1. हिन्दी समाचार
  2. खेल
  3. चीन के पूर्व उप-प्रधानमंत्री पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली टेनिस प्लेयर हुई लापता, चिनी विदेश मंत्रालय अनजान

चीन के पूर्व उप-प्रधानमंत्री पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली टेनिस प्लेयर हुई लापता, चिनी विदेश मंत्रालय अनजान

Tennis player who accused China's former deputy prime minister of sexual abuse goes missing; चीन के उप पूर्व-प्रधानमंत्री पर महिला टेनिस प्लेयर ने लगाया यौन शोषण का आरोप। लापता हुई टेनिस प्लेयर। शेयर किया था ये पोस्ट।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : चीन में आम लोगों के आवाजों को दबाना और उन्हें कुचलना आम बात है, क्योंकि यहां जो भी आवाज सरकार या सरकार के प्रतिनिधि के खिलाफ उठता है, उसे दबा दिया जाता है। एक ऐसा ही मामला एक बार फिर सामने आया है। जहां एक महिला टेनिस प्लेयर चीन के पूर्व उप-प्रधानमंत्री झांग गाओली पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। इसे लेकर उन्होंने चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वीबो पर एक लंबा पोस्ट शेयर भी किया था। जिसे कुछ समय बाद ही वीबो ने डिलीट कर दिया। लेकिन तब तक पोस्ट के स्क्रीनशॉट्स वायरल हो गए थे।

आपको बता दें कि उस महिला टेनिस प्लेयर का नाम शुआई पेंग है, जो उस घटना के बाद से अभी तक लापता है। न उनकी कोई खबर सोशल मीडिया या अन्य मीडियमों पर आई है और न ही वह सार्वजनिक रूप से सामने आई हैं। इसे लेकर अब चीन के सरकारी ब्रॉडकास्टर सीजीटीएन ने कथित तौर पर पेंग का लिखा इमेल जारी किया है, जिससे पेंग को लेकर आशंकाएं और गहरी हो गई है।

इस चिट्ठी के जरिए दावा किया जा रहा है कि पेंग शुआई लापता या असुरक्षित नहीं है। ईमेल में पेंग शुआई ने कह रही हैं कि वह अभी ठीक हैं और उनके लगाए गए आरोप निराधार हैं। वूमेन्स टेनिस एसोसिएशन (WTA) के सीईओ और अध्यक्ष स्टीव साइमन ने ईमेल की वैधता पर सवाल उठाये हैं। साइमन ने कहा कि उन्हें यकीन नहीं है कि यह ईमेल पेंग शुआई ने लिखा है। साथ ही, साइमन ने मामले की पूरी जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि उचित जवाब नहीं मिलने पर चीन से टेनिस टूर्नामेंट्स की मेजबानी छीनी जा सकती है।

 

जापानी टेनिस स्टार नाओमी ओसाका ने ट्वीट किया कि, ‘मुझे नहीं पता कि आप खबरों को फॉलो करते हैं या नहीं, लेकिन हाल में मुझे एक साथी खिलाड़ी के बारे सूचित किया गया, जो अपने यौन उत्पीड़न का खुलासा करने के कुछ देर बाद गायब हो गई। आवाज को दबाना किसी भी कीमत पर सही नहीं है। मैं उम्मीद करती हूं कि पेंग शुआई और उनकी फैमिली ठीक होगी। वर्तमान स्थिति को लेकर मैं स्तब्ध हूं। मैं उसके लिए प्यार और उम्मीद की किरण भेज रही हूं।’

आपको बता दें कि चीनी सरकार ने बड़े पैमाने पर #MeToo आंदोलन को दबा दिया है जो 2018 में काफी फला-फूला था। चीन के मानवाधिकार रिकॉर्ड को लेकर एक्टिविस्ट और कुछ विदेशी राजनेताओं के बहिष्कार की घोषणा के बावजूद बीजिंग शीतकालीन ओलंपिक की तैयारी में जुटा है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने गुरुवार को एकबार फिर दोहराया कि वह पेंग शुआई के मामले को लेकर अनजान हैं।

बता दें कि 35 साल की पेंग शुआई ने टेनिस के महिला डबल्स इवेंट में काफी शोहरत हासिल की है। इस दौरान पेंग दो ग्रैंड स्लैम जीतने में सफल रहीं। सबसे पहले उन्होंने 2013 में विंबलडन और फिर 2014 में फ्रेंच ओपन का खिताब अपने नाम किया। फरवरी 2014 में पेंग महिला डबल्स में नंबर वन पॉजिशन पर भी पहुंचने में कामयाब रहीं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...