1. हिन्दी समाचार
  2. Breaking News
  3. गैंगरेप का शिकार हुई 14 साल की बच्ची…. घर वालों ने भी किया रखने से इनकार, फिर आगे हुआ ये…

गैंगरेप का शिकार हुई 14 साल की बच्ची…. घर वालों ने भी किया रखने से इनकार, फिर आगे हुआ ये…

14 year old girl victim of gang rape; 14 साल की मासूम बच्ची से तीन युवकों ने की दरिंदगी। दोस्त बनकर दिया रेप की घटना को अंजाम। परिवार वालों ने किया अपनाने से इंकार।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : 14 साल की बच्ची की दोस्ती उसके घर के पास ही रहने वाले 26 साल के एक युवक से होता है। इसके बाद युवक उस मासूम बच्ची को मिलने के लिए एक गार्डन में बुलाता है। जहां पहले से ही उसके दो दोस्त मौजूद रहते है। लड़की को अकेला देखकर तीनों युवक लड़की पर भैड़ियों की तरह टूट पड़ते है और उसके इज्जत को तार-तार कर देते है।

आपको बता दें कि ये घटना छत्तीसढ़ के रायपुर की है। जानकारी के मुताबिक, वारदात 15 अगस्त की है। 14 साल की बच्ची की दोस्ती उसके घर के पास ही रहने वाले 26 साल के राहुल सेन से थी। 15 अगस्त को राहुल ने बच्ची को मिलने के लिए खरोरा के एक गार्डन में बुलाया था। यहां 21 साल का कुणाल सेन और 19 साल का सुनील धीवर पहले से ही मौजूद था। दोनों राहुल के दोस्त हैं। मौका पाकर तीनों बदमाशों ने बच्ची के साथ दुष्कर्म किया।

इस दौरान तीनों आरोपियों ने बच्ची के साथ मारपीट भी की और उसे धमकाते हुए कहा कि अगर इस बारे में किसी से कुछ कहा तो उसकी और उसके घर वालों की हत्या कर देंगे। इससे घबराकर बच्ची ने अपने साथ ही वारदात की जानकारी किसी को नहीं दी और खरोरा से भागकर वो रायपुर रेलवे स्टेशन आ गई।

यहां से हैदराबाद जा रही ट्रेन में सवार हो गई। ट्रेन में अकेली बच्ची को देख RPF ने पूछताछ की तो बच्ची ने वारदात की जानकारी दी। साथ ही बताया कि उसने सोचा कि दूसरे शहर जाकर मजदूरी करते हुए आगे की जिंदगी बिताएगी। ट्रेन जब नागपुर पहुंची तो बच्ची को घबराए हुए रेलवे की पुलिस ने देखा। इसके बाद पुलिस ने बच्ची को सुरक्षित रायपुर भेजा और खरोरा पुलिस को सारी बात बताई। इसके बाद पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई थी। उनके घर पर छापेमारी की गई लेकिन वो नहीं मिले। सोमवार को पुलिस ने तीनों आरोपियों को गुप्त सूचना के बाद पकड़ लिया।

परिवार ने भी किया अपनाने से इंकार

गैंगरेप की घटना का शिकार हुई 14 साल की लड़की का साथ अब उसके घर वाले ही नहीं दे रहे। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, पुलिस जब बच्ची को उसके घर ले गई तो उसके परिजन ने उसे घर में रखने से इनकार कर दिया। फिलहाल, पिछले कुछ दिनों से बच्ची रायपुर के एक शेल्टर होम में रहने को मजबूर है। पुलिस और कुछ सामाजिक संस्थाएं घरवालों की काउंसिलिंग कराकर बच्ची की नई जिंदगी दोबारा शुरू करवाने के प्रयास में हैं।

एक अधिकारी की जानकारी के मुताबिक, तीनों आरोपियों ने बच्ची के साथ मारपीट भी की और उसे धमकाते हुए कहा कि अगर इस बारे में किसी से कुछ कहा तो उसकी और उसके घर वालों की हत्या कर देंगे। इससे घबराकर बच्ची ने अपने साथ ही वारदात की जानकारी किसी को नहीं दी और खरोरा से भागकर वो रायपुर रेलवे स्टेशन आ गई और यहां से हैदराबाद जा रही ट्रेन में सवार हो गई। ट्रेन जब नागपुर पहुंची तो ट्रेन में अकेली बच्ची को घबराए हुए देख RPF ने पूछताछ की तो बच्ची ने वारदात की जानकारी दी।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...