1. हिन्दी समाचार
  2. भाग्यफल
  3. सीता नवमी आज: त्याग और धैर्य की मूर्ति है माता सीता, पढ़िये

सीता नवमी आज: त्याग और धैर्य की मूर्ति है माता सीता, पढ़िये

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

हिन्दू पंचांग के अनुसार, माता सीता का प्राकट्य त्रेतायुग में वैशाख शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को हुआ था। इस साल यह तिथि 2 मई को पड़ रही है। इसलिए सीता नवमी का पर्व 2 मई यानी आज है।

इस दिन माता सीता का जन्मदिवस मनाया जाता है। सुबह 10:58 से दोपहर 01:38 बजे तक माता सीता की पूजा का समय रहेगा। अगर माता सीता का जीवन देखा जाए तो वो एक ऐसी स्त्री है जिसमें त्याग और धैर्य था। 

विवाह के ठीक बाद 14 वर्ष का वनवास राम को मिला था लेकिन उनकी पत्नी होने के नाते माता सीता ने उनके साथ वन में जाना स्वीकार किया। वो मना कर सकती थी अपने पिता के यहां जा सकती थी लेकिन उन्होंने सब राज पाट का त्याग कर दिया और अपने पति का साथ दिया। 

माता सीता जब वन में गयी तो रावण द्वारा उनका हरण कर लिया गया लेकिन माता सीता ने जमकर रावण का सामना किया और उसकी पत्नी बनना स्वीकार नहीं किया। वो अशोक वाटिका में रही लेकिन रावण की रानी नहीं बनी। 

वो रावण की ताकत जानती थी लेकिन उन्हें राम पर विश्वास था। माता सीता में इतना धैर्य था की उन्होंने हमेशा राम नाम का जप किया और इसी विश्वास से रावण का सामना किया कि एक दिन राम उन्हें आकर लेकर जायेगे। 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...