1. हिन्दी समाचार
  2. भाग्यफल
  3. 16 जुलाई को सूर्य कर्क राशि में : कब खत्म होगा चीन से विवाद ! जानिए

16 जुलाई को सूर्य कर्क राशि में : कब खत्म होगा चीन से विवाद ! जानिए

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

भगवान् सूर्य नारायण 16 जुलाई को मिथुन राशि से निकलकर जल तत्व राशि कर्क में आ रहे है। इसी के साथ वर्षा में तेजी आनी शुरू हो जाएगी। कर्क राशि का स्वामी चन्द्रमा सूर्य का मित्र है इसलिए यह गोचर देश के लिए अच्छा रह सकता है।

मिथुन राशि में बैठे राहु से सूर्य दूसरे भाव में आ रहे है। इससे पहले मिथुन राशि में राहु के साथ उनकी युति से देश में असंतोष, राजनीतिक द्वेष और सत्ता पक्ष को आरोप सहने पड़े। मंगल की दृष्टि के कारण सेना पर हमले और कानपुर जैसी घटना भी हुई।

लेकिन अब कर्क में आ रहे सूर्य ना सिर्फ देश के लिए बल्कि सत्ता पक्ष के लिए भी शुभ रहने वाले है। चीन के साथ विवाद उनके मिथुन में आते ही शुरू हुआ था जो कि इस महीने निपटने की उम्मीद की जा सकती है। कोरोना की बात करे तो जल के किनारें जो शहर बसे है उन्हें अब भी सावधान रहना होगा।

कर्क जलतत्व राशि है। फिलहाल शनि सूर्य से सातवें भाव में है और शनि वक्री भी है। शनि और सूर्य मे दृष्टि सम्बन्ध बन रहा है जो कि मजदुर वर्ग के लिए शुभ नहीं है ,रोज़गार के मोर्चे पर सरकार को राहत नहीं मिलेगी।

1 अगस्त को शुक्र मिथुन में राहु के साथ आ रहे है और उस पर मंगल की दृष्टि होगी वही कर्क में सूर्य होंगे। इस दौरान देश के पश्चिमी हिस्से में बाढ़ आ सकती है। पीएम मोदी के नजरिए से देखे तो उनकी कुंडली में सूर्य का गोचर अब भाग्य स्थान में होगा।

एक महीनें से उनका सूर्य का गोचर आठवें भाव में था और मंगल से दृष्ट था। यही कारण था कि उन्हें विपक्ष के इतने आरोप झेलने पड़े थे। लेकिन जैसे ही सूर्य का गोचर भाग्य स्थान में होगा जिसके कारण वो बड़े निर्णय ले सकते है। चीन पर और सख्ती हो सकती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...