1. हिन्दी समाचार
  2. मनोरंजन
  3. पिता की इच्छा के विरोध गया था ये एक्टर, फिल्मी पर्दे पर की ऐसे शुरूवात

पिता की इच्छा के विरोध गया था ये एक्टर, फिल्मी पर्दे पर की ऐसे शुरूवात

अधिकतर खलनायक की भूमिका में दिखाई देने वाले आशुतोष ने अपने करियर में एक से बढ़कर एक फिल्में दी हैं। जख्म, दुश्मन, संघर्ष, जैसे फिल्मों में उन्होंने अपने अभिनय का लोहा मनवाया है। उन्होंने इसी के दम पर नकारात्मक भूमिका में भी जान फंकने की कोशिश की।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

मुंबई: आज हम स्टोरी ऑफ द डे में बात करने वाले हैं फिल्म अभिनेता आशुतोष राणा की। जिन्होंने अपने अभिनय के दम पर बॉलीवुड में एक अलग ही पहचान बनाया है।

अधिकतर खलनायक की भूमिका में दिखाई देने वाले आशुतोष ने अपने करियर में एक से बढ़कर एक फिल्में दी हैं। जख्म, दुश्मन, संघर्ष, जैसे फिल्मों में उन्होंने अपने अभिनय का लोहा मनवाया है। उन्होंने इसी के दम पर नकारात्मक भूमिका में भी जान फंकने की कोशिश की।

बॉलीवुड में एक्टर आशुतोष राणा जल्द ही ऐतिहासिक वेब शो ‘छत्रसाल’ में सम्राट औरंगजेब की भूमिका निभाते नजर आएंगे। अनुभवी एक्टर का कहना है कि इतिहास और पीरियड ड्रामा ने उन्हें हमेशा आकर्षित किया है। फिल्मों में अपने काम के लिए मशहूर एक्टर का कहना है कि औरंगजेब का किरदार निभाना शानदार अनुभव रहा।

आशुतोष कहते हैं, ‘ऐतिहासिक नाटक अतीत में यात्राएं हैं इसलिए वे हमेशा ज्यादा कोशिश करते हैं। मैंने हमेशा पीरियड ड्रामा और बायोपिक्स को आकर्षक पाया है और वे मेरी पसंदीदा शैलियों में से एक हैं, इसलिए औरंगजेब आलमगीर का किरदार निभाना एक बेहतरीन प्रक्रिया थी।’ वेब शो बुंदेलखंड के गुमनाम योद्धा राजा छत्रसाल के जीवन पर आधारित है।

वही, आशुतोष राणा का जन्म 10 नवंबर, 1964 को मध्य प्रदेश के गाडरवाड़ा में हुआ। उनका बचपन भी गाडरवाड़ा में ही बीता। लेकिन आगे की पढ़ाई के लिए वो डॉ. हरिसिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर पहुंचे।

यहां वे छात्र नेता बनना चाहते थे। लेकिन इसी दौरान उनकी मुलाकात देवप्रकाश शास्त्री से हुई, जिन्हें आशुतोष सम्मान से दद्दा जी कहते हैं। उन्होंने आशुतोष को पॉलिटिक्स छोड़ एक्टिंग करने की सलाह दी। जिसके बाद वे एक्टिंग करने लगे।

हालांकि, आशुतोष का रूझान बचपन से ही एक्टिंग की तरफ था। वे हर साल होने वाली रामलीला में रावण की भूमिका निभाया करते थे। जबकि उनके पिता चाहते थे कि आशुतोष राणा पहलवान बनें। लेकिन देवप्रकाश शास्त्री से मिलने के बाद आशुतोष अभिनय की दुनिया में चले गए। उन्होंने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में एडमिशन ले लिया।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...