1. हिन्दी समाचार
  2. विचार पेज
  3. बड़ा सवाल — वो दुनिया भर का चक्कर लगा कर जासूसी करते रहे और आप सोते रहे ?

बड़ा सवाल — वो दुनिया भर का चक्कर लगा कर जासूसी करते रहे और आप सोते रहे ?

चीन के एक गुब्बारे ने दिसंबर 2021 से मई 2022 तक पूरी दुनिया का चक्कर लगाया था जिसे अमेरिका ने बुलगर -21 का नाम दिया था।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

मनु चौधरी की कलम से

मुझे मेरे अहम् सूत्रों से पता चला है कि चीन के एक गुब्बारे ने दिसंबर 2021 से मई 2022 तक पूरी दुनिया का चक्कर लगाया था जिसे अमेरिका ने बुलगर -21 का नाम दिया था। कुछ रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि इसमें भी जासूसी उपकरण और सेंसर लगाए गए थे जोकि सभी देशो की जासूसी कर रहे थे। मुझे तो लगता है वो दुनिया भर का चक्कर लगा कर जासूसी करते रहे और सभी देशो की सरकारें और खुफिया विभाग सोते रहे।
अभी हाल ही में पेंटागन के लीक हुए खुफिया दस्तावेजो से एक बड़ा खुलासा हुआ है कि चीनी वायु सेना किसी भी वक्त ताइवान पर हवाई हमला कर सकती है। हालांकि पहले दावा किया जा रहा था कि चीन 2025 तक ताइवान के खिलाफ बड़े पैमाने पर हमला करने का प्लान बना रहा है। लेकिन, नई खुफिया रिपोर्ट ने ताइवान, अमेरिका समेत कई अन्य देशों की चिंता को बढ़ा दिया है। हालांकि ताइवान पर चीन के आक्रमण में सबसे बड़ी बाधा अमेरिका है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन तो कई बार यह ऐलान कर चुके हैं कि ताइवान पर हमला अमेरिका पर हमला माना जाएगा और उनकी अमेरिकी फौज ताइवान को बचाने के लिए इस युद्ध में शामिल होगी।
लगता है रूस यूक्रेन युद्ध से अब अमरीका का मन भर गया है और वो यूरोप से निकल कर एशिया में नई जमीन तलाश रहें हैं वर्ना चीन – ताइवान पर जितना मुखर अमरीका आजकल हो रहा है इतना कभी वो था नहीं। आप सभी गौर कीजियेगा कभी कि अमरीका युद्ध की बात अक्सर करता है क्योंकि अपने यहाँ के हथियारों के व्यापार को चमकाए रखना जो है उन्हें लेकिन कभी युद्ध रुकवाने और युद्ध न होने देने के रास्ते कभी नहीं तलाशते और न ही इन पर जब तक एक शब्द बोलते हैं जब तक युद्ध शुरू नहीं हो जाता। एक बार सारे हथियारों की इधर – उधर डील हुई नहीं कि चिंगारी भड़की ही भड़की।
Copyright Manu Chaudhary and some media source

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...