1. हिन्दी समाचार
  2. क्राइम
  3. शिकायत मिलने के बाद भी बिहार पुलिस नहीं कर सकीं पिता की हिफाजत, शव मिलते ही तुरंत दफनाया

शिकायत मिलने के बाद भी बिहार पुलिस नहीं कर सकीं पिता की हिफाजत, शव मिलते ही तुरंत दफनाया

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : अक्सर सुर्खियों में रहने वाला बिहार पुलिस एक बार फिर अपने लापरवाही और सुस्त कार्यशैली को लेकर सवाल के घेरे में है। जिसने पीड़ित परिजनों द्वारा शिकायत देने के बाद भी मामले को संज्ञान में नहीं लिया और दबंगों ने पिता को मौत के घाट उतार दिया। इसके बाद पुलिस ने अपनी नाकामयाबी को छिपाने के लिए लापता पिता के मिले शव को बिना परिजनों को सुपुर्द किये ही उसे तुरंत दफना दिया।

आपको बता दें कि मामला बिहार के वैशाली से आया है, जहां एक बेटे को कुछ दबंगों ने धमकी दी थी की वो एक महीने के अंदर उसके पिता को गायब करा देंगे। इस बाबत उसने पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराया। लेकिन पुलिस उस पिता की हिफाजत करने में नाकामयाब रहा। जिससे कुछ दिनों वो पिता लापता हो गया और मिली भी तो लाश। अपने इस नाकामयाबी को छिपाने के लिए पुलिस उस पिता की लाश को तुरंत दफना दिया। हालांकि इस बाबत पुलिस किसी भी तरह के शिकायत मिलने से इंकार कर रहा है। वहीं परिजन पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगा रहे है।

मृतक के बेटे की मानें तो दबंगों ने धमकी दी थी कि एक महीने के अंदर तुम्हारे पिता को गायब कर देंगे। धमकी मिलने की शिकायत परिवार वालों ने 18 मार्च को बाई पोस्ट थाना में की, लेकिन पुलिस ने इस ओर संज्ञान नहीं लिया। इसके बाद 6 अप्रैल को वो लापता हो गए और आठ दिनों बाद 13 अप्रैल को गांव के झाड़ी में व्यक्ति की लाश मिली।

लाश मिलने की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और स्थानीय लोगों से पूछताछ की। इसके बाद पुलिस ने अमानवीय रवैया अख्तियार करते हुए जेसीबी बुलाकर शव को रात के अंधेरे में वहीं दफन कर दिया। जिसका वीडियो लगातार सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

इस संबंध में मृतक के बेटे के कहा कि पुलिस ने पहले तो मामले में संज्ञान नहीं लिया। फिर जब शव की बरामदगी हुई तो उसे दफन कर दिया। हम अपने पिता का अंतिम संस्कार भी नहीं कर पाए। वहीं जब इस मामले में, एसएचओ से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मामले में किसी प्रकार का कोई विवाद नहीं था इसलिए ऐसा किया गया है। लाश सड़ चुकी थी, पोस्टमार्टम कराना संभव नहीं था, इसलिए ऐसा किया गया। वहीं, मृतक के परिजनों द्वारा आवेदन पोस्ट किए जाने की बात को सिरे से नकारते हुए उन्होंने कहा कि किसी प्रकार का कोई आवेदन नहीं मिला है। ये सभी आपस में ही लाश की खोजबीन कर रहे थे।

आपको बता दें कि ये मामला बिहार के वैशाली जिले के महुआ थाना क्षेत्र के मुकुंदपुर गांव का है, जहां दबंगों ने व्यक्ति की हत्या कर दी और शव को झाड़ियों में फेंक दिया। जिसने एक बार फिर बिहार पुलिस की कार्यशैली पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...