1. हिन्दी समाचार
  2. भाग्यफल
  3. गंगा पुत्र भीष्म की मृत्यु का रहस्य ! क्यों हुआ अम्बा का पुर्नजन्म ?

गंगा पुत्र भीष्म की मृत्यु का रहस्य ! क्यों हुआ अम्बा का पुर्नजन्म ?

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

हम सब इस बात को जानते है की महाभारत में भीष्म से बड़ा कोई बलशाली नहीं था और उन्हें इच्छा मृत्यु का वरदान था लेकिन उनकी मृत्यु का रहस्य कम लोग जानते है।

तो आज हम आपको बताते है कि उनकी मृत्यु का राज़ क्या था।

दरअसल शांतनु की मृत्यु के बाद विचित्रवीर्य सिंहासन बैठे तो उनके विवाह के लिए भीष्म ने बलपूर्वक काशीराज की 3 पुत्रियों का हरण कर लिया जिनके नाम अम्बा, अम्बिका और अम्बालिका थे।

लेकिन बड़ी राजकुमारी अम्बा को छोड़ दिया गया, क्योंकि वह शाल्वराज को चाहती थी, भीष्म ने नियम के चलते उसे राजा के पास भेज दिया लेकिन राजा ने उसे स्वीकार नहीं किया।

अतः वह हस्तिनापुर लौटकर आ गई और भीष्म से बोली, अब आपको मुझसे विवाह करना होगा। भीष्म ने अपनी प्रतिज्ञा के कारण उसे ना कह दिया। अम्बा दुखी होकर परशुराम के पास गई।

परशुराम जी ने उसकी सहायता करने के लिए भीष्म से विवाह करने का निवेदन किया लेकिन उन्होंने इंकार कर दिया और दोनों के बीच भयानक युद्ध हुआ।

बाद में खुद महादेव को यह युद्ध रोकना पड़ा और हताश अम्बा सती हो गयी और अगले जन्म में उसने शिखंडी के रूप में जन्म लिया।

कुरुक्षेत्र के युद्ध में १० वें दिन वह भीष्म के सामने आ गया और भीष्म उसे जान गए की ये अम्बा है।

भीष्म ने उस पर प्रहार नहीं किया और इसी का फायदा उठाकर अर्जुन ने बाणों की बौछार पितामह पर कर दी और बाणों की शैय्या पर उनको लिटा दिया।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...