1. हिन्दी समाचार
  2. बिज़नेस
  3. डिजिटल लोन देने वाले ऐप्स पर नकेल कसने की तैयारी में आरबीआई, बन सकते हैं ये नियम

डिजिटल लोन देने वाले ऐप्स पर नकेल कसने की तैयारी में आरबीआई, बन सकते हैं ये नियम

RBI preparing to crack down on digital lending apps, these rules can be made; ऐप या डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिये लोन देने वालों पर नकेल कसने की तैयारी। वेरिफिकेशन के लिए एक नोडल एजेंसी बनाया जाना है शामिल।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

नई दिल्ली : पिछले कुछ महीनों में लोन देने वाले डिजिटल लेंडिंग प्लेटफॉर्म और मोबाइल ऐप देश में बाढ़ सी आ गई। ऐसे में ऐप या डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिये लोन देने वालों पर नकेल कसने की तैयारी की जा रही है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा गठित वर्किंग ग्रुप ने डिजिटल लोन को रेगुलेट करने के लिए कई उपायों का सुझाव दिया है, जिसमें अवैध डिजिटल लोन गतिविधियों को रोकने के लिए एक अलग कानून, डिजिटल लोन ईको-सिस्टम में कंटेस्टेंट को कवर करने को वेरिफिकेशन के लिए एक नोडल एजेंसी बनाया जाना शामिल है।

वर्किंग ग्रुप ने अपनी सिफारिशों में कहा है कि बैलेंसशीट लैंडर्स और लोन सर्विस प्रोवाइडर्स की ओर के डिजिटल लैंडिंग ऐप्स की तकनीकी विश्वसनीयता की जांच के लिए एक नोडल एजेंसी बनाई जानी चाहिए। रिपोर्ट में कहा गया है कि नोडल एजेंसी को अपनी वेबसाइट पर वेरिफाइड ऐप्स का रजिस्टर मेंटेन करने की जिम्मेदारी दी जाएगी।

सूत्रों ने कहा कि डिजिटल लोन गतिविधियों को ठीक से रेगुलेट करने की जरूरत पर फाइनेंशियल सेक्टर के रेगुलेटर और सरकार का एक ही रुख है और वर्किंग ग्रुप की कई सिफारिशों का जल्द ही इस क्षेत्र के लिए बनाए गए कानून और प्रक्रियाओं में उल्लेख किया जा सकता है। आरबीआई वर्किंग ग्रुप ने अपनी रिपोर्ट में यह भी सिफारिश की है कि डिजिटल लोन लेने वालों के बैंक खातों में सीधे तौर पर छूट दी जानी चाहिए और केवल डिजिटल ऋणदाताओं के बैंक खातों के जरिए ही लोन का वितरण किया जाना चाहिए।

वर्किंग ग्रुप ने यह भी सिफारिश की है कि डिजिटल लोन के लिए गैरजरूरी कमर्शियल कम्युनिकेशन का उपयोग प्रस्तावित एसआरओ द्वारा लागू की जाने वाली आचार संहिता द्वारा कंट्रोल किया जाना चाहिए. इसके अलावा, प्रस्तावित एसआरओ द्वारा लोन देने वालों की एक ‘ब्लैक लिस्ट’ बनानी होगी। यह (एसआरओ) आरबीआई के सुझाव से वसूली के लिए एक स्टैंडर्डाइज्ड कोड ऑफ कंडक्ट भी तैयार करेगा। आरबीआई ने 13 जनवरी, 2021 को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म और मोबाइल ऐप के जरिए लोन देने सहित डिजिटल लोन पर डब्ल्यूजी का गठन किया था, जिसके अध्यक्ष के रूप में आरबीआई के कार्यकारी निदेशक जयंत कुमार दास थे। यह डिजिटल लोन गतिविधियों में तेजी से उत्पन्न होने वाले कमर्शियल एक्टिविटी और कंज्यूमर सिक्योरिटी के लिए स्थापित किया गया था।

उपभोक्ता डेटा की सुरक्षा के प्रयास के रूप में वर्किंग ग्रुप ने सुझाव दिया है कि डेटा संग्रह की परमिशन केवल लोन लेने वालों की पूर्व और स्पष्ट सहमति के साथ सत्यापन योग्य ऑडिट ट्रेल्स के साथ दी जानी चाहिए। इसके अलावा, सभी डेटा को भारत में स्थित सर्वर में आर्काइव किया जाना चाहिए। आरबीआई वर्किंग ग्रुप ने यह भी सिफारिश की है कि आवश्यक पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए डिजिटल लोन में उपयोग की जाने वाली एल्गोरिथम सुविधाओं का डॉक्यूमेंटेशन किया जाना चाहिए। साथ ही, हर डिजिटल ऋणदाता को वार्षिक प्रतिशत दर सहित एक मानकीकृत प्रारूप में एक महत्वपूर्ण तथ्य विवरण देना चाहिए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...