Home देश COVID-19: पिछले 24 घंटे में कोरोना केसों में भारी कमी, लेकिन नहीं थम रही रफ्तार, आंकड़े अब भी चिंता बढ़ाने वाले…

COVID-19: पिछले 24 घंटे में कोरोना केसों में भारी कमी, लेकिन नहीं थम रही रफ्तार, आंकड़े अब भी चिंता बढ़ाने वाले…

2 second read
0
31

नई दिल्ली : देश में जारी कोरोना महामारी की रफ्तार लगातार पिछले कुछ दिनों से बढ़ोतरी के बाद पिछले 24 घंटें में आने वाले आंकड़ों में काफी कमी आई हैं। लेकिन यह कमी इतना भी नहीं है कि जिससे लोग राहत की सांस ले सकें। गौरतलब है कि बीते 24 घंटों में भारत में #COVID19 के 40 हाजर, 715 नए मामले आये है। जिससे देश में कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 1 करोड़,16 लाख, 86 हजार, 796 हुई। वहीं 199 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 1 लाख, 60 हजार, 166 हो गई है।

आपको बता दें कि अभी तक इस महामारी से ठीक हुए लोगों की कुल संख्या 1 करोड़ 11 लाख 81 हजार 253 हैं। वहीं कुल सक्रिय मामलों की संख्या 3 लाख, 45 हजार, 377 है। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के मुताबिक, भारत में कल तक कोरोना वायरस के लिए कुल 23,54,13,233 सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं, जिनमें से 9,67,459 सैंपल कल टेस्ट किए गए।

बता दें कि इस महामारी को लेकर देश में लगातार कोरोना वैक्सीनेशन हो रहा है, जिसके अंतर्गत देश में अभी तक कुल 4 करोड़, 84 लाख, 94 हजार, 594 लोगों को कोरोना वायरस की वैक्सीन लगाई गई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश भर में आए कुल नए मामलों में से 83.14 फीसदी मामले महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, कर्नाटक, गुजरात और मध्य प्रदेश से हैं। मंत्रालय के मुताबिक, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, पंजाब, मध्य प्रदेश, दिल्ली, कर्नाटक, गुजरात और हरियाणा में हर दिन नए मामले बढ़ रहे हैं। दिल्ली में शनिवार को इस साल पहली बार कोरोना वायरस के 800 से अधिक मामले सामने आए, जबकि दो और लोगों ने संक्रमण के कारण दम तोड़ दिया।

विशेषज्ञों के अनुसार, मामलों में वृद्धि का सबसे बड़ा कारण यह है कि लोगों को लगता है कि महामारी खत्म हो गई है और वे कोविड-19 के मानकों का पालन नहीं कर रहे हैं। एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा कि, “मामलों में वृद्धि के कई कारण हैं, लेकिन मुख्य कारण यह है कि लोगों के रवैये में बदलाव आया है और उन्हें लगता है कि कोरोना वायरस खत्म हो गया है। लोगों को अभी भी कुछ और समय के लिए गैर जरूरी यात्रा से बचना चाहिए।”

Load More In देश
Comments are closed.