Home देश दमन दीव और दादर नगर हवेली होंगे एक केंद्र शासित प्रदेश, विलय के लिए विधेयक पेश

दमन दीव और दादर नगर हवेली होंगे एक केंद्र शासित प्रदेश, विलय के लिए विधेयक पेश

3 second read
0
8

केंद्र ने मंगलवार को दमन एंव दीव और दादर-नगर हवेली केंद्र शासित प्रदेशों का विलय करने के लिए लोकसभा में एक विधेयक पेश किया। इस विधेयक के पारित होने के बाद नए केंद्र शासित प्रदेश का नाम दादरा और नगर हवेली तथा दमन एवं दीव होगा।

दोनों केंद्र शासित प्रदेशों को मिलाकर एक करने का यह बिल केंद्रीय गृह मंत्री जी. किशन रेड्डी ने पेश किया। केंद्र सरकार का कहना है कि देश के पश्चिमी तट पर बसे इन दोनों द्वीपों को एक किए जाने से प्रशासन और बेहतर हो सकेगा।

दोनों द्वीपों के बीच महज 35 किलोमीटर की ही दूरी है, लेकिन दोनों का अलग-अलग बजट तैयार होता है। दमन और दीव में दो जिले हैं, जबकि दादर नगर हवेली में एक जिला है।

दोनों के एक केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद इसकी दो लोकसभा सीटें होंगी। बॉम्बे हाई कोर्ट पहले की तरह ही यहां के विधिक मामले देखेगा।

इसके अलावा दोनों केंद्र शासित प्रदेशों के अधिकारी यहां के कैडर में आएंगे। अन्य सभी कर्मचारी भी संयुक्त केंद्र शासित प्रदेश का हिस्सा होंगे।

जम्मू-कश्मीर व लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद देश में नौ केंद्र शासित प्रदेस हो गए हैं। गमन व दीव और दादरा व नगर हवेली के विलय के साथ केंद्र शासित प्रदेशों की संख्या घटकर आठ हो जाएगी।

Share Now
Load More In देश
Comments are closed.