1. हिन्दी समाचार
  2. Breaking News
  3. गंगा के घाट पर बाल बिखेर चिल्लाती महिलाएं, देशभर के तांत्रिकों का लगा मेला, ‘भूत भगाने’ को कई शहरों से आए लोग

गंगा के घाट पर बाल बिखेर चिल्लाती महिलाएं, देशभर के तांत्रिकों का लगा मेला, ‘भूत भगाने’ को कई शहरों से आए लोग

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

कानपुर: गंगा दशहरा के पावन अवसर पर लोग मां गंगा की पूजा अर्चना कर अपनी प्रगति की प्रार्थना करतें हैं, तो वहीं कानपुर जिले के गंगा घाट एक ऐसा अजीब दृश्य देखने को मिला कि आप भी देखकर दंग रह जायेंगे। यहां गंगा दशहरा के पावन पर्व पर अंधविश्वास का मेला लगा दिखाई दिया। खुले बाल, चीखती-चिल्लाती महिलाएं और भूत भगाता तांत्रिक ही गंगा घाट पर दिखा। कानपुर इंजीनियरिंग संस्थानों का हब कहा जाता है। इसके बाद भी देशभर के तांत्रिकों का जमावड़ा वहां दिखाई दिया।

आपको बता दें कि कानपुर में दशहरा के अवसर पर गंगा घाट पर बड़ा ही अजीब दृश्य था। अंधविश्वास का ऐसा खेल खेला जा रहा था, जो हैरान कर देने वाला है। घाट पर जगह-जगह सजी तांत्रिकों की चौकी। उस पर रखे नींबू, पान, लौंग के साथ पूजा की अन्य सामान। कहीं सिर हवा में जोर से घुमाती महिलाएं, तो कहीं लड़कियों के बाल कसकर पकड़े बैठा तांत्रिक।

यहां गंगा दशहरा पर मां गांगा के घाट पर टोने-टोटके से हर समस्या के निदान का दावा किया जा रहा था, तो वहीं तंत्र शक्ति से भूत भगाए जा रहे थे। आपको बता दें कि बिठूर के पत्थर घाट पर इस मेले की कहानी नई नहीं है, बल्कि यहां कई वर्षों की पुरानी है। इस मेले में दूर-दराज से लोग भूत-प्रेत उतरवाने के लिए आते हैं।

अंधविश्वास ऐसा हावी है कि मानता है कि यहां इस दिन तंत्र क्रिया के माध्यम से लोगों के सिर आई किसी भी बाधा को आसानी से भगाया जा सकता है। हैरानी की बात तो ये भी है कि यहां आने वाले लोग झाड फूंक करवाने के बाद आसानी ये भी मान लेते हैं, कि परिजन की हालत ठीक हो गई है।

झाड फूंक के दौरान वहां का दृश्य देख आप भी सहम जायेंगे। घाट पर तांत्रिक के सामने घंटों तक झूमती, चिल्लाती नजर आती महिलाएं, तो वहीं झाड़ फूक कर उन महिलाओं को ठीक करने के नाम पर बालों को खींचता चिल्लाता तांत्रिक भी नजर आता है।

 नजर आई एक लड़की की मां से जब बात की, तो उसने बताया कि वे कालपी से आए हैं. उसने बताया कि बेटी को डॉक्टर को दिखाया था, लेकिन कोई आराम नहीं मिला. बेटी पर भूत आ गया था, अब वह सही हो गई है.

गंगा दशहरा के दिन यहां यूपी, मध्य प्रदेश के कई जिलों से लोग ऊपरी चक्कर समाप्त करवाने के लिए आते हैं। ज्यादातर उसी इलाके के लोग आते हैं, जिस इलाके में गंगा नहीं बहती है। भूत उतारने के बाद गंगा स्नान कराया जाता है।

आपको बता दे कि दशहरा पर यहां लगे मेले में बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ उमड़ी। हालांकि कोरोना महामारी के इस समय में लोगों ने गाइडलाइन का भी उल्लंघन किया है। न तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए लोग देखे गए, नाहीं उनके मुंह पर मास्क दिखाई दिया।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...