1. हिन्दी समाचार
  2. वायरल
  3. हाय महंगाई! यहां 2657 रुपये का मिल रहा है एक सिलेंडर, एक किलो दूध के भाव जानकर उड़ जाएंगे आपके होश

हाय महंगाई! यहां 2657 रुपये का मिल रहा है एक सिलेंडर, एक किलो दूध के भाव जानकर उड़ जाएंगे आपके होश

Here one cylinder is available for Rs 2657, the senses will fly away knowing the price of one kg of milk, देश में लगातार बढ़ती महंगाई के बीच भारत के एक पड़ोसी मुल्क से एक ऐसी खबर आई है जिसने सभी को हैरान कर दिया है। इस हैरानी का कारण वहां बढ़ती आवश्यक वस्तुओं की कीमत है, जिसमें प्रमुख गैस सिलेंडर और दूध जैसे अन्य सामान है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली: कोरोना महामारी से निकलने के बाद पूरी दुनिया इस समय महंगाई की चपेट में है, जिससे लोगों में काफी आक्रोश है। आपको बता दें कि इस महंगाई की मार सिर्फ भारत को ही नहीं बल्कि अन्य पड़ोसी देशों को भी झेलना पड़ रहा है। बता दें कि इन्हीं पड़ोसी मुल्कों में से एक मुल्क गैस की कीमत जहां 2657 रुपए प्रति सिलेंडर है। वहीं 1 लीटर दूध की कीमत सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे।

आपको बता दें कि हम जिस पड़ोसी मुल्क की बात कर रहे है, उस देश का नाम श्रीलंका है। जहां सरकार ने अभी हाल ही में आवश्यक वस्तुओं के लिए मूल्य सीमा समाप्त करने की घोषणा की है। इस घोषणा के बाद रसोई गैस की खुदरा कीमतों में करीब 90 प्रतिशत का उछाल आ गया है। जिससे एलपीजी गैस की कीमत प्रति सिलेंडर 2657 रुपये हो गई है। इसकी तुलना में देखें तो भारत में 14.2 किलो वाला घरेलू एलपीजी सिलेंडर अभी भी 1000 रुपये से कम है।

2,657 रुपये का एक सिलेंडर, दूध…

श्रीलंका में पिछले शुक्रवार को मानक घरेलू रसोई गैस सिलेंडर (12.5 किलोग्राम) की कीमत 1,400 रुपये थी. लेकिन, अब यह 1,257 रुपये बढ़कर 2,657 रुपये हो गई है। इसके अलावा, यहां एक किलो दूध अब 250 रुपये महंगा होकर 1,195 रुपये हो गया है। ऐसे हीं, अन्य आवश्यक वस्तुओं जैसे गेहूं का आटा, चीनी और सीमेंट की कीमतों में बंपर बढ़ोतरी हुई है।

बढ़ती कीमतों को लेकर लोगों ने जाहीर की नाराजगी

आपको बता दें कि लगातार बढ़ती कीमतों से लोगों में काफी आक्रोश पैदा हो गया है। इसे लेकर लोग सोशल मीडिया पर सरकार के विरुद्ध जमकर नाराजगी जाहिर कर रहे है। वहीं उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण के प्रवक्ता ने बताया कि, ‘कैबिनेट ने दूध पाउडर, गेहूं का आटा, चीनी और तरलीकृत पेट्रोलियम गैस के लिए मूल्य नियंत्रण हटाने का फैसला किया। इसके पीछे यह यह उम्मीद थी कि इससे आपूर्ति बढ़ेगी। कीमतें 37 प्रतिशत तक बढ़ सकती हैं, लेकिन हमें उम्मीद है कि डीलर बेवजह मुनाफा नहीं कमाएंगे।’

गौरतलब है कि श्रीलंका सरकार ने गुरुवार की रात राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक के बाद दूध पाउडर, गैस, गेहूं का आटा और सीमेंट की मूल्य सीमा को खत्म करने का फैसला किया। इसके बाद से ही मूल्यों में लगातार बढ़ोतरी देखने को मिल रही है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...