1. हिन्दी समाचार
  2. Breaking News
  3. जब हाथियों ने रोका उत्तराखंड के सीएम का काफिला, जानें फिर क्या हुआ…

जब हाथियों ने रोका उत्तराखंड के सीएम का काफिला, जानें फिर क्या हुआ…

मंगलवार देर शाम मुख्यमंत्री धामी पंतनगर एयरपोर्ट से कार द्वारा हल्द्वानी के लिए रवाना हुए। शाम करीब 6.30 बजे टांडा बैरियर के पास हाथियों का झुंड अचानक बीच सड़क पर आ गया। इस दौरान सीएम के काफिले में मौजूद सुरक्षा कर्मियों और पुलिस बल के हाथ-पांव फूल गए।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: अनुष्का सिंह

नई दिल्ली: उत्तराखंड में पिछले कई दिनो से लगातार बारिश हो रही है, जिस कारण आम लोगों का जीना मुहाल हो गया है। बारिश के कारण हुई भूस्खलन ने कई लोगों की जान ले ली। मिली जानकारी के अनुसार इस प्राकृतिक आपदा में अब तक 47 लोगों की मौत हुई है। नैनीताल आपदा प्रबंधन विभाग ने जिले में 25 लोगों की मौत और सात लोगों के लापता होने की पुष्टि की है। मृतकों में उत्तर प्रदेश और बिहार के 14 मजदूर हैं।

इसी बीच मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के दौरे पर जा रहे थे। तभी पंतनगर से हल्द्वानी आते वक्त टांडा बैरियर के पास हाथियों का झुंड आ जाने के कारण मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के काफिले को रोकना पड़ा। करीब 20 मिनट तक इंतजार के बाद हाथियों का ये झुंड जंगल की ओर चला गया। इसके बाद मुख्यमंत्री धामी का काफिला हल्द्वानी की ओर रवाना हो सका।

खबरों के मुताबिक, मंगलवार देर शाम मुख्यमंत्री धामी पंतनगर एयरपोर्ट से कार द्वारा हल्द्वानी के लिए रवाना हुए। शाम करीब 6.30 बजे टांडा बैरियर के पास हाथियों का झुंड अचानक बीच सड़क पर आ गया। इस दौरान सीएम के काफिले में मौजूद सुरक्षा कर्मियों और पुलिस बल के हाथ-पांव फूल गए।

उन्होंने हूटर और हॉर्न बजाकर हाथियों के झुंड का जंगल की ओर रुख किया। सीएम के काफिले में शामिल भाजपा नेता विकास शर्मा ने बताया कि हाथियों के झुंड के अचानक सड़क पर आ जाने के कारण यह स्थिति पैदा हुई। बताया कि इस वजह से करीब 20 मिनट तक सीएम का काफिला यहां ठहरा रहा।

आपको बता दें कि इससे पहले मुख्यमंत्री धामी ने बारिश से बेहाल कई इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। उन्होंने प्रभावित लोगों से बातचीत की और जानमाल के नुकसान का आंकलन किया। साथ ही, बारिश में मारे गए लोगों के लिए बीजेपी सरकार ने 4-4 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान किया है। वहीं जिनका घर ध्वस्त हुआ है, उन्हें 1.10 लाख रुपये मिलेंगे। मवेशियों को मारे जाने पर भी क्षतिपूर्ति दी जाएगी।

बता दें कि उत्तराखंड में बारिश से उत्पन्न हालात को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने भी सीएम धामी से बात की और सुरक्षा की सुविधा की जानकारी ली। इसके साथ ही उन्होंने राज्य को हरसंभव मदद का भी भरोसा दिया। आपको बता दें कि एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें लगातार प्रभावित इलाकों में राहत एवं बचाव कार्यों में पहले से ही जुटी हुई है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...