1. हिन्दी समाचार
  2. Breaking News
  3. शाही स्नान में दिखी श्रद्धालुओं की भारी भीड़, लाखों ने लगाई आस्था की डुबकी

शाही स्नान में दिखी श्रद्धालुओं की भारी भीड़, लाखों ने लगाई आस्था की डुबकी

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: नंदनी तोदी

हरिद्वार: उत्तराखंड के हरिद्वार में आयोजित महाकुम्भ का आगाज़ 1 अप्रैल से हो गया था। जिसके बाद आज शाही स्नान को लेकर काफी चहल-पहल का मौहाल दिखा। कुंभ का दूसरा शाही स्नान आज यानी सोमवती अमावस्या को है और इस अवसर पर सभी 13 अखाड़ों द्वारा हर की पौड़ी ब्रह्मकुंड पर मां गंगा में डुबकी लगाई जाती है।

परंपरागत तरीके से स्नान के तहत दूसरे शाही स्नान पर सबसे पहले निरंजनी अखाड़ा और आनंद अखाड़ा द्वारा स्नान किया गया है। गंगा स्नान के लिए निरंजनी अखाड़ा और आनंद अखाड़ा को करीब साढ़े दस बजे का समय हर की पौड़ी ब्रह्मकुंड पर स्नान के लिए दिया गया है और इसको लेकर अखाड़े नागा सन्यासी, संत, महामण्डलेश्वर आदि अपने देवता और निशान के साथ आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशनन्द गिरि महाराज और आनन्द अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी बालकानन्द गिरी के नेतृत्व में अपनी अपनी छावनी से पूरे राजसी शान के साथ निकल गए थे।

बड़ी संख्या में नागा सन्यासियों के साथ संतो के भोलेनाथ के जयजयकारों के साथ रवाना होने का अलौकिक दृश्य देखने को मिलो ओर 11 वर्ष बाद आये इस अवसर और अलौकिक दृश्य को  देखने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु सड़को पर खड़े होकर संत सामाज के प्रति अपनी आस्था व्यक्त कर रहे है इसमे महामण्डलेश्वर रथों पर सवार है और उनका अभिवादन स्वीकार कर रहे है। इस दौरान संतों पर फिओलों की वर्षा भी की गई ।

इस शाही स्नान में नेपाल के सम्राट ज्ञानेंद्र बीर बिक्रम शाह देव पहली बार शामिल हुए। उन्होनें कहा कि सर्वप्रथम यह मौका पाया तो मुझे अत्यंत हर्ष है। आज इस पवित्र दिन में अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखें, समय के अनुसार गंगा में स्नान करें और पवित्र गंगा की पूजा करें भाग्य में हो और पवित्र जल में स्नान करना ही पड़ता है।

वहीं नेपाल के सम्राट के आने पर श्री महंत रवींद्र पुरी महाराज ने कहा, यह हमारा भारत और नेपाल का मैत्री संदेश है कि हम सब जो हिंदू राष्ट्र एक हो रहा है भारत और नेपाल एक होना है, एक साल पहले हमारे बीच जो खटास पैदा हुई थी वह सब दूर हो गई है और हमें यह संदेश दिया यहां से की भारत और हिंदुस्तान एक है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...