हें नहीं पता था कि इस बिस्किट में पीनट बटर मौजूद है,जबकि उनकी दोस्त तारा को भी नहीं पता था कि शांटेल को पीनट बटर से एलर्जी है। अभिनेत्री शांटेल इसे खाने के बाद ही एनाफायलेक्टिक शॉक में चली गई थीं।

आपको बता दें कि एनाफायलेक्टिक शॉक उस वक्त होता है, जब किसी इंसान को एलर्जी का रिएक्शन हो जाता है। इस शाक के बाद अगर इसका इलाज ना किया जाए तो ये जानलेवा भी हो सकता है। ये आमतौर पर फूड एलर्जी और कीड़े-मकोड़ों के काटने से होता है।

जब किसी भी इंसान को इस तरीके का शॉक लगता है तो उसे epinephrine नाम का ड्रग दिया जाता है। आपको बता दें कि  शॉक लगने के बाद इस ड्रग को तत्काल न दिया जाए तो हालात बेहद गंभीर हो सकती हैं। शांटेल के वकील ने भी कहा कि जब वे अस्पताल गए तो उन्हें ये ड्रग नहीं दिया गया था जिससे शांटेल के हालात और भी ज्यादा खराब हो गए थे।

जब अभिनेत्री शांटेल को शॉक लगा था, तो उस वक्त उनकी उम्र 27 साल थी। तत्काल उन्हे अस्पताल ले जाया गया था। लेकिन अस्पताल में उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई। शांटेल के वकील क्रिस मॉरिस का कहना था कि मेडिकवेस्ट नाम के अस्पताल की ट्रीटमेंट के बाद शांटेल का दिमाग कुछ मिनटों के लिए बंद हो गया था।

35 साल की शांटेल इस घटना से अब तक उबर नहीं पाई हैं। उन्हें अब भी लकवा मारा हुआ है। वे 24 घंटे अपने परिवार की देख-रेख में हैं। वे सिर्फ एक आई गेज कंप्यूटर के सहारे अपने आसपास लोगों से कम्युनिकेट कर पाती हैं।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...